दस्तक के दौरान 521 गांव में मिले 270 कुपोषित

40 दिन का लक्ष्य, 23 दिन में 53 प्रतिशत बच्चों तक पहुंची टीम, 47 फीसदी बाकी

By: sandeep nayak

Published: 04 Jul 2019, 04:55 PM IST

होशंगाबाद। दस्तक अभियान के तहत स्वास्थ्य अमले को घर-घर पहुंचकर दस्तक देनी है। दल को शून्य से 5 साल तक के एेसे बच्चों को चिन्हित करना है, जिन्हें डायरिया, एनीमिया जैसी बीमारियां हैं। यह अभियान 10 जून से शुरू हो चुका है, जो 20 जुलाई तक चलेगा। अभियान के 23 दिन पूरे हो गए हैं। टीम लक्ष्य के अनुसार महज 53 फीसदी बच्चों तक अपनी पहुंच बना पाई है। वहीं, अब अगले 17 दिनों में दल को 47 फीसदी लक्ष्य पूरा करना है।

लक्ष्य पूरा करने के निर्देश-
दस्तक अभियान के तहत जिले के 960 गांव में 1 लाख 17 हजार 288 बच्चों का घर-घर जाकर स्वास्थ्य जांचना है। 183 दल में शामिल 3 हजार 529 डाक्टर, स्वास्थ्यकर्मी और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने अब तक 461 गांव में दस्तक दी और 50 हजार 626 बच्चों के सेहत की जांच की।

 

अभियान में शामिल दल-
एएनएम - 183
एलएचवी - 14
एमपीडब्ल्यू - 62
बीएमओ - 7
एमपीएस - 18
मेडिकल ऑफिसर - 100
आशा - 1191
आंगनबाड़ी कार्यकर्ता - 1571
आंगनबाड़ी सहायिका - 200
टीम - 183

 

टीम ने अब तक यह किया काम
- 270 कुपोषित शिशु भर्ती किए
- 404एनीमिया के बच्चे
-196 बच्चे डायरिया के
-81 बच्चे खोजे कटे होंठ, तालू के
- 29 सेप्सिस के चिन्हित किए
- 62 हजार 311 आेआरएस के पैकेट वितरित

इनका कहना है...
दस्तक अभियान में अब तक चिन्हित किए गए 180 बच्चों को इलाज के लिए स्वास्थ्य केंद्रों व अस्पतालों में पहुंचाया गया है। समय पर लक्ष्य पूरा करने के लिए टीम को निर्देशित किया है।
-डॉ. दिनेश कौशल, सीएमएचओ होशंगाबाद।

sandeep nayak Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned