जब सताए कान का दर्द तो आजमाएं ये एक्यूप्रेशर टिप्स, तुरंत मिलेगी राहत

कान के नीचे की लोब के बीच मौजूद बिंदु, कान के नीचे की धारा पर जबड़े की बाहरी रेखा पर स्थित तीन बिंदुओं और कान के बाहर उपस्थित पॉइंट्स पर प्रेशर बनाएं।

कान में होने वाला दर्द दांत की जड़, जबड़ा, सिर और गले की नसों तक को प्रभावित करता है। जानते हैं इस दर्द का कारण व एक्यूप्रेशर उपचार-




मुख्य कारण : सर्दी-जुकाम, कान में पानी जाना, चोट या इसके आसपास लगी चोट, फुंसी या जख्म, साधारण जलन की स्थिति में खुरचनेे, संक्रमण या एलर्जी से भी दर्द होता है।



इलाज : कान के नीचे की लोब के बीच मौजूद बिंदु, कान के नीचे की धारा पर जबड़े की बाहरी रेखा पर स्थित तीन बिंदुओं और कान के बाहर उपस्थित पॉइंट्स पर प्रेशर बनाएं।



ऐसे करें : दिन में 3-4 बार 20-20 सेकंड के लिए तर्जनी अंगुली व अंगूठे से इन बिंदुओं पर हल्का दबाव बनाएं।




कान का संक्रमण दूर करने के घरेलू नुस्‍खे

कान का संक्रमण बैक्‍टीरियल और वायरल संक्रमण की वजह से ही होता है। कान के संक्रमण को यदि पूरी तरह से ठीक करना हो तो घरेलू नुस्‍खे बड़े काम के होते हैं।




लहसुन 3-4 लहसुन की कलियों को थोड़े से पानी में ५ मिनट के लिए उबालें। फि र उसमें पीस कर थोड़ा सा नमक मिलाएं।




मिश्रण को एक साफ  सूती कपड़े में बांध कर संक्रमित कान पर रखें। लहसुन को तेल में काना होने तक पकाएं। इसकी बूंदें कानों में टपका लें।




दो चम्‍मच जैतून तेल और हल्‍के गरम पानी के साथ दो बूंद टी ट्री ऑइल को मिक्‍स कर के कानों में डालें। थोड़ी देर बाद कान साफ कर लें।




तुलसी की पत्तियों को नारियल तेल में उबाल कर कान में डालने से कान दर्द में आराम मिलता है।




हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned