पिंजरे में कैद बछड़े, घरों में सिमटे बच्चे

-हमलावर हुए आवारा कुत्ते, बेपरवाह है नपा

 

By: Rahul Saran

Published: 10 Apr 2019, 10:00 AM IST

होशंगाबाद। शहर के चार वार्डों में आवारा कुत्तों का आतंक बढ़ गया है। आवारा कुत्तों के हमले के कारण उन वार्डों में रहने वाले परिवार दहशत में हैं। इन परिवारों को अपने मवेशियों के बछड़ों को पिंजरों में बंद करना पड़ रहा है तो घर के बच्चों को कमरों तक ही सीमित कर दिया गया है। आवारा कुत्तों के आतंक से निजात दिलाने के लिए इस क्षेत्र के एक पार्षद ने नपा के अफसरों से शिकायत की तो उन्हें मेनका गांधी के पशु प्रेम की याद दिलाकर अफसरों ने कार्रवाई करने से कन्नी काट ली।

वार्ड नंबर 10, 11, 12 और 13 में रहने वाले सैंकड़ों परिवार इन दिनों दहशत में है। यह दहशत यहां घूमने वाले आवारा कुत्तों ने फैलाई है। इन वार्डों में खुला क्षेत्र ज्यादा होने से करीब 100 आवारा कुत्ते सक्रिय हैं। इन कुत्तों ने पिछले कुछ महीनों से गौवंशीय पशुओं के छोटे बछड़ों पर हमला कर चालू कर दिया है। गौवंशीय पशु के नवजात बच्चों के साथ ही घरों में पल रहे कुछ महीनों तक के बछड़ों को कुत्ते खींचकर ले जा रहे हैं और मारकर खा रहे हैं। कुत्तों के इस रूप के कारण वहां के लोगों ने अपने-अपने छोटे बच्चों को भी अकेले बाहर छोडऩा बंद कर दिया है। लोगों ने अपने मवेशियों बचाने उन्हें पिंजरे में या घर के कमरों में ही बंाधना चालू कर दिया है।
किसने क्या कहा

हमने सीएमओ से आवारा कुत्तों की समस्या से निपटने के लिए कहा था तो उन्होंने मेनका गांधी के पशु प्रेम की कहानी सुनाकर अपनी लाचारी जता दी है मगर हकीकत में लोग बहुत दहशत में रह रहे हैं क्योंकि कुत्ते हमलावर हो गए हैं।
जीतेंद्र तिवारी, पार्षद वार्ड 12

यह समस्या हमारे संज्ञान में आई है। समस्या यह है कि पशुओं को जान से नहीं मार सकते हैं। उन्हें पकड़वाकर दूर छुड़वाने के विकल्प पर विचार कर रहे हैं। जल्द से जल्द यह कार्यवाही कराने का प्रयास किया जाएगा।
प्रभात कुमार ङ्क्षसह, सीएमओ होशंगाबाद

Rahul Saran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned