शर्मा बंधु की खदान पर दस घंटे चली कार्रवाई, खाली-भरे 12 डंपर जब्त

विधानसभा अध्यक्ष और विधायक के रिश्तेदारों की खदान एवं डंपर पर कार्रवाई, रात से दोपहर तक 28 डंपर-ट्रक पकड़े

 

By: devendra awadhiya

Published: 10 Nov 2017, 11:43 AM IST

होशंगाबाद। रायपुर में स्थित विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीताशरण शर्मा के भतीजे वैभव शर्मा की खदान पर दूसरे दिन गुरुवार को सुबह छह बजे फिर पुलिस ने चंद घंटे के अंतराल में छापा मारा। दूसरी बार यहां से दो भरे और दस खाली डंपर जब्त किए। जबकि बुधवार रात में तीन डंपर मिले थे। यह कार्रवाई करीब दस घंटे चली। इसके साथ ही पुलिस ने एक अन्य खदान से एक पोकलेन एवं तीन डंपर सहित सड़क से 28 डंपर व ट्रक पकड़े। इनमें भाजपा विधायक विजयपाल सिंह के रिश्तेदारों के डंपर भी शामिल हैं। एसपी अरविंद सक्सेना ने बताया कि बुधवार रात से गुरुवार शाम तक एक पोकलेन और 28 डंपर एवं ट्रक एवं एक ट्रैक्टर-ट्राली जब्त किए हैं। एएसपी शशांक गर्ग के नेतृत्व में विभिन्न विभागों की संयुक्त टीम ने रायपुर स्थित पूर्व विधायक गिरिजाशंकर शर्मा के बेटे वैभव की खदान और जासलपुर स्थित डिजियाना कंपनी की खदान पर कार्रवाई की। डिजियाना इंदौर के तेजेंद्र भाटिया की है, जहां से एक पोकलेन, एक डंपर एवं दो ट्रक पकड़े। पिपरिया में दो डंपर और सिवनी-मालवा में एक ट्रैक्टर-ट्राली पर कार्रवाई की। ट्रक और डंपर ओवरलोड और बॉडी में फेरबदल करने पर पकड़े गए। रात में पुलिस ने रायपुर खदान आसपास से 11 डंपर और गुरुवार को रायपुर, जासलपुर सहित अन्य स्थान से 1७ डंपर और एक पोकलेन जब्त की।

 

यह किसके डंपर हैं सरकार...
पुलिस द्वारा पकड़े गए डंपरों पर भाग्य श्री, एपीएस, राजपूत होटल, गुरु रोडलाइन्स बुधनी और चौहान इंटरप्राइजेज कोर्ड वर्ड लिखे हुए हैं। सूत्र बताते हैं कि यह रसूखदारों के कोड वर्ड हैं, जिन्हें देखकर अब तक पुलिस और खनिज विभाग कार्रवाई नहीं करता था। लेकिन एसपी के फ्री हैंड देने पर यह भी पकड़े जा रहे हैं। यह डंपर और ट्रक विधायक, सांसद और आईपीएस अफसर के नाते-रिश्तेदार तथा करीबी लोगों के हैं। इनमें शिशुपाल सिंह उर्फ मुट्टा सेठ के डंपर चल रहे हैं और संतोष जैन की रेत खदान हैं। एपीएस लिखा हुए डंपर पर तो नंबर प्लेट ही नहीं है। इतना ही नहीं ऐसे डंपर भी जब्त हुए जिनका परिवहन विभाग की बेवसाइट पर रिकार्ड ही नहीं है। ऐसे भी डंपर है, जिनके मालिकों के रूप में तीन-तीन नाम दर्ज हैं।

मूल स्वरूप ही बदल दिया: शुक्ला
जिला खनिज अधिकारी शशांक शुक्ला ने बताया कि खाली ट्रक और डंपर इसलिए जब्त किए हैं, क्योंकि इनके मालिकों ने इनका मूल स्वरूप ही बदल दिया। बॉडी बढ़ा दी गई, ताकि ज्यादा रेत भर सकें। यह परिवहन नियमों का सरासर उल्लंघन हैं। जबकि सड़क से उन ट्रक एवं डंपरों को पकड़ा है जो ओवरलोड एवं अवैध रूप से रेत ले जा रहे थे। शुक्ला ने बताया कि वैभव की खदान पर भी एक पोकलेन चल रही थी, जिसे टीम के पहुंचने से पहले भगा दिया गया।

हमने बंद कर दी खदान : यादव
पार्षद एवं रायपुर खदान में साझेदार महेंद्र यादव ने कहा कि हमारी खदान पर कोई पोकलेन नहीं मिली, मजदूर रेत भर रहे थे। यहां से खाली डंपर भी जब्त किए गए। टीम चारों तरफ से घेराबंदी करते हुए सुबह छह बजे पहुंची थी, जो चार बजे तक रही। हमने अपनी खदान बंद कर दी है। सभी वैध खदान संचालक इस कार्रवाई के विरोध में एकजुट हो रहे हैं। पोकलेन को भगाकर नहीं ले जाया जा सकता है।

devendra awadhiya Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned