नवसंवत्सर 2077: हिंदू कैलेंडर के अनुसार जानिये क्या कहती है आपकी राशि

बुधवार के दिन से हुई है इस नवसंवत्सर 2077 की शुरुआत...

By: दीपेश तिवारी

Published: 31 Mar 2020, 01:08 PM IST

हिन्दू नववर्ष विक्रम संवत् 2077 की 25 मार्च 2020 से शुरुआत हो गई। ऐसे में यह नववर्ष आपके लिए राशिनुसार कैसा रहेगा, ये बात हर कोई जानना चाहता है।

इस संबंध में पंडित सुनील शर्मा का कहना है कि हिंदू पंचांग के अनुसार हर साल चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से हिंदू नव वर्ष का आरंभ होता है। विक्रम संवत् 2077 की शुरुआत बुधवार के दिन से हुई है इसलिए इस नए वर्ष का राजा भी बुध ही हैं, साथ ही यह संवत्सर प्रमादी संवत्सर के नाम से जाना जाएगा।

पंडित शर्मा के अनुसार नए हिंदू वर्ष में जहां कुछ राशि के जातकों को काफी लाभ मिलने का संकेत हैं, वहीं कुछ राशि के जातक इस दौरान परेशानी में पड़ सकते हैं। उनके मुताबिक चूंकि बुध ग्रह व्यापार और संचार का प्रतिनिधित्व करता है, इसलिए यह नया साल व्यापारियों, सीए, कंपनी सैक्रैटरी आदि के लिए शुभ रहेगा। वहीं जो लोग सार्वजनिक क्षेत्र में काम करते हैं उनके लिए भी यह साल लाभदायक रहने की संभावना है।

MUST READ : देवगुरु बृहस्पति का ये परिवर्तन मचाएगा धमाल, जानिये कौन होगा मालामाल और कौन खस्ताहाल

https://www.patrika.com/astrology-and-spirituality/rashi-parivartan-of-devguru-jupiter-know-good-and-bad-effects-5930189/

बुध इस साल का राजा है और चंद्रमा इस साल का मंत्री, इसका कारण यह है कि जिस दिन बैशाखी का त्योहार मनाया जाएगा, उस दिन सोमवार होगा। यह बताता है कि महिलाओं और रचनात्मकता कार्यो से जुड़े लोगों के लिए भी यह वर्ष शुभ होगा।

आम तौर पर, चैत्र कृष्ण पक्ष अमावस्या को समाप्त होने और प्रतिपदा तिथि पर कुंडली तैयार करना एक परंपरा है। इसी के आधार पर सभी चंद्र राशियों के लिए नए साल का आंकलन किया जाता है।

मेष पहली राशि

राशि अनुसार ऐसे समझें: यह नव हिंदू वर्ष कैसा रहेगा:- nav samvatsar 2077 rashifal

1. मेष
पहली राशि यानि मेष, आपकी चंद्र राशि के स्वामी मंगल की उच्च स्थिति के कारण करियर के क्षेत्र में बड़े बदलाव आने की संभावना है। आप कार्यक्षेत्र में उच्च पद पाने में इस साल कामयाब हो सकते हैं। वहीं इस राशि के जातकों को जमीन से जुड़े मामलों में इस दौरान फायदा होगा आप प्रॉपर्टी खरीद के या बेचकर इस वर्ष लाभ कमा सकते हैं। इसके साथ ही आपके लाइफ स्टाइल और सामाजिक स्तर में भी सुधार आएगा।

संभल कर रहें: जल्दबाजी और आक्रमकता से इस दौरान आपको बचकर रहना चाहिए।

2. वृषभ
दूसरी राशि यानि वृषभ, इस राशि के जातकों के लिए नया हिंदू नववर्ष शुभ साबित होगा। ग्रहों की स्थिति इंगित कर रही है कि इस दौरान आपके प्रयास सही दिशा में जाएंगे और आपको नाम पद प्रतिष्ठा की प्राप्ति होगी। इस दौरान आपको ई-मेल या इंटरनेट के किसी स्रोत के द्वारा खुशखबरी मिल सकती है। वहीं जो जातक बहुराष्ट्रीय कंपनियों काम कर रहे हैं या विदेशों में बसना चाहते हैं,उनके लिए ये साल अच्छा साबित होगा, क्योंकि आपकी चंद्र राशि का स्वामी शुक्र इस दौरान द्वादश भाव में विराजमान रहेगा और यह भाव विदेशी मामलों के बारे में दर्शाता है। इस दौरान रचनात्मक कार्य करना भी आपके लिए शुभ रहेगा।

संभल कर रहें: स्वास्थ्य का ध्यान रखना इस दौरान आपके लिए बहुत जरुरी होगा।

वृषभ दूसरी राशि

3. मिथुन
ज्योतिष में तीसरी राशि यानि मिथुन का स्वामी खुद इस नए साल का राजा है। ऐसे में ग्रहों की स्थिति बताती है कि इस साल आपको भाग्य का पूरा सहयोग प्राप्त होगा क्योंकि आपकी चंद्र राशि का स्वामी बुध आपके भाग्य के नवम भाव में विराजमान है। इस राशि के जातकों को कई अच्छे अवसर इस दौरान प्राप्त हो सकते हैं जिनसे इनकी आमदनी दोगनी होने की संभावना है। इस साल आप अपनी ऊर्जा को निवेश और बचत में लगा सकते हैं, इन कामों के लिए यह साल अच्छा है इससे आपके परिवार का भविष्य भी सुधरेगा। इस समय आप धार्मिक यात्राओं पर भी जा सकते हैं।

संभल कर रहें: अपने प्रियजनों के साथ आपको बातचीत करते रहना चाहिए, अन्यथा आपके रिश्तों में कुछ उतार चढ़ाव इस दौरान देखने को मिल सकता है।

4. कर्क
कर्क राशि के कुछ जातकों को उपहार मिल सकते हैं, वहीं कुछ जातकों की आमदनी में वृद्धि भी हो सकती है। इस राशि के कारोबारियों को भी लाभ होगा। वहीं इस राशि के जातकों द्वारा अतीत में किये गये कामों का अच्छा फल इस साल मिल सकता है क्योंकि उनकी राशि का स्वामी चंद्रमा उनके भाग्य भाव में विराजमान है। दशम भाव के स्वामी मंगल की उच्च स्थिति दर्शाती है कि आप अपने कार्यों को सही तरीके से अनजाम दे पाएंगे। कर्क राशि के जातकों के घर में कोई मांगिलक कार्य भी इस साल हो सकता है।

सिंह राशि

5. सिंह
सिंह राशि के जातक इस वर्ष आशावादी और सामाजिक बने रहें इससे आपको सकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। इस साल आपको कोई भी काम जल्दबाजी में नहीं करना चाहिए, कोई भी फैसला लेने से पहले फायदे नुक्सान के बारे में जरुर सोच लें नहीं तो घाटे में आ सकते हैं। अपने गुरुजनों या घर के बड़ों से सलाह मशवरा करना आपके लिए सही रहेगा इससे धन की हानि करने से बच सकते हैं।

संभल कर रहें: अपने स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें, वरना कमाई का अधिकतर हिस्सा आपको सेहत पर ही खर्च करना पड़ सकता है।

6. कन्या
इस नव वर्ष के राजा बुध छठी राशि यानि कन्या राशि के भी स्वामी हैं। ऐसे में इस साल के ग्रहों की स्थिति साफ संकेत देती हैं कि यह साल आपके लिए सफलतादायक रहेगा और आर्थिक रुप से फायदे में रहेंगे। इसके साथ ही इस राशि के लोगों को सम्मान और प्रशंसा की प्राप्ति होगी। आपकी चंद्र राशि के स्वामी बुध की स्थिति से पता चलता है कि इस राशि के पेशेवर लोगों को अपने पसंदीदा क्षेत्रों में इस दौरान अवसरों की प्राप्ति होगी। वहीं कारोबारियों को भी अच्छा लाभ होने की संभावना है। वहीं विवाहित लोगों के जीवन में कोई मांगलिक कार्य इस दौरान हो सकता है।

संभल कर रहें: आपके जिद्दीपन से रिश्तों में दिक्कतें आ सकती हैं।

तुला सातवीं राशि

7. तुला
सातवीं राशि जिसका स्वामी शुक्र है यानि तुला को कार्यक्षेत्र में इस समय शुभ फल प्राप्त हो सकते हैं। आपकी चंद्र राशि के स्वामी ग्रह शुक्र का साझेदारी के भाव में होना रिश्तों में नयी ऊर्जा भरेगा। वहीं इस साल ग्रहों की स्थिति से आपका कर्म भाव जिससे आपके करियर के बारे में भी पता चलता है सक्रिय अवस्था में रहेगा।इस दौरान आपका स्वास्थ्य भी बहुत अच्छा रहने की उम्मीदे है।

संभल कर रहें: आपके चतुर्थ भाव में दो क्रूर ग्रहों की स्थिति आपकी माता को स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां दे सकती है।

8. वृश्चिक
आपकी यानि वृश्चिक...नये साल की कुंडली की लग्न राशि आपके भाग्य के घर को सक्रिय कर देगी जिससे पता चलता है कि इस राशि के नौकरी पेशा लोगों की आमदनी में वृद्धि हो सकती है और आपके नए अवसर भी प्राप्त हो सकते हैं। इस राशि के कारोबारियों का कारोबार भी इस वर्ष फलेगा। वहीं आपकी राशि का स्वामी मंगल उच्च अवस्था में है, जो बताता है कि आप जीवन की परेशानियों और मुश्किल परिस्थितियों से बाहर निकल सकते हैं। आपकी आत्मशक्ति में इस साल वृद्धि हो सकती है। साथ ही ज्ञान प्राप्ति और आध्यात्मिक उन्नति के लिए भी यह साल अच्छा रहेगा।

संभल कर रहें: आपको कोई भी ऐसा वादा करने से बचना चाहिए जिसे आप निभा नहीं सकते, नहीं तो आपकी छवि पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है।

गुरु की राशि धनु

9. धनु
गुरु की राशि धनु राशि वालों में असुरक्षा और चिंता की भावना बढ़ सकती है जिसके कारण आपके स्वास्थ्य पर भी बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इसका कारण नये वर्ष की लग्न राशि कर्क का अनिश्चितता के अष्टम भाव में होना है। जबकि आपकी चंद्र राशि के स्वामी गुरु का आपके लग्न भाव में होना आपके लिए थोड़ा सुकूनदायक रहेगा। आपके द्वितीय भाव के स्वामी शनि का अपने घर में होना आपके लिए अच्छा रहेगा इससे आपकी आर्थिक उन्नति होगी, लेकिन धन की बचत करने में कुछ मुश्किलें आपको आ सकती हैं।

संभल कर रहें: आपकी वाणी की कठोरता पारिवारिक जीवन में दिक्कत पैदा कर सकती है, इसलिए शब्दों को सोच समझकर इस्तेमाल करें।

10. मकर
शनि की राशि मकर के जातक नव वर्ष में नए रिश्ते और नए कारोबारी संबंध बना सकते हैं क्योंकि नव वर्ष की लग्न राशि कर्क आपके सप्तम भाव में होगी। इस भाव से आपकी साझेदारियों के बारे में पता चलता है। इस दौरान यात्राएं करना आपके लिए सफलतादायक रहेगा। अपने कार्यों के लिए प्रशंसा प्राप्त करना चाहेंगे जो आपकी ऊर्जा को बर्बाद करने वाला साबित होगा। शारीरिक क्रियाएं जैसे व्यायाम करना आपकी ऊर्जा को सही दिशा देने के लिए फायदेमंद होगा।

संभल कर रहें: मंगल और शनि की आपके लग्न भाव में स्थिति आपको आक्रामक बना सकती है।

शनि के प्रभुत्व वाली कुंभ राशि

11. कुंभ
शनि के प्रभुत्व वाली कुंभ राशि के जातकों के लिए नए साल की लग्न राशि कर्क की स्थिति उनके षष्ठम भाव में होगी जिसके कारण आपके शत्रुओं की संख्या में वृद्धि हो सकती है और और आपके ऊपर उधार बढ़ सकता है। अपने खर्चों को लेकर इस दौरान सावधान रहें और आमदनी और खर्चों के बीच संतुलन बनाने की कोशिश करें। स्वास्थ्य को लेकर आपको कुछ दिक्कतों का सामना इस दौरान करना पड़ सकता है। सामाजिक बने रहें, दोस्तों से मिलते जुलते रहें क्योंकि आखिर वो ही आपके काम आएंगे। इस राशि के जो लोग विदेशों में बसना चाहते हैं उन्हें इस दौरान सफलता मिल सकती है।

संभल कर रहें: दुर्घटना होने की भी संभावना है, इसलिए संभलकर रहें।

12. मीन
गुरु के प्रभुत्व वाली मीन राशि को इस दौरान द्वितीय भाव के स्वामी मंगल और एकादश भाव के स्वामी शनि की युति आपको सफलता और लाभ दिलाएगी। आपकी अधूरी इच्छाएं भी इस वर्ष पूरी हो सकती हैं। वहीं मीन के जातकों के परिवार में किसी नए सदस्य की एंट्री हो सकती है, इसका कारण ये है कि नए वर्ष की लग्न राशि आपके पंचम भाव में है और पंचम भाव से संतान प्रेम और रोमांस के बारे में पता चलता है।

वहीं इस राशि के जो जातक सिंगल हैं वो किसी खास से इस दौरान मिल सकते हैं, विवाहित जातकों के जीवन में प्यार और संतुलन बना रहेगा। इस राशि के विद्यार्थियों को शिक्षा के क्षेत्र में भी इस दौरान सफलता मिलेगी। इस राशि के पेशेवर लोगों को उनके विचारों के लिए सम्मान मिल सकता है, इस राशि के कारोबारियों को भी उनकी योजनाओं से लाभ होने की संभावना है।

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned