चुनाव में सेना का दखल, नायब सूबेदार की पत्नी भी मैदान में

चुनाव में सेना का दखल, नायब सूबेदार की पत्नी भी मैदान में

Brijesh Chouksey | Publish: Jul, 13 2018 03:02:53 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh

प्रत्याशी ने लगाया सेना के अफसरों पर धमकाने का आरोप, बदला मतदान केंद्र

होशंगाबाद। राजनीति से दूर रहने वाली सेना पर भी अब राजनीति करने का आरोप लग रहा है। वह चुनावों में दखल दे रही है। उसके अफसर चुनाव मैदान में उतरे उम्मीदवारों को धमका रहे हैं। ऐसे ही एक आरोप के बाद सेना के क्षेत्र से मतदान केंद्र हटाकर सिविल क्षेत्र में करना पड़ा। मामला पर्यटन स्थल पचमढ़ी में 22 जुलाई को होने वाले छावनी परिषद के चुनाव से जुड़ा है। इसमें सेना पर भी दखल का आरोप लगा है।

वार्ड 7 के पार्षद पद के प्रत्याशी संजय लेडवानी ने सेना के दो अधिकारियों पर चुनावों में सीधा हस्तक्षेप करने के आरोप लगाते हुए जिला निर्वाचन अधिकारी कलेक्टर प्रियंका दास, निर्वाचन अधिकारी छावनी चुनाव और सेना के उच्चाधिकारियों से लिखित शिकायत की हैं। इसके बाद सेना क्षेत्र में स्थित मतदान केंद्र को बदल दिया गया है। शिकायत में कहा गया है कि वार्ड सात के मतदाता सैन्य क्षेत्र में निवास करते हैं। एक अन्य प्रत्याशी रजनी पति नायब सुबेदार शमशेर सिंह चौहान को एईसी सेंटर के कमान अधिकारी बिग्रेडियर समरवीर सिंह का खुला समर्थन मिल रहा है। बिग्रेडियर की शह पर सेंटर के सूबेदार मेजर रामजीराम गोदारा ने उन्हें धमकी देकर सैन्य क्षेत्र के मतदाताओं से मिलने नहीं दिया। इतना ही नहीं उन्होंने धमकी के साथ अशब्द बोलने के आरोप सैन्य अधिकारी पर लगाए हैं।

सिविल एरिया में किया मतदान केंद्र

एसडीएम व निर्वाचन अधिकारी मदनसिंह रघुवंशी ने बताया कि शिकायत के बाद मतदान केंद्र को हटा दिया है। अब नया मतदान केंद्र सिविल एरिया के शासकीय हाई स्कूल में बनाया गया है। निर्वाचन अधिकारी ने शिकायत को फॉरवर्ड करते हुए बिग्रेडियर के रवैये को लेकर सेना के उच्चाधिकारियों को पत्र लिखा है। इधर प्रत्याशियों ने एक वीडियो भी जारी किया है, जिसमें नायब सूबेदार की पत्नी के साथ कई फौजी नामांकन भरवाने के लिए पहुंचे थे।

इनका कहना है...

हमें इनके किसी आरोपों की कोई जानकारी नहीं है, हम सेना के फौजी है राजनीति से हमारा कोई लेना देना नहीं। वहीं यह राजनीति में है किसी पर भी कोई भी आरोप लगा सकते हैं। -समरवीर सिंह, बिग्रेडियर पचमढ़ी

Ad Block is Banned