बाबा रामदेव सॉल्वेक्स इंडस्ट्रीज संचालक पर मामला दर्ज करने बैंक मैनेजर ने दिया आवेदन

बैंक की बिना अनुमति निकाल ली थी मशीनरी, मामला होगा दर्ज

By: harinath dwivedi

Published: 10 Nov 2017, 04:58 PM IST

इटारसी। खेड़ा स्थित बाबा रामदेव सॉल्वेक्स प्राइवेट लिमिटेड के संचालकों पर अपराध दर्ज करने के लिए बैंक मैनेजर द्वारा आवेदन दिया गया है। इंडस्ट्रीज संचालक ने कुर्की के पहले ही बैंक की अनुमति के बगैर ही मशीनरी प्लांट से निकाल ली था। बाबा रामदेव सॉल्वेक्स इंडस्ट्रीज के भवन और जमीन को बैंक ने 9 अक्टूबर को कुर्क कर लिया है। लोन अदा नहीं करने के कारण फर्म संचालकों के खिलाफ यह कार्रवाई की गई थी। छठवीं लाइन स्थित रीतेश और इंद्रकुमार अग्रवाल की खेड़ा औद्योगिक क्षेत्र में बाबा रामदेव साल्वेट प्राइवेट लिमिटेड है।
ढाई करोड़ का था लोन
कार्पोरेशन बैंक से वर्ष 2013 में 40 लाख रुपए लिया जो बढ़कर ब्याज सहित 2 करोड़ 56 लाख रुपए हो गया था। बैंक प्रबंधक के अनुसार बैंक में मशीनरी को बंधक बनाकर लोन लिया था। जब कुर्की कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू हुई उसी दौरान संचालकों उद्योग के अंदर से मशीनरी गायब कर दी।
बैंक के पास बंधक रखी गई मशीनरी बिना बैंक की जानकारी के संचालकों द्वारा हटा ली थी। बिना अनुमति मशीनरी हटाने के कारण थाने में अपराध दर्ज करने का आवेदन दिया है।
गोविंद डेहरिया, प्रबंधक कार्पोरेशन बैंक, इटारसी

दूसरे दिन हुई गणना तो निवेश राशि का आंकड़ा तीन करोड़ 61 लाख के पार
इटारसी. एक और बड़ा चिटफंड घोटाला सामने आने वाला है। मालवांचल और यूएसके इंडिया के नाम की चिंटफंड कंपनियों ने गरीब लोगों से राशि जमा कराई है उसका सत्यापन करने तहसील कार्यालय में शिविर लगा है। शिविर के दूसरे दिन ही इन कंपनियों में निवेश की गई रकम का आंकड़ा 3 करोड़ ६१ रुपए से भी ज्यादा का हो गया है। शुक्रवार को शिविर के अंतिम दिन यह आंकड़ा कहां थमेगा, यह कहना मुश्किल है। उल्लेखनीय है कि कुछ निवेशकों ने अपने साथ हुई इस धोखाधड़ी की शिकायत की है। निवेशकों की शिकायत पर कलेक्टर कार्यालय के निर्देश पर पॉलिसियों के सत्यापन व दावा राशि के आकलन की प्रक्रिया हो रही है। इसके लिए शिविर लग रहा है। वहीं अधिवक्ता रमेश साहू ने बताया कि अभी दो दिन में ही इन कंपनियों में निवेश राशि का आंकड़ा ३ करोड़ ६१ लाख रुपए से भी ज्यादा का हो गया है। शुक्रवार को यह आंकड़ा और बढऩे की उम्मीद है।

harinath dwivedi Editorial Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned