कलेक्टर-एसडीएम विवाद : यह क्या बोले मुख्यमंत्री कमलनाथ

कलेक्टर-एसडीएम विवाद : यह क्या बोले मुख्यमंत्री कमलनाथ
cm kamal nath

Amit Kumar Shrama | Publish: Sep, 19 2019 12:35:25 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

बिल्डरों से बोले- होशंगाबाद के कलेक्टर, एसडीएम और तहसीलदार सब बदमाश हैं.....

होशंगाबाद/कलेक्टर शीलेंद्र सिंह और एसडीएम रवीश श्रीवास्तव के बीच हुए विवाद से मुख्यमंत्री कमलनाथ नाराज हैं। उनकी नाराजगी बुधवार को उस समय होशंगाबाद के बिल्डर एसोसिएशन के प्रतिनिधि मंडल के सामने उजागर हुई जब यह लोग उन्हें मुख्यमंत्री आवास में एसडीएम के खिलाफ ज्ञापन देने पहुंचे थे। उनके होशंगाबाद से आने का बताते ही मुख्यमंत्री ने कहा- होशंगाबाद में कलेक्टर, एसडीएम और तहसीलदार सब बदमाश हैं..., आगे बोलिए। इसके बाद व्यापारियों के मुंह से कोई शब्द नहीं निकले, वे ज्ञापन देकर उल्टे पैर लौट आए। प्रतिनिधि मंडल में बिल्डर एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं कांग्रेस नेता चंद्रभान सिंह सोलंकी, मुकेश श्रीवास्तव, हंस राय, आनंद पारे, देवदत्त तिवारी, राजेश चौरे, वैभव परसाई, पीएस श्रीवास्तव, अशोक व्दिवेदी, गोविंद यादव आदि शामिल रहे। सोलंकी और श्रीवास्तव ने बताया कि एसडीएम की शिकायत की है। इस पर सीएम ने आश्वासन दिया कि आपके यहां जो भी करेंगे ठीक करेंगे। तीनों अधिकारियों पर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें-कलेक्टर-एसडीएम विवाद : पर्यावरण मंजूरी के बिना स्टाक चालू होने पर हो सकती है एफआइआर

मैं, दोषी तो अन्य 12 जिलों के कलेक्टर भी जिम्मेदार: डीएम
कमिश्रर आरके मिश्रा की रिपोर्ट में भी कथित रूप से दोषी ठहराए जाने के बाद बुधवार को कलेक्टर शीलेंद्र सिंह खुलकर खनिज विभाग के खिलाफ सामने आ गए हैं। वे बोले- यदि होशंगाबाद में ईटीपी डेढ़ घंटे देर तक चालू रहने के लिए वे जिम्मेदार हैं तो फिर अन्य 12 जिलों में होशंगाबाद से भी बाद तक ईटीपी चालू थी, इसलिए इन जिलों के कलेक्टर भी जिम्मेदार माने जाएं। क्योंकि होशंगाबाद में 12 सितंबर को पोर्टल बंद कर दिया गया था, इन जिलों में अगले दिन 13 सितंबर तक चालू रहा और 98 रेत खदानों से इटीपी जनरेट होती रही। उन्होंने कहा कि रेत माफिया मुझे हटाना चाहता है। मेरे कार्यकाल में अवैध परिवहन में 465 वाहनों पर 2 करोड़ 4 लाख का जुर्माना लगाया। अवैध खनन के 25 प्रकरण में 526 करोड़ का जुर्माना प्रस्तावित किया है। जिसमें से 7 करोड़ के जुर्माना राशि वसूली गई। कलेक्टर का कहना है कि 12 सितंबर को खनिज विभाग के प्रमुख सचिव का पत्र मिलते ही शाम 5.30 बजे से 6 बजे के बीच सभी आठ स्टॉक को ईटीपी पोर्टल बंद कर दिए गए थे, जबकि 12 अन्य जिलों में 13 सितंबर तक पोर्टल चालू रहे तो फिर केवल होशंगाबाद के मामले को ही इतना क्यों उठाया जा रहा है। विधायक के भतीजे का स्टाक वैध है। अगर वहां रेत रखी है तो क्या गलत है। उससे सरकार को राजस्व ही मिलेगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned