2000 और 500 के नोट ने एक बार फिर बढ़ाई मुसीबत, यह है मामला

2000 और 500 के नोट ने एक बार फिर बढ़ाई मुसीबत, यह है मामला

sandeep nayak | Publish: Mar, 14 2018 04:39:50 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

एलडीएम ने आरबीआई को पत्र लिखकर कराया अवगत

होशंगाबाद। नोटबंदी के दौरान लोगों की नींद उड़ाने वाले बड़े नोट 2000 और 500 के नोटों ने एक बार फिर से लोगों को परेशानी में डाल दिया है। हलांकि इस बार मामला कुछ अलग है। दरअसल इन नोटों की आपूर्ति शहर में नहीं हो पाने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यही कारण है कि अधिकतर समय शहर के एटीएम बंद पड़े रहते हैं। एलडीएम आरके त्रिपाठी का कहना है कि बड़े नोट की मांग के लिए आरबीआई को पत्र लिखा गया है।

 

5 से 6 घंटे में ही खाली हो रहे एटीएम
बड़े नोट नहीं मिलने के कारण बैंक में छोटे नोट भरे जा रहे हैं। इस कारण शहर के एटीएम कुछ ही देर में खाली हो जाते हैं। जिस कारण बाकी के समय शहरवासियों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। आपको बता दें कि शहर में करीब ७० एटीएम अलग-अलग बैकों के हैं।

 

500 or 2000 Rupee New Notes And Rbi Latest News

इसलिए हो रही परेशानी
शहर में 2000 और 500 के नोट की आपर्ति बराबर नहीं हो पा रही है। हालात यह है कि पिछले एक माह में यह नोट काफी कम आए हैं। जिस कारण एटीएम में 100 और 200 रुपए के नोट ही भरे जाते हैं। इस कारण यह जल्द ही खाली हो जाते हैं।

एलडीएम ने आरबीआई को लिखा पत्र
बड़े नोटों की शहर में हो रही किल्लत के कारण एलडीएम ने आरबीआई को पत्र लिखकर अवगत कराया है। साथ ही बड़े नोट की आपूर्ति की मांग की है।

 

500 or 2000 Rupee New Notes And Rbi Latest News

अधिकांश दुकानों पर स्वाइप मशीन नहीं
शहर में खरीददारी के दौरान बड़ी राशि देने में नकदी का उपयोग लोगों को करना पड़ रहा है। दरअसल शहर के बाजार में मौजूद अधिकांश दुकानों पर स्वाइप मशीन नहीं है। और एटीएम से छोटे नोट निकलने के कारण यह जल्द ही खाली हो जाते हैं। इस कारण लोगों को पैसे नहीं निकल पाते हैं। जिस कारण या तो वह बैंक का रूख करते हैं जहां ुउनका समय खराब होता है या फिर दुकान पर चैक देना पड़ता है।

क्या कहते हैं लोग
इटारसी में रहकर मेडिकल का काम करने वाले राकेश बताते हैं कि बड़े नोट नहीं मिलने के कारण काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। कई बार क्लाइंट को पेमेंट करने के लिए एटीएम पर पहुंचते हैं तो कैश ही नहीं मिल पाता, ऐसे में चैक देना पड़ता है या फिर क्लाइंट को इंतजार करना पड़ता है।

 

एक नजर में आंकड़े
- शहर में करीब 48 बैंक शाखाएं
- नोटों की कमी से 26 करोड़ रुपए का लेनदेन प्रभावित
- शहर में करीब 70 एटीएम अलग-अलग बैकों के

Ad Block is Banned