हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, गैस्ट टीचरों के वेतन में 25 फीसदी की वृद्धि

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला, गैस्ट टीचरों के वेतन में 25 फीसदी की वृद्धि

Shankar Sharma | Publish: Sep, 06 2018 11:42:15 PM (IST) Hisar, Haryana, India

हरियाणा सरकार ने एक अहम फैसला लेते हुए प्रदेश में कार्यरत अतिथि अध्यापकों का वेतन 25 फीसदी बढ़ा दिया है।

चंडीगढ़। हरियाणा सरकार ने एक अहम फैसला लेते हुए प्रदेश में कार्यरत अतिथि अध्यापकों का वेतन 25 फीसदी बढ़ा दिया है। वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने बृहस्पतिवार को मीडिया से बातचीत करते हुए बताया कि एक जनवरी 2019 से अतिथि अध्यापकों के वेतन में साल में दो बार बढ़ोतरी होगी। उन्होंने बताया की इस समय हरियाणा में 13 हजार 771 अतिथि अध्यापक कार्यरत हैं और फिलहाल जो बढ़ोतरी हुई है उससे गेस्ट टीचर्स को सालाना करीब 87 करोड़ का लाभ होगा।

कैप्टन अभिमन्यु ने बताया की प्रदेश सरकार ने गेस्ट टीचर्स के वेतन में बढ़ौतरी करते हुए इसे 26 हजार रूपये से लेकर 36 हजार रूपये तक किया है। उन्होंने बताया की पहले जेबीटी और ड्राइंग टीचर्स को 21 हजार 715 रूपये मिलते थे अब उन्हें 26 हजार रूपये प्रतिमाह मिलेंगे। टीजीटी को 24 हजार 1 रुपए की जगह 30 हजार रूपये और पीजीटी और लेक्चरार को 29 हजार 715 की जगह 36 हजार रूपये मासिक वेतन मिलेगा। वित्त मंत्री ने बताया की हरियाणा में गेस्ट टीचर्स के तौर पर 6252 जेबीटी, 5554 टीजीटी और 1925 पीजीटी कार्यरत हैं। पहले इन्हें सालाना करीब 392 करोड़ वेतन मिलता था जोकि बढक़र करीब 479 करोड़ हो गया है।


कैप्टन अभिमन्यु ने बताया कि एक जनवरी 2019 से गेस्ट टीचर्स के वेतन में साल में दो बार एक जनवरी और एक जुलाई को बढ़ौतरी होगी। एक जनवरी 2017 को गेस्ट टीचर्स के वेतन में 14.29 फीसदी की बढ़ौतरी की गई थी और अब सरकार ने 25 फीसदी की बढौतरी की है।

लोकसभा व जिला प्रभारियों की नए सिरे से तैनाती

चंडीगढ़। हरियाणा में सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी चुनावी मोड पर आ गई है। पंचकूला के थापली में बुधवार को दिनभर मंथन शिविर का आयोजन करने के बाद बृहस्पतिवार को जहां मुख्यमंत्री मनोहर लाल फील्ड में उतर गए वहीं भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष ने संगठन में अभूतपूर्व बदलाव करते हुए सभी लोकसभा क्षेत्रों में न केवल नए प्रभारी तैनात कर दिए हैं बल्कि प्रदेश के सभी जिला प्रभारियों को बदल दिया है।

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष बराला ने जिन लोगों को नई जिम्मेदारी सौंपी है उनमें सत्ता व संगठन से जुड़े कई नेताओं के नाम शामिल हैं। वैसे तो मनोहर सरकार में कई मंत्री हैं लेकिन लोकसभा प्रभारी बनाते समय केवल मुनीष ग्रोवर, कृषण बेदी व नायब सिंह सैनी पर भी भरोसा जताया गया है। नई नियुक्तियों के माध्यम से भाजपा ने प्रदेश में जातिगत समीकरणों का खास ख्याल रखा है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned