कोविड 19 का पहला सैंपल जांच के लिए भोपाल भेजा, जिला प्रशासन में मचा हडकंप, बुधवार को बनखेड़ी में भी एक संदिग्ध मिला

सैंपलिंग के दौरान अस्पताल में पैथालॉजिस्ट नहीं थे, टेक्निशियन कमरे के बाहर खडे थे और फिजिशियन ने लिए सैंपल

होशंगाबाद। जिला अस्पताल होशंगाबाद में मंगलवार को कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज आइसोलेशन में भर्ती कराया गया था। मरीज के आने के बाद अस्पताल में एक दम से हड़कंप मच गया। इसके बाद शाम को करीब 3.30 बजे मरीज के सैंपल तुरंत ही एम्बुलेंस से भोपाल एम्स के लिए रवाना किया गया है। जहां पर जांच के बाद अगले 48 घंटों में कोविड 19 की रिपोर्ट अस्पताल प्रबंधन को मिल जाएगी। 25 वर्षीय युवक आईटीआई का निवासी है, जोकि महाराष्ट्र के औरंगाबाद में काम कर रहा था। युवक को काफी तेज बुखार आ रहा था। जिसके बाद युवक की ट्रबल हिस्ट्री जानने के बाद उसे आइसोलेशन में भर्ती करने का निर्णय लिया गया है। यह पहली संदिग्ध जांच है, जिसको जांच के लिए भेजा गया है। वहीं बुधवार को ही मुंबई से लौटी युवती को संदिग्ध मानते हुए जिला अस्पताल जांच के लिए भेजा गया है। युवती मुंबई में रह रही थी। उसकी ट्रवल हिस्ट्री थी, इसके बाद बनखेड़ी में भी लोग काफी परेशान हैं।

सुबह युवक भर्ती, 3 बजे शुरू हुई जांच वहां भी पैथालॉजिस्ट नहीं

मंगलवार सुबह मरीज को जिला अस्पताल में लाया गया था, इसके बाद ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टरों में से कोई भी संदिग्ध के सैंपलों को लेने के आगे नहीं आए। जिला अस्पताल के आईडीएसपी के नोडल अधिकारी डॉ.सुनील जैन ने पीपीई कीट (पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूवमेंट कीट) पहने के बाद गले के सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा। सैंपल लेने के दौरान पैथालॉजिस्ट को मौजूद होना था। अस्पताल के सूत्रों की मानें तो मामला नोडल अधिकारी डॉ.सुनील जैन के होने के कारण उन पर टाल दिया गया।
मरीज के परिजन होते रहे परेशान
स्वास्थ्य विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार मरीजों के परिजन परेशान होते रहे। आइसोलेशन में भर्ती होने के बाद एक भी डॉक्टर मरीज को देखने नहीं जाना चाहता था। जब परिजन हो-हल्ला और रोने लगे तो आनन-फानन में डॉ.जैन को बुलाकर सैंपल कराए गए। इधर अब पीडि़त के परिवार के 4 लोगों की लिस्टिंग की जा रही है। जिनको भी अब मानिटरिंग आइसोलेशन में रखा जाएगा।

70 होम आइसोलेशन पहुंचा
जिले में अब मरीजों का होम आइसोलेशन 70 के आसपास पहुंच गया है। जिले में बाहर से आने वाले मरीजों पर स्वास्थ्य विभाग नजर बनाएं हुए है। इधर आयुक्त रजनीश श्रीवास्तव ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि विदेश से आने वाले उन लोगों पर आईपीसी की धारा 188 के तहत कार्रवाई की जाए, जो लोग स्वास्थ्य विभाग को जानकारी नहीं दे रहे हैं।

एक डॉक्टर एेसा भी

होशंगाबाद में एक डॉक्टर एेसा भी है, जिसने कोविड 19 से लडाई के लिए शासकीय महकमे के साथ आने की इच्छा व्यक्त की है। एमडी विशेषज्ञ डॉ.मनोज साहू ने सीएस डॉ.रविंद्र गंगराडे को आवेदन कर उनकी सेवाएं कभी भी लेने के लिए कहा है। मंगलवार देर रात को ही आवेदन को स्वीकृति देते हुए सीएमएचओ डॉ. दिनेश कौशल ने उन्हें काम पर
आने के लिए आदेशित कर दिया है।
इनका कहना है

इस तरह से पहली बार सैंपलिंग कर रहा हूं, कोविड १९ बड़ी महामारी है। इससे लडऩे के लिए हम पूरी तरह से तैयार है। सीएस ने पहले ही बोल दिया है कि जो भी परेशानी आए खुलकर बताएं। अभी एेसी कोई परेशानी नहीं है।- डॉ.सुनील जैन, नोडल अधिकारी आईडीएसपी
-------------------

डॉ.सुनील जैन को काफी अनुभव है, उन्होंने पहले भी स्वाइन फ्लू के सैंपल लिए हुए हैं। वहीं इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि अगली बार से सैंपल लेने से पहले सभी प्रोटोकॉल फालो हों। इस संबंध में सीएस से रिपोर्ट मांगता हूं।- डॉ.दिनेश कौशल, सीएमएचओ होशंगाबाद

Patrika
amit sharma Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned