लॉकडाउन-4 में खुले सभी सरकार दफ्तर और दुकानें, मॉल पर जारी रहेगी पाबंदी

By: धीरज शर्मा
| Published: 19 May 2020, 03:12 PM IST
लॉकडाउन-4 में खुले सभी सरकार दफ्तर और दुकानें, मॉल पर जारी रहेगी पाबंदी
उत्तराखंड में खुले सरकारी दफ्तर और दुकानें

  • Uttarakhan Govt ने जारी की Lockdown4 की गाइडलाइन
  • Government Office और सभी Shops खुलीं

नई दिल्ली। देशभर में लॉकडाउन ( Lockdown ) का चौथा चरण लागू हो चुका है।कई राज्यों ने अपनी गाइडलाइन ( Guideline ) भी जारी कर दी है। इसी कड़ी में उत्तराखंड सरकार ( Uttarakhand Govt ) ने कोरोनो लॉकडाउन 4.0 के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं। इसके तहत ग्रीन ( Green Zone ) और ऑरेंज ( Orange Zone ) जोन जिलों में मॉल ( Mall ) को छोड़कर सभी दुकानों ( Shops ) को खोलने की इजाजत दे दी गई है। मंगलवार को सरकार के निर्देशों के बाद सभी सरकारी दफ्तर और दुकानें खुलीं।

राज्य के मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ( Utpal Kumar Singh ) ने कहा कि सरकारी कार्यालयों में सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक कार्य करने की अनुमति दी गई है। जबकि दुकानों को भी खोलने की इजाज दी है लेकिन मॉल फिलहाल बंद ही रहेंगे।

तेजी से आगे बढ़ रहा चक्रवाती तूफान, देश के इलाकों को लेकर जारी हुआ अलर्ट

ग्रीन और ऑरेंज जोन में मॉल को छोड़कर सभी दुकानें सुबह 7 से शाम 4 बजे तक खोलने की इजाजत दी गई है। सरकारी कार्यालय सुबह 10 बजे से शाम 4 बजे तक काम करेंगे।
मुख्य सचिव ने कहा कि मॉल, सिनेमा घर और शैक्षणिक संस्थानों को फिलहाल बंद करने का निर्णय दिया गया है। जबकि ऑनलाइन कक्षाएं जारी रहेंगी।
स्टेडियमों को खोलने की अनुमति है लेकिन लॉकडाउन अवधि के दौरान दर्शकों को अनुमति नहीं दी जाएगी। राज्य में सभी प्रकार की सभा पर भी प्रतिबंध रहेगा।
उन्होंने कहा कि कर्फ्यू का समय सुबह 7 से शाम 7 बजे तक रहेगा। उन्होंने कहा कि राज्य में सात नियंत्रण क्षेत्र हैं।

राज्य में सात सम्‍मिलन क्षेत्र हैं। सात जिले ग्रीन जोन में हैं - बागेश्वर, चमोली, हरिद्वार, चंपावत, टिहरी, पिथौरागढ़, रुद्रप्रयाग। ऑरेंज ज़ोन में छह जिले - अल्मोड़ा, देहरादून, नैनीताल, पौड़ी, उधम सिंह नगर और उत्तरकाशी। राज्य में कोई रेड ज़ोन जिले नहीं हैं, ”उन्होंने कहा।

उन्होंने कहा, 'हल्द्वानी, रुद्रपुर, काशीपुर, हरिद्वार, देहरादून और कोटद्वार में वाहनों की आवाजाही की अनुमति सम-विषम तरीके से दी जाएगी। अंतर-राज्य आंदोलन के लिए सार्वजनिक परिवहन पर निर्णय एक या दो दिनों में लिया जाएगा, ”उन्होंने कहा।