मिलावटी या बासा पनीर खाने से हो सकती है यह गंभीर बीमारी

मिलावटी या बासा पनीर खाने से हो सकती है यह गंभीर बीमारी

Amanpreet Kaur | Publish: Sep, 16 2018 03:26:38 PM (IST) स्वास्थ्य

आए दिन अखबरों में और न्यूज चैनल पर मिलावटी पनीर पकड़े जाने की खबरें आती हैं। मिलावट का खेल तेजी से बढ़ रहा है और लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहा है।

आए दिन अखबरों में और न्यूज चैनल पर मिलावटी पनीर पकड़े जाने की खबरें आती हैं। मिलावट का खेल तेजी से बढ़ रहा है और लोगों की सेहत के साथ खिलवाड़ कर रहा है। केवल मिलावटी पनीर ही नहीं, बल्कि बासा पनीर या फिर कुछ दिन पुराना पनीर भी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है। असल में पनीर ज्यादा दिनों तक रखा जाए तो इसमें कुछ माइक्रोबायोलॉजिकल बैक्टीरिया पैदा होने लगते हैं। यह अप्रत्यक्ष रूप से हमारे शरीर के लिए हानिकारक होते हैं।

आपको बता दें कि जब दूध के प्लांट से दूध या कोई भी मिल्क प्रोडक्ट मैन्यूफैक्चर होता है, तो वहां से रिटेलर के पास और कंज्यूमर तक पहुंचाने के लिए एक कोल्ड चेन मेंटेन करनी होती है। इस दौरान प्रोडक्ट को 8 डिग्री से ज्यादा तापमान में नहीं रखा जाना चाहिए। अगर ऐसा न किया जाए तो इसमें कई तरह के बैक्टीरिया पनपने लग जाते हैं। कच्चा पनीर अगर खुले में ज्यादा देर तक रखा जाए, तब भी उसमें बैक्टीरिया पैदा होने की आशंका बढ़ जाती है।

हाल ही कंज्यूमर वॉयस ने बीआईएस और एफएसएसआई के मानकों के आधार पर पनीर का डीएनए टेस्ट करवाया था। इस टेस्ट में पाया गया कि पनीर के तीन ब्रांड ऐसे हैं जिनके अंदर माइक्रोबायोलॉजिकल कंटेंट नहीं है, लेकिन चार ऐसे भी ब्रांड हैं जिनमें माइक्रोबायोलॉजिकल कंटेंट काफी मात्रा में पाए गए हैं। आपको बता दें कि माइक्रोबायोलॉजिकल एक तरह के बैक्टीरिया कंटेंट होता है और यह किसी भी फूड प्रोडक्ट में हाइजीन की कमी के कारण पनपता है। इससे वह फूड प्रोडक्ट खाने लायक नहीं रहता और हमें बीमार बना सकता है।

कोल्ड चेन का ध्यान रखना जरूरी

दरअसल, अगर प्लांट जहां से दूध या दूध के कोई उत्पाद तैयार होकर रिटेलर के पास आते हैं उस दौरान अगर कोल्ड चेन का ध्यान नहीं रखा गया और फूड प्रोडक्ट को 8 डिग्री से ज्यादा तापमान में रखा गया तो उसमें ये बैक्टेरिया पैदा हो जाते हैं। जब हमने एफएसएसआई से उनके मानकों पर बात की तो FSSAI के स्टैंडर्ड और रेगुलेशन एडवाइजर सुनील बक्शी ने कहा, हमारे पास मिल्क प्रोडक्टस के लिए स्टैंडर्ड हैं, लेकिन वो मैन्यूफ्रेक्चर्रर के स्तर पर है। सेफ्टी क्राइटेरिया को ध्यान में रखते हुए स्टैंडर्ड बने हैं लेकिन हाइजीन का स्तर ज्यादातर रिटेलर के एंड से देखा जाना चाहिए।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned