दवा बाजार: कम हो गई एंटीबायोटिक दवाओं की बिक्री

स्थिति: क्रोनिक केटेगरी डायबिटीज, बीपी, हार्ट, किडनी से संबंधित दवाओं की बढ़ी मांग

By: poonam soni

Published: 21 May 2020, 07:07 PM IST

होशंगाबाद. लॉकडाउन के कारण दवा बाजार भी अछूता नहीं रहा है। कोरोना के चलते अस्पतालों में मरीज नहीं आने से बाजार में संक्रामक बीमारियों के उपचार से जुड़ी दवाइयों की बिक्री कम हो गई है। ऐसा ही हाल जिले के सरकारी अस्पतालों का भी है, अस्पतालों में भी एंटीबायोटिक दवाओं की मांग तेजी से घटी है। होशंगाबाद कैमिस्ट एसोसिएशन के अनुसार करीब 20 करोड़ का कारोबार होता था अब इमें 30 फीसदी की कम आई है।

इम्यूनिटी दवाओं की बिक्री बढ़ी
दवा बाजार से मिले आंकड़े बताते हैं कि गायनेकोलॉजिकल दवाओं की बिक्री 25, अस्थमा की दवाओं की बिक्री 20 प्रतिशत और चर्म रोग की दवाओं की बिक्री पिछले तीन महीने में 20 प्रतिशत कम हुई है। हालांकि रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने की दवाओं की बिक्री 30 प्रतिशत बढ़ी है। डायबिटीज, बीपी, हार्ट, किडनी से संबंधित दवाओं की मांग बढ़ी है।
स्टॉक में ले गए दवा बनखेड़ी के दवा विक्रेता राजीव जैन के अनुसार क्रॉनिक कैटेगिरी वाली बीमारियों के मरीज स्टॉक में पहले से दवा ले गए हैं। इनमें बीपी, शुगर की दवा ज्यादा बिकी हैं। ऐसा ही स्थिति शहर की है।

25 प्रतिशत मरीज बढ़े
कोरोना संक्रमण के डर के कारण डिप्रेशन और बीपी के मरीजों में बढ़ोत्तरी हुई है। चिकित्सक बताते हैं कि डिप्रेशन में शासकीय सेवा में काम करने वाले वो लोग जा रहे हैं , जो लगातार काम कर रहे हैं।

अस्पतालों में ऑपरेशन नहीं हो रहे हैं, लॉकडाउन से लोगों को घर में रहना पड़ रहा है इसलिए अन्य संक्रमण के मामले घटे हैं। जिससे बहुत बड़ी मात्रा में एंटीबायोटिक का उपयोग कम हुआ है।
डॉ. सुधीर जैसानी, सीएमएचओ

लोग इन दिनों घरों में है, यही कारण है कि एंटीबायोटिक दवाओं की बिक्री में कमी आई है। जिस दुकान में 1 लाख की बिक्री होती थी, वो घटकर करीब 70 से 75 हजार रह गई है।
बृजेश श्रीवास्वत, अध्यक्ष दवा संघ

Show More
poonam soni
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned