Polycythemia Vera : बढ़ जाता है हीमोग्लोबिन का स्तर

Polycythemia Vera : बढ़ जाता है हीमोग्लोबिन का स्तर
Polycythemia Vera : बढ़ जाता है हीमोग्लोबिन का स्तर

Divya Sharma | Updated: 23 Aug 2019, 03:37:02 PM (IST) स्वास्थ्य

आमतौर पर सुनने में आता है व्यक्ति का हीमोग्लोमिन कम है, उसे खून बढ़ाने वाली चीजें खिलाएं आदि आदि। लेकिन क्या कभी आपने सुना है कि व्यक्ति का हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ गया है। जी हां, ऐसा भी होता है। लेकिन यह एक बीमारी है। जानें इस बारे में ...

हीमोग्लोबिन का सामान्य स्तर महिलाओं में 12 से 15.5 ग्राम प्रति डेसीलीटर और पुरुषों में 13.5 से 17.5 ग्राम प्रति डेसीलीटर होता है। इसमें कमी से एनीमिया की दिक्कत होती है। पॉलिसिथीमिया वेरा बीमारी में भी हीमोग्लोबिन का स्तर बढ़ जाता है।
रोग : शरीर का बोनमैरो जब जरूरत से ज्यादा लाल रुधिर कोशिकाएं बनाने लगता है तो रक्त गाढ़ा होकर क्लॉट, हार्टअटैक और स्ट्रोक का कारण बनता है। यह बीमारी धीरे-धीरे शरीर में फैलकर गंभीर रूप लेती है। इसलिए इसके लक्षण एकदक से सामने नहीं आते।
लक्षण : लक्षणों की पहचान तुरंत नहीं होती है। इसमें काफी समय लग जाता है। शुरुआत में कमजोरी और थकान महसूस होती है। सामान्यत: ब्लड टेस्ट कराने पर ब्लड सेल्स की बढ़ी हुई संख्या रोग की ओर इशारा करती है। आमतौर पर सिरदर्द, आंख में डबल विजन, शरीर में खुजली, कमजोरी, वजन घटना, सांस लेने में दिक्कत आम लक्षण हैं।
कारण : इस बीमारी का एक ही प्रमुख कारण है- शरीर में जीन्स का सही तरीके से काम न करना। इस कारण यह आनुवांशिक वजह भी बन जाती है।
इलाज : अतिरिक्त रक्त बाहर निकालने के अलावा दवाओं की हल्की खुराक देते हैं और खुजली रोकने के लिए थैरेपी दी जाती है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned