हरियाणा में तेजी से फैल रहा है कैंसर: आचार्य

हरियाणा में तेजी से फैल रहा है कैंसर: आचार्य

Shankar Sharma | Publish: Feb, 03 2018 11:17:11 PM (IST) Hisar, Haryana, India

एक समय था जब पंजाब को कैंसर राज्य के रूप में जाना जाता था लेकिन अब कैंसर के मामले में हरियाणा की स्थिति भी लगातार बिगड़ती जा रही है।

चंडीगढ़। एक समय था जब पंजाब को कैंसर राज्य के रूप में जाना जाता था लेकिन अब कैंसर के मामले में हरियाणा की स्थिति भी लगातार बिगड़ती जा रही है। हरियाणा में तीन साल के भीतर कैंसर रोग से मरने वालों की संख्या में दो गुणा से अधिक वृद्धि हुई है। यह हरियाणा जैसे छोटे एवं खुशहाल प्रांत के लिए गंभीर चिंता का विषय है।


विश्व कैंसर दिवस के उपलक्ष्य में आज हरियाणा के करनाल से शुरू किए गए प्रदेशव्यापी जागरूकता अभियान के तहत पत्रकारों से बातचीत करते हुए मैक्स अस्पताल शालीमार बाग नई दिल्ली में ओंकोलॉजी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट एवं विभागाध्यक्ष डॉ. रुद्र आचार्य, रेडिएशन आंकोलॉजी के कंसल्टेंट डॉ.अमल राय चौधरी तथा हैमैटोलॉजी विभाग के सीनियर कंसल्टेंट डॉ.गौरव दीक्षित ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि हरियाणा सरकार द्वारा हालही में सार्वजनिक की गई एक रिपोर्ट के अनुसार वर्ष 2013 में जहां कैंसर का शिकार 1845 लोगों की मौत हुई थी वहीं वर्ष 2016 में यह आंकड़ा 3668 तक पहुंच गया।


उन्होंने बताया कि देश में इस समय करीब 30 लाख लोग कैंसर से पीडि़त हैं और हर साल पांच लाख लोगों की मौत हो जाती है। हरियाणा के लोगों को कैंसर के विरूद्ध सामूहिक लड़ाई लडऩे की अपील करते हुए डॉ.रूद्र आचार्य ने कहा कि महिलाओं में जहां स्तन कैंसर और सरवाइकल कैंसर तेजी से फैल रहा है वहीं पुरूषों में फेफड़े और लीवर का कैंसर सबसे अधिक पाया जा रहा है।


कुछ समय पहले तक पचास वर्ष से अधिक उम्र की महिलाओं को कैंसर होता था वहीं अब 30 से 35 प्रतिशत के करीब महिला रोगियों की उम्र 50 वर्ष से कम होती है। आश्चर्यजनक बात यह है कि स्तन कैंसर के पचास फीसदी केसों में महिला रोगियों की आयु 25 से 50 वर्ष है। इस अवसर पर बोलते हुए डॉ.अमल राय चौधरी ने बताया कि हरियाणा सरकार सरकार के रिकार्ड के अनुसार वर्ष 2013 के दौरान हरियाणा में जहां कैंसर के कुल 11717 रोगियों की शिनाख्त की गई थी वहीं वर्ष 2016 में यह बढक़र 16 हजार 180 तक पहुंच गई।


मेडिकल सांइस ने आगामी दो वर्षों के भीतर कैंसर के नए मामलों में 70 फीसदी तक वृद्धि होने की प्रबल संभावना है। डाक्टर चौधरी के अनुसार हरियाणा में रोहतक, करनाल, यमुनानगनर, सोनीपत, फतेहाबाद , सिरसा, गुरुग्राम व फरीदाबाद आदि जिलों को कैंसर के मामले में बेहद संवेदनशील माना जा रहा है।

इस अवसर पर बोलते हुए बोन मैरो ट्रांसप्लांट विशेषज्ञ डॉ.गौरव दीक्षित ने बताया कि विश्व में अमेरिका व चीन के बाद हेमैओलॉजिकल कैंसर के भारत में सर्वाधिक रोगी हैं। स्वास्थ्य क्षेत्र के विशेषज्ञों ने वर्ष 2018 के दौरान भारत में रक्त कैंसर के एक लाख नए केस आने की संभावना जताई है। यह गंभीर चिंता का विषय है। जिसके लिए सभी को जागरूक होना जरूरी है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned