नाराज स्वास्थ्यकर्मियों ने दिया धरना, सीएमएचओ ने कहा- बीएमओ करेंगे सत्यापन तभी मिलेगा वेतन

नाराज स्वास्थ्यकर्मियों ने दिया धरना, सीएमएचओ ने कहा- बीएमओ करेंगे सत्यापन तभी मिलेगा वेतन
Angry health workers protest, CMHO said - BMO will verify only then salary

Manoj Kumar Kundoo | Updated: 21 Aug 2019, 09:03:49 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

मुख्यालय पर नहीं रहने वाले स्वास्थ्यकर्मियों का अटका वेतन

 

होशंगाबाद

वेतन नहीं मिलने से नाराज स्वास्थ्यकर्मियों ने सोमवार को सीएमएचओ कार्यालय के सामने धरना दे दिया। धरने के बाद सीएमएचओ डा. दिनेश कौशल को ज्ञापन देकर समस्याएं बताई। सीएमएचओ ने समस्याओं के निराकरण की बात कही। वेतन के संबंध में दो टूक जबाव देते हुए कहा- जब तक संबंधित क्षेत्र के बीएमओ सत्यापित नहीं करेंगे कि स्वास्थ्यकर्मी मुख्यालय पर रह रहे हैं, तब तक वेतन नहीं मिलेगा। ज्ञात रहे कि कलेक्टर के निर्देश पर सीएमएचओ ने जिले की सभी एएनएम को मुख्यालय पर रहने के निर्देश दिए थे। जिले में कार्यरत लगभग १७० में से ९० एएनएम द्वारा अपडाउन नहीं करने संबंधी पत्र बीएमओ से सत्यापित कराकर जमा कर दिया गया है। जिसके बाद उन्हें वेतन भी मिल गया। शेष एएनएम को अब तक वेतन नहीं मिला है। इसी वजह से विरोध में धरना दिया गया। बहुउद्देशीय स्वास्थ्य संगठन की उपप्रांतीय अध्यक्ष अनामिका वर्मा ने कहा कि वेतन नहीं मिलने व अन्य समस्याओं के संबंध में धरना दिया गया था। सीएमएचओ व एडीएम केडी त्रिपाठी को ज्ञापन दिया है।
------------
स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने बताई ये समस्याएं-
-अकेले ८-१० गांव में स्वास्थ्य सेवा बिना परिवहन सुविधा के संचालित कर रहे हैं।
-बारिश में उप स्वास्थ्य केंद्रों की स्थिति क्षतिग्रस्त है। केंद्रों में मूलभूत सुविधाओं अभाव है।
-कई उपस्वास्थ्य केंद्र गांव से दूर बनाए गए हैं। जो निवास करने योग्य नहीं है।
-महिला कर्मचारी होने से पारिवारिक व बच्चों की शिक्षा का दायित्व भी है।
------------
इनका कहना है...
स्वास्थ्य कर्मचारियों ने ज्ञापन दिया है। समस्याओं का निराकरण कराएंगे। जहां तक वेतन का मामला है, जब तक स्वास्थ्यकर्मी मुख्यालय पर निवास का पत्र बीएमओ से सत्यापित कराकर नहीं देंगे। वेतन नहीं मिलेगा।
-डा. दिनेश कौशल, सीएमएचओ होशंगाबाद

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

नाराज स्वास्थ्यकर्मियों ने दिया धरना, सीएमएचओ ने कहा- बीएमओ करेंगे सत्यापन तभी मिलेगा वेतन

-मुख्यालय पर नहीं रहने वाले स्वास्थ्यकर्मियों का अटका वेतन फोटो : एचडी२०३१- पत्रिका न्यूज नेटवर्क. होशंगाबाद वेतन नहीं मिलने से नाराज स्वास्थ्यकर्मियों ने सोमवार को सीएमएचओ कार्यालय के सामने धरना दे दिया। धरने के बाद सीएमएचओ डा. दिनेश कौशल को ज्ञापन देकर समस्याएं बताई। सीएमएचओ ने समस्याओं के निराकरण की बात कही। वेतन के संबंध में दो टूक जबाव देते हुए कहा- जब तक संबंधित क्षेत्र के बीएमओ सत्यापित नहीं करेंगे कि स्वास्थ्यकर्मी मुख्यालय पर रह रहे हैं, तब तक वेतन नहीं मिलेगा। ज्ञात रहे कि कलेक्टर के निर्देश पर सीएमएचओ ने जिले की सभी एएनएम को मुख्यालय पर रहने के निर्देश दिए थे। जिले में कार्यरत लगभग १७० में से ९० एएनएम द्वारा अपडाउन नहीं करने संबंधी पत्र बीएमओ से सत्यापित कराकर जमा कर दिया गया है। जिसके बाद उन्हें वेतन भी मिल गया। शेष एएनएम को अब तक वेतन नहीं मिला है। इसी वजह से विरोध में धरना दिया गया। बहुउद्देशीय स्वास्थ्य संगठन की उपप्रांतीय अध्यक्ष अनामिका वर्मा ने कहा कि वेतन नहीं मिलने व अन्य समस्याओं के संबंध में धरना दिया गया था। सीएमएचओ व एडीएम केडी त्रिपाठी को ज्ञापन दिया है।
------------
स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने बताई ये समस्याएं-
-अकेले ८-१० गांव में स्वास्थ्य सेवा बिना परिवहन सुविधा के संचालित कर रहे हैं।
-बारिश में उप स्वास्थ्य केंद्रों की स्थिति क्षतिग्रस्त है। केंद्रों में मूलभूत सुविधाओं अभाव है।
-कई उपस्वास्थ्य केंद्र गांव से दूर बनाए गए हैं। जो निवास करने योग्य नहीं है।
-महिला कर्मचारी होने से पारिवारिक व बच्चों की शिक्षा का दायित्व भी है।
------------
इनका कहना है...
स्वास्थ्य कर्मचारियों ने ज्ञापन दिया है। समस्याओं का निराकरण कराएंगे। जहां तक वेतन का मामला है, जब तक स्वास्थ्यकर्मी मुख्यालय पर निवास का पत्र बीएमओ से सत्यापित कराकर नहीं देंगे। वेतन नहीं मिलेगा।
-डा. दिनेश कौशल, सीएमएचओ होशंगाबाद

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned