चेन्नई : VVIP सीट जीतने के लिए बांटे गए करोड़ों रुपये, रद्द हो सकता है उपचुनाव-सूत्र

तमिलनाडु की प्रतिष्ठित सीट आर के नगर का उपचुनाव टल सकता है।सूत्रों के मुताबिक राज्य के अधिकारियों और आयकर विभाग की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि मतदान से पहले करोड़ों रुपये वोटरों को बांटे गए हैं।

Prashant Kumar Jha

April, 0906:43 PM

चेन्नई: तमिलनाडु की VVIP सीट आर के नगर का उपचुनाव रद्द हो सकता है। इस सीट पर 12 तारीख को मतदान होना है। सूत्रों के मुताबिक राज्य के अधिकारियों और आयकर विभाग की जांच में इस बात का खुलासा हुआ है कि मतदान से पहले करोड़ों रुपये वोटरों को बांटे गए हैं। चुनाव आयोग इन रिपोर्ट्स की जांच कर रहा है। अंतिम फैसला चुनाव आयोग सोमवार को लेगा।

टीटीवी दिनाकरन शशिकला का भतीजा 
एक रिपोर्ट के मुताबिक वी के शशिकला की अगुवाई वाली AIADMK  अपने उम्मीदवार टीटीवी दिनाकरन के पक्ष में मतदान करने के लिए मतदाताओं के बीच 89 करोड़ रुपये बांटे हैं। टीटीवी दिनाकरन शशिकला का भतीजा है। बता दें कि शुक्रवार को आयकर विभाग ने तमिलनाडु में कुल 35 ठिकानों पर छापा मारा था। इनमें से स्वास्थ्य मंत्री सी विजय भास्कर के ठिकाने भी शामिल थे। रिपोर्टस के मुताबिक छापे के दौरान सी विजय भास्कर के घर से अहम दस्तावेज बरामद हुए थे। इस दस्तावेज में शशिकला की अगुवाई वाली AIADMK  आर के नगर सीट जीतने की रणनीति बनाई थी जिसके मुताबिक पार्टी हर वोटर को 4 हज़ार रुपये देने वाली थी।

क्षेत्र में 89 करोड़ बांटे गए
पार्टी ने ये रणनीति क्षेत्र के 256 इलाकों के लिए बनाई थी। पार्टी का लक्ष्य था कि विधानसभा क्षेत्र के 85 फीसदी मतदाताओं को पैसा दिया जाए ताकि जीत सुनिश्चित की जा सके। कुल मिलाकर 89 करोड़ रुपये बांटे जा रहे थे।बरामद दस्तावेज में सात मंत्रियों का नाम है इसमें मुख्यमंत्री ई पलानीस्वामी, वन मंत्री दिन्दीगुल श्रीनिवासन और वित्त मंत्री जयकुमार भी शामिल हैं। इन मंत्रियों को कथित रुप से टारगेट दिया गया था। हालांकि AIADMK  ने इन आरोपों को खारिज किया है और इन्हें बेबुनियाद बताया है।

जयललिता की मौत के बाद सीट खाली
चेन्नई की आर के नगर सीट तमिलनाडु की वीवीआईपी सीट है। इससे पहले यहां से पूर्व सीएम जयललिता चुनाव जीतीं थीं। उनकी मौत के बाद ये सीट खाली हुई है।AIADMK  के दोनों धड़े (ओपीएस-शशिकला) इस सीट को हर हाल में जितना चाह रहे हैं। वहीं डीएमके भी इस सीट पर चुनाव लड़ रहा है।
prashant jha
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned