ये चीजें कर सकती है आपके पेट की तकलीफ को दूर

खाने में इन चीजों का स्तेमाल कर हम बहुत हद तक पेट की बहुत सी समस्याओं से छूटकारा पा सकते है।

By:

Published: 16 Jan 2015, 12:12 PM IST

जयपुर। पेट की तकलीफ एक आम समस्या है और हर काई इस समस्या से परेशान रहता है। अगर हम अपने खाने में इन चीजों का स्तेमाल करें तो हम बहुत हद तक पेट की बहुत सी समस्याओं से छूटकारा पा सकते है। आइए जानतें है इनके बारें में...

एसिडिटी कम करे पुदिना
पुदिना या मिंट लीव्स केवल चटनियां बनाने या सब्जियों को सजाने के काम नहीं आता है। इन पत्तियों में ऎसे गुण छुपे होते हैं, जो सर्दियों में आपके शरीर को फ्रेश रखते हैं। पुदिने से घर में माउथवॉश बनाया जा सकता है। पुदिना के रोजाना 6-8 पत्ते को चबा कर खाने से पेट की गड़बडियां कम हो जाती हैं। उदर की अम्लीयता कम होने लगती है और अपान-वायु का चक्र ठीक हो जाता है।

लिवर का दोस्त पपीता
पपीते को एक सम्पूर्ण फल कहा जाता है। इसमें बीटा कैरोटिन्स की प्रचुरता होती है, जो एक एंटी-ऑक्सीडेंट न्यूट्रियेंट है। यह प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, पर हरे पपीते में कैरोटिन नहीं पाया जाता, लेकिन यह लिवर के रोगियों के लिए बहुत लाभप्रद होता है। हरे पपीते का शोरबा नियमित सेवन करने से लिवर के कई विकार ठीक होने लगते हैं। इससे पाचन प्रणाली भी दुरूस्त होती है। पका पपीता एनर्जी-बूस्टर होता है।

पाचन में मदद करें केले
कच्चे केले में कई पोषक तत्व होते हैं और ये काफी उपयोगी होते हैं। खासकर यह ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करता है. इसमें प्रोटीन, कार्बोहाइड्रेट और जरूरी फैट पर्याप्त मात्रा में मौजूद होते हैं। इसके साथ ही कच्चे केले में रेसिस्टेंट स्टार्च होता है जो फाइबर की तरह पेट की सफाई करता है। इसमें मौजूद रेसिस्टेंट स्टार्च में पाचन के लिए सहायक सभी गुण होते हैं, जो बैक्टीरिया के पाचन में मददगार होते हैं।

वजन घटाए पालक
आयरन का एक महत्वपूर्ण स्त्रोत समझा जाने वाला पालक विटमिन-ए, विटमिन-सी, विटमिन-के व मैग्नेशियम से भरा होता है। पालक का रस वजन घटाने में भी बहुत प्रभावी होता है। शोध के मुताबिक, प्रतिदिन नाश्ते से पहले पालक का जूस पीने से भूख में 95 प्रतिशत की कमी होती है, साथ ही वजन को कम करने की संभावना 43 प्रतिशत अधिक होती है।
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned