बड़ी खबर : सरकार ने किसानों को दिया बड़ा तोहफा, फसलों के एमएसपी रेट बढ़ाए, यहां देखें लिस्ट

बड़ी खबर : सरकार ने किसानों को दिया बड़ा तोहफा, फसलों के एमएसपी रेट बढ़ाए, यहां देखें लिस्ट

Sandeep Nayak | Publish: Jul, 04 2018 03:37:11 PM (IST) | Updated: Jul, 04 2018 06:10:03 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

सरकार ने खरीफ की 16 फसलों के एमएसपी रेट बढ़ाए

 

होशंगाबाद। सरकार ने चुनावी तैयारी करते हुए किसानों को एक और बड़ी सौगात दी है। इसके अंतगर्त खरीफ की फसल पर केन्द्र सरकार ने न्यूनतम समर्थन मूल्य डेढ़ गुना बढ़ा दिया है। कैबिनेट के इस फैसले से किसानों को उनकी लागत का 50 प्रतिशत ज़्यादा न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलेगा। वहीं धान की एक क्विंटल फसल पर 200 और कपास की फसल पर 1100 रुपये बढ़ी हुई एमएसपी मिलेगी। खरीफ की सभी फसलों जैसे सोयाबीन, मक्का, उड़द, मूंग, धान, मूंगफली और कॉटन का न्यूनतम समर्थन मूल्य बढ़ेगा। रेट बढऩे से किसानों के चेहरों पर खुशी छा गई।

अब किसी फ़सल की पैदावार लागत में सभी खर्चे शामिल होंगे- जैसे बीज, खाद, कीटनाशक, मजदूरी, मशीन आदि. उसके आधार पर न्यूनतम समर्थन मूल्य तय किया जाएगा।

 

 

 

16 फसलों के दाम बढ़ाए
सूत्रों के मुताबिक मक्का का न्यूनतम मूल्य 1425 रुपए से बढ़ाकर 1,700 रुपए कर दिया गया है। तुअर का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5450 रुपए से बढ़ाकर 5,675 रुपए कर दिया है। उड़द के लिए 5,400 रुपए के बदले 5600 रुपए प्रति क्विंटल मिलेंगे। ज्वार का एमएसपी 1700-1725 रुपए से बढ़ाकर 2430 रुपए कर दिया गया है। उड़़द का न्यूनतम समर्थन मूल्य 5400 रुपए के बदले 5600 रुपए होगा। मूंग के लिए किसानों को 6975 रुपए प्रति 100 किलो मिलेंगे। अभी मूंग का समर्थन मूल्य 5,575 रुपए है। सोयाबीन का समर्थन मूल्य 3050 रुपए से बढ़कर 3,399 रुपए हो कर दिया है।

 

किसान खुश, मुख्य फसलों में कम बढ़ाए दाम
इधर फसलों के एमएसपी रेट बढऩे के बाद किसानों के चेहरों पर खुशी छा गई। क्योंकि १७ फसलों पर बंपर रुप से बढ़ोत्तरी की गई है। हलांकि जिले की मुख्य फसलों में अपेक्षाकृत दाम नहीं बढ़ाए गए हैं।

क्षेत्र में मुख्य फसल के रूप में मक्का, उड़द, धान सोयाबीन हैं। इन चारों फसल में एसएसपी लागत का डेढ़ गुना नहीं बढ़ाया गया है। मूंग को छोड़कर। इससे किसानों को अपेक्षा से कम लाभ मिलेगा।
विजय बाबू चौधरी, किसान कांग्रेस जिलाध्यक्ष होशंगाबाद


स्वागत योग्य कदम है इससे किसानों को राहत मिलेगी। पिछले साल जिन फसलों के दाम कम मिलने से किसानों को आर्थिक छति हुई थी, इस बार उसकी पूर्ति हो जाएगी।
शैलेष जैन मंटू, व्यापारी और पूर्व मंडल उपाध्यक्ष

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned