भारतीय रेलवे ने शुरू की मुफ्त की सेवा, भारी-भरकम खर्च से मिलेगी निजात

मुफ्त में होगी यह सेवा, भारी-भरकम खर्च से भी निजात मिलेगी

By: Venkat vijay Kumar

Published: 04 Apr 2019, 12:46 PM IST

एमवी विजय कुमार/इटारसी। भारतीय रेलवे अब मानवीयता की एक नई मिशाल पेश करने जा रही है। उसने दूर-दराज में दिवंगत होने वाले का शव निशुल्क उसके घर तक पहुंचाने का बीड़ा उठाया है। साथ में एक रिश्तेदार भी अटेंडेंट के रूप में सफर कर सकेगा। बस थोड़ी सी खानापूर्ति करना अनिवार्य होगा। इससे एंबुलेंस और शव वाहन से दूर-दराज शव ले जाने पर होने वाले भारीभरकम खर्च और देरी से भी निजात मिलेगी। जल्द ही रेलवे इसकी शुरूआत करने जा रहा है। इसकी तैयारी शुरू हो गई है। सूत्र बताते हैं कि रेलवे बोर्ड ने इस संबंध में सभी रेलवे जोन को निर्देश जारी कर दिए हैं। अब अगर पार्थिव शरीर को दूरस्थ घर ले जाना हो, तो एंबुलेंस और वैन आदि खोजने की जरूरत नहीं है।
सीधे रेलवे स्टेशन आकर आवश्यक प्रक्रिया पूरी कर निर्धारित रूट पर चलने वाली ट्रेन से पार्थिव शरीर घर ले जा सकते हैं। एक अटेंडेंट के साथ शव को रेलवे नि:शुल्क निश्चित गंतव्य तक पहुंचा देगा। उसके साथ रेलवे का एक कर्मचारी भी रहेगा। शव को ताबूत में रखकर संबंधित स्टेशन तक पहुंचाने की जिम्मेदारी रेलवे की होगी, इसके बाद परिजन अपने संसाधन से शव घर तक ले जा सकेंगे। वहीं पीआरओ आईए सिद्दकी ने बताया कि रेलवे प्रबंधन ने बोर्ड के निर्देश पर निर्णय लिया कि शव को नि:शुल्क लाकर उनके परिजनों को सौंप देगा। इसमें कुछ प्रक्रिया का पालन परिजनों को करना होगा। इस योजना को पहले पश्चिम मध्य रेलवे में कुछ समय के लिए ट्रायल के तौर पर लागू किया गया, जिसे काफी सराहा गया। अब इसे सभी मंडलों में लागू किया जा रहा है।

यह शर्तें करना होंगी पूरी
रेलवे से शव संबंधित शहर पहुंचाने के लिए कुछ शर्तें पूरी करना होंगी। जिसमें मृत्यु प्रमाण पत्र वहीं का होना चाहिए जिस सरकारी अस्पताल या मेडिकल कॉलेज में उसकी इलाज के दौरान मौत हुई हो। इसके आधार पर परिजन स्टेशन प्रबंधक को आवेदन करेंगे। जिसकी जांच के बाद रेल प्रशासन इसकी अनुमति देगा। शव के साथ परिवार का एक व्यक्ति का यात्रा करना अनिवार्य रहेगा। एक से अधिक लोग भी जाना चाहें तो वे टिकट लेकर सफर कर सकते हैं।
रेल कमिर्यों के लिए यह व्यवस्था
बोर्ड ने शव ले जाने के लिए बकायदा दिशा-निर्देश भी जारी कर दिए है। नई व्यवस्था के तहत अगर किसी रेलकर्मी की ड्यूटी के दौरान मृत्यु हो जाती है, तो रेलवे नि:शुल्क उसके घर तक शव पहुंचाएगा। कर्मचारी का शव घर तक पहुंचाने का जिम्मा भी रेलवे का होगा।

Venkat vijay Kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned