बीमारी से माता-पिता की मौत, अब मासूम को हुई बीमारी, संस्थाएं भी नहीं दे रही सहारा

बीमारी से माता-पिता की मौत, अब मासूम को हुई बीमारी, संस्थाएं भी नहीं दे रही सहारा

poonam soni | Updated: 14 Sep 2019, 01:11:16 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

एड्स पीडि़त मासूम को सहारा नहीं दे रही संस्था

होशंगाबाद/जिले में एक और एड्स पीडि़त बच्चा सामने आया है। इसे बीमारी के कारण कोई संस्था रखने को तैयार नहीं है। बाल कल्याण समिति सदस्यों श्वेता चौबे ने बताया कि मासूम घुमंतू परिवार का है। इसकी मां भी एचआइवी पीडि़त थी। जिससे उसके माता-पिता की मौत हो गई थी। माँ-बाप की मौत के बाद बच्चा लावारिस घूम रहा था। चाइल्ड लाइन वालों को यह बच्चा ७ सिंतबर को मिला। इन्होंने इसका इलाज हमीदिया में कराया है। इसके बाद गुरूवार को बाल कल्याण समिति के आदेश पर जिला अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया। वहीं इन बच्चों को जीवोदय संस्था में भी रखने के आदेश जारी हुए है। लेकिन 15 साल के बच्चें को ही यहां रखा गया। बाकी बीमारी की बजह से १० साल के एड्स पीडि़त को रखने से मना कर दिया।

विभागों के बीच आपसी सामंजस्य नहीं है
मुस्कान संस्था के संचालक मनीष ठाकुर का कहना है कि जिले में विभागों के बीच आपसी सामंजस्य नहीं है। जिसका असर मानसिक विकलांग, एमआर व गंभीर बीमारी में मिले अनाथ बच्चों पर पड़ता है। सामाजिक न्याय विभाग, महिला बाल विकास, राज्य शिक्षा केंद्र और स्वास्थ्य विभाग के बीच कार्डिनेशन कर एक पुर्नवास केंद्र की व्यवस्था करना चाहिए।
टीवी पीडि़त होने पर भी दूसरे बच्चे के साथ रह रहा बच्चा
एड्स पीडि़त बच्चा पहले भी चाइल्ड लाइन को मिला था। उस बच्चे के साथ भी संरक्षण व अटेंडर मिलने में दिक्कते हुई। लेकिन बाद में हमीदिया में इलाज कराकर उसे वापस शिशु गृह में ही आसरा दिया गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned