कोरोना का खौफ: मकान मालिक ने शव नहीं लाने दिया घर, शमशान घाट के गेट पर गुजारी रात

हमीदिया अस्पताल में बीमारी से दम तोडऩे के बाद महिला का शव लेकर आए थे परिजन

होशंगाबाद। कोरोना वायरस का खौफ इस कदर लोगों के दिल और दिमाग में बैठ गया है कि अब सामान्य मौत पर भी मृतकों के शवों को धार्मिक विधि-विधान से अंतिम संस्कार तक नहीं हो पा रहा है। एक महिला की सामान्य बीमारी पर मौत होने के बावजूद मकान मालिक ने उसका शव घर में नहीं लाने दिया। इस कारण पति रात भर शव के साथ शमशान घाट के गेट पर बैठा रहा। सुबह होने पर अंतिम संस्कार किया गया। मामला होशंगाबाद जिले के पिपरिया का है।

बीमारी के चलते थी अस्पताल में भर्ती
हथवास निवासी रामकली बाई मेहरा (35) की गुरुवार रात को हमीदिया अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई थी। उसे बीमार होने पर अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उसका आपरेशन होना था, लेकिन खून की कमी के चलते ऑपरेशन टाल दिया गया था। इसी बीच उसने दम तोड़ दिया। वह कोरोना वायरस से संक्रमित भी नहीं थी। पति और परिजन उसका शव लेकर शुक्रवार को हथवास पहुंचे। लेकिन मकान मालिक ने शव घर में लाने से इंकार कर दिया। पति ने मकान मालिक को समझाया भी कि उसे कोरोना नहीं हुआ था, लेकिन उन्होंने एक भी नहीं सुनी। इस कारण शुक्रवार की रात शव के साथ सड़क पर ही गुजारना पड़ी। शमशान घाट के गेट पर पति एम्बुलेंस में ही शव के साथ रात भर बैठा रहा। सुबह होने पर अंतिम संस्कार किया गया।
पीएम ने की अपील
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देशवासियो से अपील की है कि 5 अप्रैल 2020 को स्वेच्छा से रात्रि 9 बजे 9 मिनिट के लिए अपने घरो की लाईटे बंद कर, घर के दरवाजे या बालकनी पर मोमबत्ती, दीया, टॉर्च या मोबाईल फ्लेश लाईट जलाए। इस दौरान, घरो मे टीवी, रेफ्रिजिरेटर और एसी जैसे उपकरण बंद करना आव्हान मे शामिल नहीं है। इस दौरान स्थानीय निकायो द्वारा कानून और व्यवस्था बनाएं रखने हेतु सड़को पर स्ट्रीटलाईट चालू रखने की सलाह दी गई है। अस्पतालो और अन्य सभी आवश्यक सेवाओं के कार्यालयो में रोशनी (बिजली) चालू रहेगी

Corona virus
Show More
बृजेश चौकसे Editorial Incharge
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned