Leucorrhoea: ल्यूकोरिया क्या होता है? जानें इसके लक्षण और उपाय

Leucorrhoea: ल्यूकोरिया महिलाओं में अक्सर होने वाली एक आम समस्या है, जो ज्यादातर महिलाओं या लड़कियां में होती हैं। ल्यूकोरिया, जिसे श्वेत प्रदर या सफेद पानी की समस्या भी कहा जाता है। यह अलग-अलग कारणों से होती है, आइए जानते है इसके कुछ कारण, लक्षण और बचाव के उपाय।

By: Roshni Jaiswal

Updated: 13 Sep 2021, 12:19 PM IST

नई दिल्ली। Leucorrhoea: ल्यूकोरिया या सफेद पानी की समस्या महिलाओं में आम है। ल्यूकोरिया को कुछ लोग लिकोरिया (Licoria) नाम से भी पुकारते हैं। आयुर्वेद में ल्यूकोरिया को श्वेत प्रदर कहा गया है। ल्यूकोरिया में महिला के प्राइवेट पार्ट से सफेद, चिपचिपा गाढ़ा तरल पदार्थ निकलना शुरू हो जाता है। ल्यूकोरिया होने पर महिलाओं के शरीर में इंफेक्शन की संभावना बढ़ जाती है। आमतौर पर यह परेशानी शादीशुदा महिलाओं को ज्यादा होती है लेकिन ल्यूकोरिया किसी भी उम्र की लड़कियां या महिलाओं को किसी भी उम्र में हो सकता है।

Leucorrhoea: ल्यूकोरिया क्या है?

ल्यूकोरिया को सामान्य भाषा में सफेद पानी या श्वेत प्रदर भी कहा जाता है। यह महिलाओं कि एक आम समस्या है जो कई महिलाओं में पीरियड्स से पहले या बाद में एक या दो दिन सामान्य रूप से होती है। ल्यूकोरिया का अर्थ है, महिलाओं की योनि से सफेद, पीले, हल्के नीले या हल्के लाल रंग का चिपचिपा और बदबूदार स्राव का आना। यह स्त्राव अधिकतर सफेद रंग का ही होता है इसलिए इसे श्वेत प्रदर का नाम दिया गया है। अलग-अलग महिलाओं में स्त्राव की मात्रा एवं समयावधि अलग-अलग होती हैं। इसके कारण प्रजनन अंगों में सूजन आ जाती है।

ल्यूकोरिया के सामान्य लक्षण -

कमजोरी महसूस होना एवं चक्कर आना
योनिमार्ग में तेज खुजली एवं चुनचुनाहट होना
भूख न लगना एवं जी मिचलाना
आंखों के सामने अंधेरा छा जाना
चिड़चिड़ापन रहना
हाथ-पैरों और कमर, पेट, पेडू में दर्द
शौच साफ न होना
बार-बार पेशाब आना और पेट में भारीपन बना रहना
आंखों के नीचे काले घेरों का पड़ना
पिंडलियों में खिंचाव एवं शरीर भारी रहना

ल्यूकोरिया से बचाव के उपचार

ल्यूकोरिया का सबसे बड़ा कारण ठीक से सफाई न होना है। अतः योनि की सफाई और उसे सूखा रखना बेहद जरूरी है अन्यथा संक्रमण फैलने से यह समस्या हो सकती है।
अपने खान-पान पर विशेष ध्यान दें। पर्याप्त पोषण युक्त चीजों का सेवन करें और स्वस्थ रहने का प्रयास करें।
रात को पानी में अंजीर भिगोकर रखें और सुबह गुनगुने पानी से इसे पीसकर खाली पेट सेवन करें।
शरीर में खून की कमी भी ल्यूकोरिया का कारण बन सकती है। इस स्थिति से बचने के लिए आयरन से भरपूर चीजों का सेवन करें ताकि हीमोग्लोबिन का लेवल कम न हो।
पीरियड्स के समय भी सफाई का विशेष ध्यान रखें। हर 4 से 6 घंटे में पैड बदलते रहें और हल्के गर्म पानी से प्राइवेट पार्ट की सफाई करें, ताकि की कीटाणु न रहे।
सूती अंडरगार्मेंट का प्रयोग करें और दिन में दो बार इसे बदले।
अधिक नमक एवं मसालेदार भोजन का सेवन न करें।
पौष्टिक भोजन लें। फल एवं रेशेदार सब्जियों को अधिक से अधिक अपने आहार में शामिल करें।

Leucorrhoea: अधिक संख्या में महिलाओं को ल्यूकोरिया की समस्या "ट्रिकोमोन्स वेगिनेल्स" नामक बैक्टीरिया के कारण होता है। इस संक्रामक ल्यूकोरिया की जांच किसी अच्छे महिला रोग विशेषज्ञ से अवश्य करवानी चाहिए, अन्यथा लापरवाही से रोग भयंकर रूप धारण कर सकता है।

Roshni Jaiswal
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned