अफसरशाही की कोताही, अनुभवहीन चालकों को थमाई बसें

हरियाणा राज्य परिवहन की बसों के संचालन में बड़ी कोताही सामने आई है।

By: शंकर शर्मा

Published: 24 May 2018, 10:38 PM IST

चंडीगढ़। हरियाणा राज्य परिवहन की बसों के संचालन में बड़ी कोताही सामने आई है। परिवहन विभाग के अधिकारियों ने यात्रियों की जान जोखिम में डालते हुए अनुभवहीन एवं नए चालकों को लंबे रूट की बसें थमा दी। हादसों के बाद चेती सरकार ने अब लंबे रूट पर चलने वाले नए चालकों को हटाकर अनुभवी चालकों के हाथों में बसों के स्टेयरिंग देने का फैसला किया है।


परिवहन विभाग की डिमांड पर हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग ने हाल ही में रोडवेज में 1634 चालकों की नियमित भर्ती की थी। इनमें से अधिकांश चालक अपनी ड्यूटी ज्वाइन कर चुके हैं। परिवहन विभाग के पास पहले से ही ड्राइवरों की कमी के चलते सैकड़ों बस डिपो में खड़ी थी। ऐसे में चालकों की नियुक्ति होते ही विभागीय अधिकारियों ने आनन-फानन में नए चालकों के हाथों में बसों के स्टेयरिंग देकर यात्रियों की जान को जोखिम में डाल दिया। यही नहीं अधिकारियों ने बगैर किसी पड़ताल के नए चालकों को लंबे रूट पर भी तैनात कर दिया। ऐसे में सडक़ हादसों में एकाएक बढ़ोतरी हुई।


पिछले दिनों रेवाड़ी में रोडवेज बस का एक्सिडेंट नए चालकों की लापरवाही की वजह से ही हुआ था। पानीपत व करनाल में भी इस तरह की घटनाएं हो चुकी हैं। रेवाड़ी में हुई दुर्घटना में जहां एक चालक की मौत हो गई वहीं दूसरा अपने दोनों पैर गंवा बैठा। प्रारंभिक जांच में पता चला कि यह हादसे चालकों में अनुभव के अभाव में हो रहे हैं।


इन घटनाओं का संज्ञान लेते हुए सरकार ने लंबी दूरी पर चल रहे सभी नए चालकों को वापस बुला लिया है। परिवहन मंत्री कृष्णलाल पंवार ने विभाग के आला अफसरों को सभी रोडवेज डिपो के महाप्रबंधकों को इस संदर्भ में निर्देश जारी करने के आदेश दिए हैं। सभी रोडवेज डिपो महाप्रबंधकों को कहा गया कि नये चालकों को छोटे रूट पर ही नियुक्त किया जाए। यही नहीं, चरणबद्ध तरीके से सभी नये चालकों की ट्रेङ्क्षनग करवाने को भी कहा गया है। विभाग में पहले से कार्यरत सीनियर चालकों के साथ नए चालकों को अटैच करने के निर्देश दिए गए हैं ताकि वह बसों को चलाने की सभी बारीकियों को अच्छे से समझ सकें।


हरियाणा के परिवहन मंत्री कृष्णलाल पंवार के अनुसार रोडवेज बसों की बढ़ती दुर्घटनाओं को देखते हुए नये चालकों को लांग रूट से हटाने का फैसला लिया गया है। पुराने चालक ही लांग रूट की बसें चलाएंगे। तब तक नये चालकों को ट्रेंड किया जाएगा। फिलहाल वे छोटे रूट पर ही बसें चलाएंगे।

शंकर शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned