आज रविवार को बने सर्वार्थसिद्धि और त्रिपुष्कर योग, इन कार्यों को करने से होगा चमत्कार

Sunil Sharma

Publish: Sep, 03 2017 09:05:00 (IST)

Horoscope
आज रविवार को बने सर्वार्थसिद्धि और त्रिपुष्कर योग, इन कार्यों को करने से होगा चमत्कार

द्वादशी भद्रा संज्ञक तिथि पूर्वाह्न ११.१३ तक, इसके बाद त्रयोदशी जया संज्ञक तिथि रहेगी

द्वादशी भद्रा संज्ञक तिथि पूर्वाह्न ११.१३ तक, इसके बाद त्रयोदशी जया संज्ञक तिथि रहेगी। द्वादशी तिथि में यथाआवश्यक विवाहादि मांगलिक कार्य, जनेऊ तथा अन्य मांगलिक कार्य शुभ होते हैं। पर द्वादशी में यात्रा नहीं करना चाहिए। त्रयोदशी में यात्रा, प्रवेश, विवाहादि मांगलिक कार्य करने योग्य हैं। यज्ञोपवीत को छोडक़र।

नक्षत्र: उत्तराषाढ़ा ‘ध्रुव व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र प्रात: ९.३७ तक, उसके बाद श्रवण ‘चर व ऊध्र्वमुख’ संज्ञक नक्षत्र रहेगा। उत्तराषाढ़ा नक्षत्र में देवस्थापन, विभूषित करना, गृहारंभ, यात्रा, प्रवेश व विवाहादि मांगलिक कार्य और श्रवण नक्षत्र में प्रतिष्ठा, वास्तु-पुष्टता, कारीगरी, मांगलिक, जनेऊ, वाहन और शांति संबंधी समस्त कार्य करने चाहिए।

विशिष्ट योग: सर्वार्थसिद्धि शुभ योग सूर्योदय से प्रात: ९.३७ तक तथा त्रिपुष्कर शुभाशुभ योग भी प्रात: ९.३७ तक है। त्रिपुष्कर में अपने नाम के अनुसार कोई भी लाभ-हानि या शुभाशुभ कार्य घटित हो तो कुल तीन बार घटित होता है।

चंद्रमा: संपूर्ण दिवारात्रि मकर राशि में रहेगा।

शुभ वि.सं. : २०७४, संवत्सर: साधारण, अयन: दक्षिणायन, शाके: १९३९, हिजरी: १४३८, मु.मास: जिलहिज-११, ऋतु: शरद्, मास: भाद्रपद, पक्ष: शुक्ल।

वारकृत्य कार्य : रविवार को सामान्यत: सभी स्थिर संज्ञक कार्य, राज्याभिषेक, मांगलिक कर्म, यान, यात्रा, मंत्र, अस्त्र, औषध, सेवा-नौकरी, धातु और यज्ञादि कार्य शुभ व सिद्ध होते हैं।

दिशाशूल : रविवार को पश्चिम दिशा की यात्रा में दिशाशूल रहता है। चंद्र स्थिति के अनुसार आज दक्षिण दिशा की यात्रा लाभदायक व शुभप्रद रहेगी।

श्रेष्ठ चौघडि़ए
आज प्रात: ७.४५ से दोपहर १२.२६ तक क्रमश: चर, लाभ व अमृत तथा दोपहर बाद २.०० से अपराह्न ३.३४ तक शुभ के श्रेष्ठ चौघडि़ए हैं तथा दोपहर १२.०१ से दोपहर १२.५१ तक अभिजित नामक श्रेष्ठ मुहूर्त है, जो आवश्यक शुभकार्यारम्भ के लिए अत्युत्तम हैं। ज्योतिष के अनुसार इस मुहूर्त में आरंभ किए गए कार्यों में अवश्य ही सफलता मिलती है।

राहुकाल
सायं ४.३० बजे से सायं ६.०० बजे तक राहुकाल वेला में शुभ कार्यारंभ यथासंभव वर्जित रखना हितकर है। इस समय भूल कर भी कोई नया कार्य आरंभ न करें।

1
Ad Block is Banned