-मोबाईल एप से आमजन पता कर सकेंगे 108 की लोकेशन

एक क्लिक पर मौके पर दौड़ी आएगी 108 और जननी
भोपाल नहीं लगाना पड़ेगा फोन, सीधे 108 के चालक से होगा सम्पर्क

harinath dwivedi

September, 1412:27 PM

नीमच. आपके हाथ में अगर स्मार्ट फोन है, तो आपको किसी भी घटना या दुर्घटना के वक्त परेशान होने की जरूरत नहीं होगी। आप तुरंत मोबाइल एप से जिले की सभी 108 और जननियों की लोकेशन पता कर लेंगे। जो वाहन घटना स्थल से नजदीक होगा, उससे सीधे सम्पर्क होने पर वह चंद मिनटों में पहुंचकर घायल या पीडि़त को उपचार के लिए समीपस्थ चिकित्सालय पहुंचा देगा।
बतादें की अब तक किसी भी प्रकार की घटना या दुर्घटना के वक्त घायल के परिजन या अन्य सहयोगी सीधे 108 पर कॉल करते हैं। यह कॉल भोपाल लगता है। जहां से घटना स्थल की पूरी जानकारी मांगी जाती है जैसे जिला, तहसील, कस्बा, नाम, पता आदि। पूरी जानकारी लेने के बाद कॉल सेंटर से उक्त लोकेशन के आसपास की 108 की जांच की जाती है। इसके बाद संबंधित व्यक्ति से 108 चालक की बात कराई जाती है। इस पूरी प्रक्रिया में कई बार आधे से एक घंटा लग जाता है। साथ ही कई बार मौके पर 108 पहुंचने में देर होने के कारण पीडि़त या परिजन लगातार फोन कर परेशान होते रहते हैं। इस कारण ऐसा ऐप तैयार किया गया। जो आमजन द्वारा खुद ऑपरेट कर समीप की 108 को तुरंत बुला लिया जाएगा।
निजी कंपनियों की टैक्सी की तरह चलेगी 108
जिस प्रकार महानगरों में विभिन्न निजी कपंनियों की टैक्सी को कोई भी मोबाईल एप के माध्यम से तुरंत जहां जरूरत है वहां बुला लेते हैं। टेक्सी मौके पर पहुंचने तक उसकी लोकेशन देखकर यह भी पता लगाया जा सकता है कि वह पहुंचने में कितनी देर लगेगी। क्योंकि सभी टेक्सियां जीपीएस सिस्टम से जुड़ी होती है। इसी तर्ज पर अब 108 और जननियों की सेवा भी पूरे मध्यप्रदेश में एक साथ चालु होने वाली है। जिसकी सेवा लेने के लिए व्यक्ति को प्ले स्टोर से 108 इमरजेंसी सर्विस नामक ऐप डाउनलोड करना होगा। इस ऐप को डाउनलोड करने पर संबंधित व्यक्ति को नाम, नंबर सहित सभी जानकारी डालनी होगी। यह एप मोबाईल पर चालु करते ही मोबाईल स्क्रीन पर एक लाल रंग का बटन आएगा, जिसे पे्रस करते ही दो ऑप्शन आएंगे। जिसमें पूछा जाएगा कि एंबुलेंस आप स्वयं के लिए बुला रहे हैं या दूसरे की मदद के लिए। इसके बाद तीन ऑप्शन मोबाइल स्क्रीन पर शो करेंगे। जिसमें एंबुलेंस बुलाने का कारण पूछा जाएगा यानि दुर्घटना, प्रसव या अन्य कारण। जैसे ही आप ऑप्शन पर क्लिक करेंगे, तुरंत एंबुलेंस चालक का नंबर, घटना स्थल से एंबुलेंस की दूरी आदि जानकारी आ जाएगी। इस एप के माध्यम से आसपास के अस्पताल की जानकारी भी मिल जाएगी। जिससे घटना दुर्घटना के वक्त तुरंत उपचार मिलने में आसानी हो।
वर्तमान में जिले में सात 108 और 8 जननियां है। इस प्रकार कुल 15 वाहन हैं। जो यूं तो पहले से ही जीपीएस सिस्टम पर आधारित हैं। लेकिन अभी तक इन वाहनों की लोकेशन का पता सिर्र्फ काल सेंटर स्टॉफ द्वारा ही पता किया जा सकता है। आमजन को इनकी सेवा लेने के लिए अभी तक सिर्फ फोन ही करना पड़ता था। लेकिन अब शीघ्र ही जिले ही नहीं बल्कि पूरे मध्यप्रदेश में एक साथ शीघ्र ही मोबाईल एप लांच होने वाला है। जिसकी टेस्टिंग विभागीय रूप से आईटी टीम द्वारा की जा रही है। इस एप में कौन सी सुविधाएं बढ़ानी है, कौन सी खामियां दूर करनी है आदि पूर्ण करने के बाद यह एप शीघ्र ही जिले वासियों के लिए सौगात लेकर आएगा। जिससे समय पर 108 पहुंचने पर निश्चित ही कई लोगों की जान भी बच जाएगी।
वर्जन.
108और जननियों की सुविधा मोबाइल एप के माध्यम से शुरू करने की तैयारी चल रही है। एप लांच होने के बाद कॉल करने के साथ ही व्यक्ति स्मार्ट फोन की सहायता से भी 108 और जननी की सेवा का लाभ ले सकेंगे।
-पीयुष सक्सेना, जिला प्रभारी, 108
--------------------

harinath dwivedi
और पढ़े
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned