scriptMirza Ghalib Birthday Special Urdu poet who defined love and pain | हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन दिल के खुश रखने को “ग़ालिब” यह ख्याल अच्छा है | Patrika News

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन दिल के खुश रखने को “ग़ालिब” यह ख्याल अच्छा है

locationनई दिल्लीPublished: Dec 27, 2017 09:17:13 am

Submitted by:

Priya Singh

उर्दू के सबसे मशहूर शायर मिर्जा गालिब ने मुगल शासक बहादुरशाह जाफर के काल में हुए 1857 का गदर बहुत ही करीबी से देखा

Agra,poet,legend,Mirza Ghalib,Best And Famous Mirza Ghalib Shayari,
नई दिल्ली। कवि मिर्जा गालिब का जन्म 27 दिसंबर 1797 को उत्तर प्रदेश के आगरा में हुआ। शायरी का शौक रखने वाला हर इंसान मिर्जा ग़ालिब के नाम से अच्छी तरह वाकिफ होगा। मिर्ज़ा ग़ालिब को शायरी शब्द का पर्यायवाची भी कह सकते हैं। उनकी लिखी शायरियां बच्चे-बच्चे की जुबान पर रहती है। मिर्ज़ा ग़ालिब की शायरियां ना केवल भारत और पाकिस्तान बल्कि विश्व के कई देशों में मशहूर हैं। ग़ालिब ने अपने 70 साल के जीवन में कई शायरियां लिखीं। जिन कवियों के कारण उर्दू अमर हुई, उसमें मीर के साथ-साथ मिर्ज़ा ग़ालिब का सबसे अधिक योगदान था।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.