पटरी पर ब्रिज बनाने रेलवे से ब्लॉक मिलने में हुई देरीसे पिछड़ा ९९५ करोड़ के फोरलेन का काम

पिछले साल बारिश और बाढ़ के कारण 3 किमी सड़क और गुंजारी नदी का डूब गया था पुल, बागदेव से सुखतवा तक कई जगह अधूरा पड़ा फोरलेन का काम

By: Manoj Kundoo

Published: 11 Sep 2021, 09:10 PM IST

होशंगाबाद
भोपाल-नागपुर के सफर को आसान बनाने वाले ९९५ करोड़ की लागत से बन रहे फोरलेन का काम अब सात महीने पिछड़ गया है। फोरलेन का काम मार्च २०२१ में पूरा होना था। पिछले साल बारिश और बाढ़ के कारण ३ किमी सड़क और गुंजारी नदी का पुल डूब गया था। एनकेसी कंपनी ने सड़क और पुल तोड़कर दोबारा बनाने का काम कर रही है। इसके अलावा जबलपुर रेल लाइन पर सनखेड़ा के पास रेलवे ट्रैक के ऊपर पुल निर्माण के लिए रेलवे ब्लॉक नहीं दे रही थी। इसी वजह से फोरलेन का काम सात माह लेट हो गया है। बारिश की वजह से फोरलेन पर बने गडरिया नाले के ब्रिज पर जगह-जगह गड्ढे और सीमेंट में क्रेक दिखने लगे है। सर्विस रोड भी उखड़ गई है। ट्रैफिक के इतने कम दबाव में ही फोरलेन की सड़कों और ब्रिज पर गड्ढों का होना चिंताजनक है। बुदनी से इटारसी होते हुए बागदेव के रास्ते सुखतवा के बीच फोरलेन सड़क का काम कई जगह अधूरा पड़ा है। ऐसे में अधूरे पड़े फोरलेन का सफर जोखिम भरा है।

अतिक्रमण हटाने के बाद भी नहीं शुरू हुआ काम-
केसला में प्रस्तावित फोरलेन सड़क के आसपास किया गया अतिक्रमण एक साल पहले हटाया जा चुका है। बाजवूद इसके अब तक निर्माण कार्य शुरू नहीं किया गया है। बागदेव से सुखतवा के बीच फोरलेन का काम धीमी गति से चल रहा है। पूरी सड़क पर जगह-जगह सड़क डायवर्ट के सूचना संकेतक लगाकर रखे गए हैं। ऐसे में रात के समय हादसा होने का खतरा बना हुआ है।

फोरलेन बनने से ये होगा फायदा-
औबेदुल्लागंज से बुदनी, जोशीपुर होते हुए बांद्राभान से फोरलेन निकलेगा। जोशीपुर और बांद्राभान के बीच नर्मदा पर ब्रिज बनाया गया है। बांद्राभान के बाद रायपुर, निटाया होते हुए फोरलेन इटारसी में आर्डनेंस फैक्टी के पास से होते हुए बागदेव चौकी के पास हाइवे से जुड़ता है। 34 किमी के बायपास से ट्रैफिक सुलभ होगा। भोपाल से नागपुर के रास्ते में बुदनी, होशंगाबाद और इटारसी नहीं आएंगे। इन शहरों से नई सड़क पर जाने के लिए 14 जगह एंट्री रहेगी। बुदनी के पास गडरिया नाला से इटारसी के आगे बाघदेव तक फोरलेन की नई सड़क से ट्रैफिक निकलेगा। भोपाल से इटारसी के 90 किमी के बीच 30 किमी का फेर कम होने से समय बचेगा।

इनका कहना है...
रेलवे से ब्रिज बनाने के लिए गर्डर का ब्लॉक नहीं मिल पा रहा था। इसी वजह से देरी हुई। अब फोरलेन पर जबलपुर रेल लाइन पर ब्रिज बनाने का काम चल रहा है। अभी हमारे टोल नाके भी नहीं बने हैं। टोल नाके बनने के बाद ही फोरलेन को शुरू किया जाएगा। नवंबर २०२१ तक काम पूरा करके सड़क हैंडओवर कर देंगे।
-संजीव शर्मा, प्रबंधक एनएचएआई

Manoj Kundoo Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned