हॉलीवुड बताएगा, कैसे बनी 1974 की फिल्म, जगह-जगह 'चाइना टाउन' `

By: पवन राणा
| Updated: 10 Aug 2020, 03:23 PM IST
हॉलीवुड बताएगा, कैसे बनी 1974 की फिल्म, जगह-जगह 'चाइना टाउन' `
हॉलीवुड बताएगा, कैसे बनी 1974 की फिल्म, जगह-जगह 'चाइना टाउन' `

जब हॉलीवुड से बॉलीवुड तक चाइना टाउन ( Chinatown ) भुनाए जा रहे हैं तो चीन क्यों पीछे रहता। उसने 2015 में 'डिटेक्टिव चाइना टाउन' ( Detactive Chinatown) बनाई। इसे बैंकॉक के चाइना टाउन में फिल्माया गया, जिसे दुनिया के सबसे बड़े चीनी बाजारों में गिना जाता है।

-दिनेश ठाकुर

हॉलीवुड अपनी 1974 की कामयाब और विवादास्पद सस्पेंस फिल्म 'चाइना टाउन' ( Chinatown ) पर फिल्म बनाने की तैयारी कर रहा है। बेन अफलेक के निर्देशन में 'द बिग गुडबाय' ( The Big Googbye ) नाम से बनने वाली इस फिल्म में 'चाइना टाउन' की निर्माण प्रक्रिया, इससे जुड़े किस्सों और उस दौर के हॉलीवुड का जायजा लिया जाएगा। निर्देशक रोमन पोलंस्की की मूल फिल्म का ताना-बाना कैलिफॉर्निया के पास बसे चाइना टाउन में तीस के दशक के दौरान माफिया हिंसा, पानी को लेकर तनातनी और भ्रष्टाचार के इर्द-गिर्द बुना गया था। 'चाइना टाउन' को जैक निकॉलसन की लाजवाब अदाकारी के लिए भी याद किया जाता है। फिल्म ने एक ऑस्कर और चार गोल्डन ग्लोब अवॉर्ड जीते थे।


भारत की धार्मिक फिल्म 'जय संतोषी मां' के गीत 'यहां वहां जहां तहां, मत पूछो कहां कहां' की तर्ज पर कहा जाए तो चाइना टाउन दुनियाभर में मौजूद हैं। क्या अमरीका, क्या यूरोप, क्या अफ्रीका, क्या एशिया.. हर जगह चीनी बाजार और शरणार्थियों की आबादी वाले कई चाइना टाउन आबाद हैं। भारत में सबसे बड़ा और पुराना चाइना टाउन कोलकाता में है, जिसे तिरेट्टा बाजार या ओल्ड चाइना मार्केट भी कहा जाता है। शक्ति सामंत ने इसी बाजार की पृष्ठभूमि पर 1962 में 'चाइना टाउन' नाम की फिल्म बनाई, जिसमें शम्मी कपूर का डबल रोल था। मोहम्मद रफी का सदाबहार गीत 'बार-बार देखो, हजार बार देखो' इसी फिल्म का है। निर्देशक अब्बास-मस्तान की सस्पेंस फिल्म '36 चाइना टाउन' की घटनाएं गोवा के चाइन टाउन में घूमती हैं। मलयालम में बनी 'चाइना टाउन' (2011) में भी गोवा का चाइना टाउन है। अक्षय कुमार और दीपिका पादुकोण की 'चांदनी चौक टू चाइना' (2009) की कहानी किसी देसी चाइना टाउन में घूमने के बजाय दिल्ली और चीन तक चक्कर काटती है।

जब हॉलीवुड से बॉलीवुड तक चाइना टाउन भुनाए जा रहे हैं तो चीन क्यों पीछे रहता। उसने 2015 में 'डिटेक्टिव चाइना टाउन' ( Detactive Chinatown ) बनाई। इसे बैंकॉक के चाइना टाउन में फिल्माया गया, जिसे दुनिया के सबसे बड़े चीनी बाजारों में गिना जाता है। तेज रफ्तार एक्शन वाली इस फिल्म ने कारोबारी मैदान में लम्बी दौड़ लगाई तो 2018 में इसका सीक्वल 'डिटेक्टिव चाइना टाउन 2' आ गया। इसने भी खूब धन बटोरा। अब इसका तीसरा भाग सिनेमाघर खुलने का इंतजार कर रहा है। जब तक धन बरसता रहेगा, फिल्म वाले चाइना टाउन में लट्टू घुमाते रहेंगे।