महिला कर्मचारी से छेडछाड के मामले में एचसीएस अधिकारी रीगन कुमार निलंबित

महिला कर्मचारी से छेडछाड के मामले में एचसीएस अधिकारी रीगन कुमार निलंबित
image file

| Publish: Jul, 26 2018 07:27:51 PM (IST) Chandigarh, India

हरियाणा के उच्चतर शिक्षा विभाग के अघीन उत्कर्ष सोसाइटी में नियुक्त हरियाणा सिविल सेवा के अधिकारी रीगन कुमार को विभागीय जांच कमेटी द्वारा अपने अधीन महिला कर्मचारी के साथ छेडछाड का दोषी पाए जाने पर निलंबित कर दिया है

(राजेन्‍द्र सिंह जादोन की रिपोर्ट)
चंडीगढ़। हरियाणा के उच्चतर शिक्षा विभाग के अघीन उत्कर्ष सोसाइटी में नियुक्त हरियाणा सिविल सेवा के अधिकारी रीगन कुमार को विभागीय जांच कमेटी द्वारा अपने अधीन महिला कर्मचारी के साथ छेडछाड का दोषी पाए जाने पर निलंबित कर दिया है। हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने एचसीएस अधिकारी रीगन कुमार को निलंम्बित करने के आदेश दिए हैं। यह जानकारी गुरूवार को यहां मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के मीडिया सलाहकार राजीव जैन ने दी। इससे पहले रीगन कुमार को महिला के आरोपों पर पंचकूला पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार किया था। अदालत ने उन्हें जमानत पर रिहा कर दिया था।

 

केबिन में बुलाकर की थी छेडछाड


उत्कर्ष सोसइटी में एचसीएस अधिकारी रीगन कुमार की हैसियत प्रशासनिक अधिकारी सह सचिव और मुख्य कार्यकारी अधिकारी की थी। उनके अधीन महिला कर्मचारी ने आरोप लगाया था कि रीगन कुमार ने पिछले 28 मई को उसे अपने केबिन में बुलाया और पीने के लिए कॉफी दी। उसने कॉफी पीने से इनकार कर दिया। महिला कर्मचारी ने कहा कि दूसरे दिन 29 मई को रीगन कुमार ने उसे फिर बुलाया और उसके साथ छेडछाड की। महिला ने इस पर अपने भाई को बुलाया और हरियाणा पुलिस महानिदेशक को शिकायत दी। इस पर पंचकूला पुलिस ने रीगन कुमार के खिलाफ महिला कर्मचारी के साथ शारीरिक छेडछाड के लिए धारा 354ए और पीछा करने के लिए 354डी के तहत मुकदमा दर्ज किया था।

 

आंतरिक शिकायत कमेटी को सौंपी थी जांच


पंचकूला पुलिस की इस कार्रवाई के बाद हरियाणा के माध्यमिक शिक्षा निदेशक सह उपाध्यक्ष उत्कर्ष सोसाइटी राजीव रतन ने रीगन कुमार से काम वापस ले लिया था और मामले की जांच 30 मई को आंतरिक शिकायत कमेटी को सौंपी थी। उत्कर्ष सोसाइटी में महिला कर्मचारी अनुबंध के आधार पर डाटा एंट्री ऑपरेटर के पद पर कार्यरत थी। इसी दौरान उसने छेडछाड का आरोप लगाया।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned