आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मामले में बड़ा निर्णय

350 आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को नोटिस, सोमवार तक काम पर लौटने का अल्टीमेटम

By: ghanshyam rathor

Published: 09 Dec 2017, 11:34 AM IST

बैतूल। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के मामले में बड़ा निर्णय आया है। पिछले एक सप्ताह से कलेक्टारेट के सामने धरना प्रदर्शन कर रही आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा शुक्रवार को काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन किया गया। इस दौरान महिलाओं ने कलेक्टोरेट पहुंचकर जिला प्रशासन को ज्ञापन भी सौंपा। ज्ञात हो कि अपनी जायज मांगों को लेकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा प्रतिदिन धरना प्रदर्शन किया जा रहा है।
इधर महिला बाल विकास विभाग ने बगैर छुट्टी लिए धरना प्रदर्शन कर रही ३५० आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को सीडीपीओ के माध्यम से नोटिस जारी किया गया हैं। साथ ही कार्यकर्ताओं को सोमवार तक काम पर वापस लौटने का अल्टीमेटम दिया गया है। यदि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता काम पर वापस नहीं लौटती है तो उनके विरूद्ध सेवा से पृृथक करने की कार्रवाई की जा सकती है।
दूसरे तरीके से विरोध करें कार्यकर्ता: अटल सेना
बुलंद नारी शक्तिआंगनवाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका संगठन के बैनर तले जिले की आंगनबाड़ी कार्यकर्ता व सहायिका हड़ताल पर है। अटल मानव समस्या निवारण समिति (अटल सेना) के अध्यक्ष राजेन्द्र सिंह चौहान ने कहा कि अटल सेना आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की जायज मांगों का समर्थन करता है, परन्तु विरोध करने के और भी तरीके हैं। कार्यकर्ता व सहायिका अपना कार्य करते हुए शहर में स्वच्छता अभियान, जल संरक्षण, पर्यावरण आदि मुद्दों पर कार्य कर लोगों और प्रशासन का ध्यान अपनी मांगों की ओर आकर्षित करें।

इसके पहले आंगनबाड़ी कार्यकार्ताओं द्वारा की जा रही हड़ताल को समाप्त करने के लिए जिला कार्यक्रम अधिकारी सुमन कुमार पिल्लई ने सभी आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को हड़ताल समाप्त कर केन्द्र खोलने के निर्देश दिए है। मोबाइल से कार्यकर्ताओं को बर्खास्तगी का मैसेज भी भेजा जा रहा है।
जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि योजनानुसार हितग्राहियों को वर्ष में कम से कम ३०० दिन का पूरक पोषण आहार उपलब्ध कराने के सर्वोच्च न्यायालय के निर्देश है। आंगनबाडी कार्यकर्ताओं द्वारा लंबित हड़ताल किए जाने से योजना प्रभावित हो रही है। हड़ताल में शामिल होने वाली कार्यकर्ताओं को सहायिकाओं के खिलाफ में कार्रवाई करने के निर्देश जारी किए है।

ghanshyam rathor Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned