Budget 2017: ज्योतिष के अनुसार हो सकती हैं ये बड़ी घोषणाएं, आम आदमी को मिलेगी राहत!

ज्योतिष के हिसाब से इस वर्ष का बजट कैसा रहेगा और उसमें क्या नई घोषणाएं हो सकती हैं

एक फरवरी को वित्त मंत्र अरुण जेटली भारत का बजट पेश करेंगे। इस वर्ष रेल बजट तथा आम बजट के एकाकार होने से यह बजट बहुत खास बन रहा है। आइए जानते हैं कि ज्योतिष के हिसाब से इस वर्ष का बजट कैसा रहेगा और उसमें क्या नई घोषणाएं हो सकती हैं?

ये भी पढ़ेः लाल किताब के इन उपायों से आप भी बन सकते हैं करोड़पति

ये भी पढ़ेः भूल कर भी गिफ्ट में न दें ये 5 चीजें वरना तुरंत रूठ जाएगी किस्मत

सबसे पहले बात करते हैं भारतदेश की कुंडली तथा ग्रहों की गोचर दशा की। आजाद भारत में सूर्य कर्क राशि में है जबकि बजट वाले दिन गोचर का सूर्य नवें भाव में श्रवण नक्षत्र से होकर गुजरेगा। इसी दिन गुरु भी पांचवे भाव में पारगमन करेगा। गोचर का मंगल कुंडली के ग्यारहवें भाव में चंद्रमा तथा शुक्र के साथ युति बना रहा है तो शनि भी बुध के साथ युति बना रहा है। इनके सबके उपर कुंडली के लग्न भाव तथा छठें भाव का स्वामी शुक्र ग्यारहवें भाव में रहेगा।

ये भी पढ़ेः यहां गणेशजी फोन पर सुन कर पूरी करते हैं हर मनोकामना

ये भी पढ़ेः इस शिव मंदिर की रखवाली करते हैं इच्छाधारी नाग-नागिन, जिंदा सांप चढ़ाने से होती है मन्नत पूरी

इन सभी ग्रहों की कुल गणित करने पर सबसे पहला निष्कर्ष यही निकलता है कि इस वर्ष आम बजट में वित्त मंत्री कोई खतरा मोल लिए बिना एक सुरक्षित बजट पेश करेंगे। इस बार सबसे बड़ी घोषणा आयकर तथा फाइनेंस सेक्टर को लेकर हो सकती हैं। गोचर के चन्द्रमा का विचार करें तो इस वर्ष रेलवे परिवहन तथा आईटी के सेक्टर में बड़ी घोषणाएं हो सकती हैं जो आगे चल कर देश को मजबूत अर्थव्यवस्था की ओर ले जाएंगी।

गोचर गुरु के प्रबल प्रभाव के चलते फाइनेंस तथा एजुकेशन इंडस्ट्री में बूम आने की संभावनाएं बन रही हैं। एजुकेशनल तथा फाइनेंशिएल इंडस्ट्रीज को विशेष रियायतें मिलेंगी।

ये भी पढ़ेः प्राणायाम से मिलती हैं आध्यात्मिक और मानसिक शक्तियां

ये भी पढ़ेः इस लिए हिंदू धर्म में वर्जित है औरतों का नारियल फोड़ना


भोग-विलास, मीडिया तथा मनोरंजन के कारक शुक्र ग्रह द्वारा चन्द्रमा से युति बनाने के कारण लग्जरी आईटम्स, इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स, वस्त्र आदि इंडस्ट्रीज को राहत मिल सकती है। बुध और शनि की युति के चलते अर्थव्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन लाने वाली घोषणाएं हो सकती हैं हालांकि यह संभव है कि इन घोषणाओं को अमली जामा धीरे-धीरे पहनाया जाए। सेना के तीनों अंगों के लिए भी बजट का बड़ा हिस्सा अलॉट किया जा सकता है।
सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned