सरकारी ट्यूब बेल पर अतिक्रमण की शिकायत, पहुंचे अधिकारी

सरकारी ट्यूब बेल पर अतिक्रमण की शिकायत, पहुंचे अधिकारी
Complaint of encroachment

yashwant janoriya | Updated: 12 Jun 2019, 05:37:45 PM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

नपा अधिकारी नहीं पता लगा पाए अतिक्रमण है या नहीं

इटारसी. मंगलवार को ११वी लाइन में सरकारी ट्यूब बेल पर अतिक्रमण कर कब्जा करने की चर्चा शहर में रही। नपा अधिकारियों को जानकारी मिलने पर मौके पर उपयंत्री सहित अन्य अधिकारी भी पहुंचे। हालांकि नपा का अमला इस बात का निर्णय नहीं ले पाया कि सरकारी ट्यूब बेल पर अतिक्रमण हुआ है या नहीं। अधिकारियों की माने तो ट्यूब बेल सालों पुराना है। इस वजह से पता नहीं चल पा रहा है कि यह सरकारी ट्यूब बेल है। हालांकि मौके पर जाकर देखा तो ट्यूब बेल बंद हालत में मिला। स्थानीय कांग्रेस नेताओं द्वारा इसकी शिकायत की गई थी।
आज होगी खुदाई तब पता चलेगा
नपा आज मौके पर खुदाई करके पता लगाएगी की ट्यूब बेल की सरकारी पाइप लाइन से कनेक्शन है या नहीं। यदि कनेक्शन नहीं होता है तो अधिकारी कनेक्शन करने की बात कह रहे हैं। अधिकारियों ने बताया कि इस तरह से अन्य ट्यूब बेल के बारे में जानकारी मिलती है तो उसे भी लाइन से कनेक्ट किया जाएगा।
इनका कहना है
जानकारी मिली थी कि सरकारी ट्यूब बेल पर अतिक्रमण किया गया है। हालांकि इस अभी यह निश्चित नहीं है वह अतिक्रमण है। खुदाई के बाद इसका कनेक्शन पाइप लाइन से किया जाएगा।
आदित्य पांडे, उपयंत्री, नपा

परिजनों के बताए मोबाइल की कॉल डिटेल निकालेगी पुलिस
प्राथमिक तौर पर आत्महत्या मानकार पुलिस कर रही जांच
इटारसी. बीती रात सोनासांवरी फाटक के पास न्यास कालोनी के पास बनी झुग्गी निवासी करतार सिंह राजपूत के 19 वर्षीय बेटी लक्ष्मी ने बरेली एक्सप्रेस के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। पुलिस प्राथमिक तौर पर इसे आत्महत्या का मामला मानकर की जांच कर रही है। मृतिका के परिजनों ने किसी युवक से मोबाइल पर बात करने की जानकारी दी है। अब पुलिस परिजनों द्वारा बताए गए मोबाइल की कॉल डिटेल निकालेगी। कॉल डिटेल के आधार पर संबंधित युवक से पूछताछ की जाएगी। जांच के बाद ही मामला साफ हो पाएगा कि युवती ने आत्महत्या क्यों कि। हालांकि अभी इस मामले में पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।
शव निकालने में हुई थी मशक्कत
घटना के समय युवती का शव जिस तरह से इंजन के केटल गार्ड में फंसा था उसे देखकर लोगों के रोंगटे खड़े हो गए। मौके पर पहुुंचे आरपीएफ एसआई डीपी सिंह के साथ अन्य कर्मचारियों ने बड़ी मशक्कत से शव को निकाला।
इनका कहना है
पीएम के बाद परिजनों को शव सौंप दिया है। मामले की जांच की जाएगी। परिजनों ने जो मोबाइल नंबर बताया कि उसकी कॉल डिटेल से ही आगे का पता चलेगा।
संजय रघुवंशी, जांच अधिकारी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned