scriptComplete preparation of administration regarding Mahadev fair, | महादेव मेले को लेकर प्रशासन की पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए 200 से अधिक मौजूद रहेंगे जवान | Patrika News

महादेव मेले को लेकर प्रशासन की पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए 200 से अधिक मौजूद रहेंगे जवान

- स्वास्थ्य विभाग ने 50 पैरामेडिकल स्टॉफ और डॉक्टरों की लगाई टीम, 2 सौ करोड़ से अधिक व्यापार की मेले से उम्मीद, कोरोना काल के बाद होटल,मोटल और रेस्टोरेंट संचालकों की मेले से उम्मीद

 

होशंगाबाद

Published: February 20, 2022 02:02:59 pm

नर्मदापुरम। नर्मदापुरम कि पचमढ़ी में महादेव के लगने वाले मेले में इस बार व्यापारियों को 2 सौ करोड़ रूपए का करोबार की उम्मीदें लगाए बैठे हुए हैं। कोरोना संक्रमण के दौरान हुए नुक्सान की भरपाई भी इस बार मेले के माध्यम से होगी। सबसे अधिक होटल संचालक और रेस्टोरेंट संचालकों को उम्मीदें हैं। वहीं ट्रांसपोर्ट सहित मेले से सभी छोटे-बडे व्यापार क्षेत्र में प्रभातिव होते हैं। इस मेले से 10 हजार से अधिक लोगों को रोजगार भी मिलता है। मेले को लेकर जिला प्रशासन ने भी पुख्ता तैयारियां की है। जिसमें करीब 3 सौ कर्मचारियों की ड्यूटी मेले के लिए लगाई जा रही है। मेले के दौरान सुरक्षा और स्वास्थ्य की सुविधाएं 24 घंटे रखी जाएंगी। पचमढ़ी का भगवान शंकर की भक्ति का पर्व में लगाने वाला मेला 22 फरवरी से शुरू होकर 2 मार्च तक चलेगा।
महादेव मेले को लेकर प्रशासन की पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए 200 से अधिक मौजूद रहेंगे जवान
महादेव मेले को लेकर प्रशासन की पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए 200 से अधिक मौजूद रहेंगे जवान,महादेव मेले को लेकर प्रशासन की पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए 200 से अधिक मौजूद रहेंगे जवान,महादेव मेले को लेकर प्रशासन की पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए 200 से अधिक मौजूद रहेंगे जवान,महादेव मेले को लेकर प्रशासन की पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए 200 से अधिक मौजूद रहेंगे जवान,महादेव मेले को लेकर प्रशासन की पूरी तैयारी, सुरक्षा के लिए 200 से अधिक मौजूद रहेंगे जवान
महाराष्ट्र में मेले को लेकर वाहनों की बुकिंग फुल
मेले में आने को लेकर महाराष्ट्र में हचचल शुरू हो गई है। लोगों ने बसों और वाहनों की बुकिंग भी शुरू कर दी है। इस बार बड़ी संख्या में श्रद्धालु पहुंचेंगे। महाराष्ट्र के सूत्र बताते हैं कि बसों ने भी महादेव मेले को लेकर अपने रूटों , टाइमिंग और किरायों की घोषित कर दिया है। 9 दिनी मेले में सबसे ’यादा संख्या महाराष्ट्र के श्रद्धालुओं की सबसे बड़ी संख्या रहती है। जो 1326 मीटर ऊंची पहाड़ी पर बने चौरागढ़ मंदिर, महादेव, जटाशंकर और गुप्त महादेव मंदिर में भगवान शंकर के दर्शन के लिए श्रद्धालु पहुंचते हैं। चौरागढ़ मंदिर में भक्त त्रिशूल भी भेंट करते हैं।
एक किमी कच्चा रास्ता फिर पक्की सीढिय़ां
चौरागढ़ मंदिर तक जाने के लिए 1 किमी कच्चा रास्ते पर पैदल चलना पड़ता है । मंदिर की 1300 सीढिय़ां शुरू होती हैं। इस 1 किमी मार्ग को पक्का करना जरूरी है। अभी यहां मिट्‌टी और मुरम डाली गई है। मन्नतें लेकर पहुंचने वाले कई भक्त नंगे पैर यात्रा करते हैं। उन्हें असुविधा का सामना करना पड़ता है। यह इलाका एसटीआर में आता है। इसलिए अधिकारी नियमों का हवाला देकर यहां निर्माण नहीं करते। महादेव मेला समिति के गैर शासकीय सदस्यों ने निर्माण की मांग की है।

शिवजी को बहनोई मानते हैं यह लोग

- माता पार्वती ने महाराष्ट्र में एक बार मैना गौंडनी का रूप धारण किया था। इस वजह से महाराष्ट्र के वाशिंदे माता को बहन और भोलेशंकर को बहनोई और भगवान गणेश को भांजा मानते हैं।
-एक किंवदंती यह भी प्रचलित है कि भस्मासुर से बचने शिवजी ने चौरागढ़ की पहाडिय़ों में शरण ली थी।
इसलिए चढ़ाते हैं त्रिशूल
बताया जाता है चौरा बाबा ने कई सालों तक इसी पहाड़ पर तपस्या की, जिसके बाद भगवान ने उन्हें दर्शन दिए और कहा कि बाबा के नाम से यहां भोलेनाथ जाने जाएंगे। तभी से पहाड़ी की चोटी का नाम बाबा के नाम पर चौरागढ़ रखा गया। इस दौरान भोलेनाथ अपना त्रिशूल चौरागढ़ में छोड़ गए थे। उस समय से यहां त्रिशुल चढ़ाने की परंपरा शुरू हुई है। पचमढ़ी के चौरागढ़ महादाव के भक्त एक क्विंटल तक वजनी त्रिशूल को अपने कांधे पर लेकर चौरागढ़ मंदिर तक पहुंच जाते हैं।
सालभर होती है त्रिशूल की पूजा
भक्तों के अनुसार शिवजी से मन्नत मांगने के बाद उनके नाम का त्रिशूल घर ले जाते हैं। सालभर त्रिशूल की पूजा-अर्चना घर पर ही करते हैं। इसके बाद महाशिवरात्रि पर त्रिशूल कांधे पर रखकर पैदल-पैदल पचमढ़ी आते हैं और शिवजी के दरबार में पहुंच कर त्रिशूल चढ़ाते हैं। भक्तों की मन्नतें भी पूरी हो जाती है। इस पूरे में लाखों शिवलिंग देखकर आप अंदाजा लगा सकते हैं कि शिवजी के दरबार में कितने लोग अपनी अर्जी लगा चुके हैं।
पैदल ही चले आते हैं श्रद्धालु

महाशिवरात्रि के मेले के दौरान छिंदवाड़ा, बैतूल, पांडुरना और महाराष्ट्र से लगे सैकड़ों गांवों से श्रद्धालु पैदल ही पचमढ़ी आते हैं और अपने कंधे पर रख लाते हैं छोटे-बढ़े त्रिशूल। यही कारण है कि अब चौरागढ़ पहाड़ी पर असंख्य त्रिशूल दिखाई देते हैं।
इनका कहना है
महादेव मेले में इस बार सुरक्षा को लेकर पुख्ता इंतजाम कर रहे हैं , हमने करीब 250 लोगों की मांग की है। पचमढ़ी मेले में पुख्ता सुरक्षा के इंतजाम रहेंगे। हम हर पाइंट पर पुलिस की सुरक्षा के इंतजाम कर रहे हैं। - डॉ.गुरुकरण सिंह, एसपी नर्मदापुरम
-
हमने पचमढ़ी महादेव मेले के लिए 16 पाइंट में 54 से अधिक स्टॉफ लगाया है । जहां श्रद्धालुओं को स्वास्थ्य सेवाएं मिलेगी । दवाओं की पूरी तरह से व्यवस्थाएं की गई है, हमारी तैयारियां मेले को लेकर पूरी है।- डॉ.प्रदीप मोजेस
-

मेल की प्रशासनिक स्तर पर पूरी तरह से तैयारियां कर ली गई है। पुलिस की पुख्ता व्यवस्था, स्वास्थ्य विभाग की तैनाती की जाएगी। इसके साथ प्रशासन प्रयास कर रहा है, आने वाले श्रद्धालुओं को पीने के पानी से लेकर हर सुविधा मुहैया कराया जाए।- - नीरज कुमार सिंह, कलेक्टर नर्मदापुरम

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

'तमिल को भी हिंदी की तरह मिले समान अधिकार', CM स्टालिन की अपील के बाद PM मोदी ने दिया जवाबहिन्दी VS साऊथ की डिबेट पर कमल हासन ने रखी अपनी राय, कहा - 'हम अलग भाषा बोलते हैं लेकिन एक हैं'Asia Cup में भारत ने इंडोनेशिया को 16-0 से रौंदा, पाकिस्तान का सपना चूर-चूर करते हुए दिया डबल झटकाअजमेर की ख्वाजा साहब की दरगाह में हिन्दू प्रतीक चिन्ह होने का दावा, पुलिस जाप्ता तैनातबोरवेल में गिरा 12 साल का बालक : माधाराम के देशी जुगाड़ से मिली सफलता, प्रशासन ने थपथपाई पीठममता बनर्जी का बड़ा फैसला, अब राज्यपाल की जगह सीएम होंगी विश्वविद्यालयों की चांसलरयासीन मलिक के समर्थन में खालिस्तानी आतंकी ने अमरनाथ यात्रा को रोकने की दी धमकीलगातार दूसरी बार हैदराबाद पहुंचे PM मोदी से नहीं मिले तेलंगाना CM केसीआर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.