scriptतेजी से पांव पसार रहा डेंगू, एक दिन में मिले 286 मरीज | Patrika News
स्वास्थ्य

तेजी से पांव पसार रहा डेंगू, एक दिन में मिले 286 मरीज

विशेषज्ञों के अनुसार आने वाले दिनों में डेंगू का डंक और तेज होने की संभावना है। बच्चे तेजी से डेंगू बुखार Dengue Fever की चपेट में आ रहे हैं। गर्भवती महिलाओं को भी विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। लगातार बारिश के कारण जमा पानी और कचरे ने मच्छरों को तेजी से अपनाने का अवसर दिया है।

बैंगलोरJul 05, 2024 / 08:27 pm

Nikhil Kumar

-बीबीएमपी क्षेत्र में 1563 सहित राज्य में सामने आए कुल 6676 मामले

बेंगलूरु. राज्य Karnataka में डेंगू तेजी से पांव पसार रहा है। हर दिन के साथ मरीजों की संख्या बढ़ रही है। विशेषज्ञों के अनुसार आने वाले दिनों में डेंगू का डंक और तेज होने की संभावना है। बच्चे तेजी से डेंगू बुखार Dengue Fever की चपेट में आ रहे हैं। गर्भवती महिलाओं को भी विशेष सावधानी बरतने की जरूरत है। लगातार बारिश के कारण जमा पानी और कचरे ने मच्छरों को तेजी से अपनाने का अवसर दिया है। मॉनसून में एडीजिप्टिमोस्किटो का प्रसार तेज हो जाता है। यह डेंगू, चिकनगुनिया और जीका वायरस रोग के लिए एक वेक्टर है। चिकित्सकों ने तेज बुखार और शरीर में दर्द आदि लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करने की सलाह दी है। मच्छरों से बचाव व साफ-सफाई ही सर्वश्रेष्ठ उपाय है।
बृहद बेंगलूरु महानगर पालिका (बीबीएमपी) क्षेत्र में 123 सहित राज्य में बीते एक दिन में डेंगू के 286 नए मामले सामने आने से अभी तक के कुल मरीजों की संख्या 6,676 पहुंच गई है। इनमें से 1,563 मामले अकेले बेंगलूरु शहर (बीबीएमपी क्षेत्र) में मिले है।
बेंगलूरु में सबसे अधिक संदिग्ध

इतना ही नहीं, बेंगलूरु Bengaluru में डेंगू के संदिग्ध मामलों की संख्या सबसे अधिक 1,05,283 (बीबीएमपी सीमा के अंतर्गत) है। इसके बाद चिकमगलूरु (512), मैसूरु (479) और हावेरी (463) जिले हैं। राज्य में अभी डेंगू के कुल 695 सक्रिय मामले हैं। डेंगू के छह मरीजों की मौत हुई है। मृत्यु दर 0.08 फीसदी है।
एक वर्ष या इससे कम के 127 मरीज

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार राज्य में बीते एक दिन में 1,502 डेंगू परीक्षण हुए। 286 नए मरीजों में चार की उम्र एक वर्ष या इससे कम है। इसके साथ ही इस आयु वर्ग के मरीजों की कुल संख्या 127 पहुंच गई है। 50 मरीजों की उम्र एक से 18 वर्ष के बीच है जबकि 232 मरीजों की आयु 18 वर्ष या इससे ज्यादा है।
जिला – मामले – सक्रिय मामले

बीबीएमपी – 1,686 – 123

बेंगलूरु (शहरी) – 31 – 23

बेंगलूरु (ग्रामीण) – 27 – 13

रामनगर – 60 – 19

कोलार – 57 – 38
चिकबल्लापुर – 89 – 0

तुमकूरु – 170 – 37

चित्रदुर्ग – 265 – 0

दावणगेरे – 159 – 4

शिवमोग्गा – 283 – 0

बेलगावी – 177 – 2
विजयपुर – 176 – 59

बागलकोट – 58 – 9

धारवाड़ – 289 – 121

गदग – 49 – 0

हावेरी – 481 – 32

उत्तर कन्नड़ – 119 – 6
कलबुर्गी – 180 – 29

यादगीर – 5 – 1

बीदर – 44 – 3

बल्लारी – 84 – 53

विजयनगर – 29 – 8

रायचुर – 39 – 7
कोप्पल – 92 – 0

मैसूरु – 496 – 17

चामराजनगर – 54 – 0

मंड्या – 189 – 0

हासन – 205 – 13

दक्षिण कन्नड़ – 263 – 30
उडुपी – 196 – 16

चिकमगलूरु – 521 – 30

कोडुगू – 102 – 2

जांच दर में 42 प्रतिशत की वृद्धि

पिछले साल की तुलना में जांच दर में 42 प्रतिशत की वृद्धि होने के कारण डेंगू के अधिक मामले सामने आ रहे हैं। बारिश के कारण पानी जमा हो जाता है, जिससे डेंगू के मामले बढ़ जाते हैं। निगरानी और लार्वा नियंत्रण के उपाय, घर-घर सर्वेक्षण, पानी के ठहराव को रोकने के उपाय किए जा रहे हैं। जागरूकता अभियान भी तेज किया गया है। समय पर पता लगने से जटिलताओं और मौतों को रोकने में मदद मिल सकती है। स्वास्थ्य विभाग और बीबीएमपी के अधिकारियों को सतर्क रहना चाहिए और समन्वय के साथ काम करना चाहिए।
-दिनेश गुंडूराव, स्वास्थ्य मंत्री

वर्ष – मामले – मौतें

2015 – 5,077 – 09

2016 – 6,086 – 08

2017 – 17,844 – 10

2018 – 4,427 – 04

2019 – 16,986 – 13
2020 – 3,823 – 00

2021 – 7,393 – 07

2022 – 9,889 – 09

2023 – 19,300 – 11

2024 – 6,676 – 05 (4 जुलाई तक )

-स्रोत : राष्ट्रीय मच्छर जनित बीमारी नियंत्रण केंद्र
बच्चों को लेकर रहें सतर्क

वयस्कों की अपेक्षा बच्चों में डेंगू बुखार की चपेट में आने का खतरा ज्यादा होता है। बच्चों में डेंगू के साथ अब सबसे बड़ी समस्या ये है कि कई मरीज बिना लक्षण के होते हैं। आम तौर पर मच्छर के काटने के करीब 10 दिनों बाद लक्षण सामने आते हैं। कई अभिभावक इसे आम बुखार समझकर गंभीरता से नहीं लेते हैं। कई तो जांच तक करवाने नहीं आते हैं। डेंगू में सबसे पहले बुखार आता है। बच्चे पूरी तरह अपनी बीमारी बता नहीं पाते हैं। प्लेटलेट्स गिरने से अचानक गंभीर रूप से बीमार पड़ जाते हैं। प्लेटलेट्स जांच करें। तेज बुखार, सिर दर्द, मांसपेशियों, हड्डी या जोड़ों में दर्द, जी मिचलाना, उल्टी, आंखों के पीछे दर्द, ग्रंथियों में सूजन और दाने आदि डेंगू बुखार के लक्षण हो सकते हैं।
– डॉ. प्रकाश वेमगल, बाल रोग विशेषज्ञ

Hindi News/ Health / तेजी से पांव पसार रहा डेंगू, एक दिन में मिले 286 मरीज

ट्रेंडिंग वीडियो