scriptDemonstration of Bofors which defeated Pakistani army in Kargil war | कारगिल युद्ध में पाकिस्तानी सेना को परास्त करने वाले बोफोर्स का किया प्रदर्शन | Patrika News

कारगिल युद्ध में पाकिस्तानी सेना को परास्त करने वाले बोफोर्स का किया प्रदर्शन

सामरिक शक्ति : सीपीई में आधुनिक हथियारों की प्रदर्शनी, मैदान पर लोगों ने देखा सैन्य शक्ति का नजारा

होशंगाबाद

Published: December 22, 2021 09:15:02 pm

होशंगाबाद
केंद्रीय परीक्षण संस्थान परिसर (सीपीइ) इटारसी में शनिवार को रक्षा उपकरणों की प्रदर्शनी लगाई गई। प्रदर्शनी के दौरान लोगों ने कारगिल युद्ध में पाकिस्तानी सेना को परास्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले बोफोर्स की ताकत को करीब से देखा। बोफोर्स का डिस्प्ले ड्रील एवं मोक फायरिंग किया गया। बोफोर्स की शक्ति देख स्कूली बच्चों और लोगों के रोंगटे खड़े हो गए। प्रदर्शनी के दौरान जानकारी देते हुए बताया गया कि कारगिल युद्ध में १६ हजार फीट की ऊंचाई में पाकिस्तानी सेना को परास्त करने में बोफोर्स ने महत्वपूर्ण योगदान दिया था। इसकी मारक क्षमता ३० किमी है। यह भी बताया गया कि बोफोर्स एफएच७७ पर ही आधारित डिजाइन पर अब भारत में धनुष गन का निर्माण गन गैरिज फैक्ट्री जबलपुर में किया जा रहा है। प्रदर्शनी के दौरान मेजर जनरल एसएस राजन, कलेक्टर नीरज कुमार सिंह, एसपी गुरुकरण सिंह, जनरल मैनेजर पॉवरग्रिड दिनेश कुमार नायर, एसडीएम मदन सिंह रघुवंशी, विधायक डा. सीतासरन शर्मा मौजूद थे। मेजर जनरल एसएस राजन ने कहा कि आधुनिकीकरण के साथ ही सीपीइ इटारसी देश के लिए बनने वाले उपकरणों को तैयार करने में निरंतर आगे बढ़ रहा है।
Demonstration of Bofors which defeated Pakistani army in Kargil war
Demonstration of Bofors which defeated Pakistani army in Kargil war
प्रदर्शनी में रखे गए हथियारों को करीब से देखा...
केंद्रीय परीक्षण संस्थान सीपीई इटारसी में रक्षा उपकरणों की खुली प्रदर्शनी देखने के लिये स्कूली बच्चों में काफी उत्साह दिखा। स्कूली बच्चों द्वारा सेना में उपयोग होने वाले उपकरणों की जानकारी ली। प्रदर्शनी में लेजर रेंज फाइंडर, फैंटम 4 प्रो वी2 ड्रोन, स्माल आर्म इनसांस, एमएस मोर्टर, १०५/३७ एमएम एलएफजी, १०५/३७ एमएम आइएफजी, १३० एमएम ए-46 गन सहित अन्य हथियार रखे गए थे।
भारत-चीन युद्ध के बाद हुई थी सीपीइ की स्थापना-
वर्ष १९६२ में भारत और चीन युद्ध के बाद देश में स्वदेशी रक्षा आयुध उद्योग के विकास के दृष्टिगत, प्रूफ फायरिंग रेंज की आवश्यकता महसूस की गई। इस कार्य के लिए कार्यस्थलों की तलाश की गई। आयुध कारखानों से निकटता, पहुंच और तकनीकि उपयुक्तता के आधार पर १८ नवंबर १९७२ को तत्कालीन रक्षा उत्पादन मंत्री वीसी शुक्ला की अध्यक्षता में सीपीइ इटारसी की स्थापना की गई।
परीक्षण के बाद सेना करती है उपयोग-
सीपीइ में आयुध निर्माणी बोर्ड, रक्षा सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम, सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रम, निजी संस्थान, पूर्व आयात द्वारा निर्मित लार्ज कैलिबर गोला बारूद, शस्त्र और आयुध भंडार परीक्षण, डिफेक्ट इनवेस्टिगेशन, शेल्फ लाइफ एक्सटेंशन और डेवलपमेंट ट्रायल को पूर्ण करने के लिए उत्तरदायी है। वर्तमान में संस्थान द्वारा अत्याधुनिक शस्त्र जैसे के-9 बज्रा, टी-90 टैंक, धनुष गन, सारंग गन एवं पाखरन में पिनाका रॉकेट का परीक्षण किया जा रहा है।
आयुध निर्माणी में दी गई रक्षा सामग्री की तकनीकि जानकारी
होशंगाबाद। भारत की आज़ादी के 75 वर्षों के स्मरणोत्सव पर आयोजित आज़ादी के अमृत महोत्सव कार्यक्रम के अंतर्गत आयुध निर्माणी में रक्षा उत्पादों की प्रदर्शनी लगाई गई। प्रदर्शनी १९ दिसंबर रविवार तक दोपहर 12 बजे से शाम 7 बजे तक आयुध निर्माणी परिसर स्थित सतपुड़ा क्लब में लगाई जा रही है। शनिवार को शासकीय नर्मदा महाविद्यालय होशंगाबाद एवं राष्ट्रीय कैडेट कोर (एनसीसी) के छात्रों द्वारा प्रदर्शनी में रखे हुए उत्पादों का अवलोकन किया। भारतीय सेना द्वारा उपयोग की जा रही 105 एमएम आइएफजी एवं 155 एमएम कैलिबर गन का वीडियो दिखाया गया। सेना द्वारा उपयोग की जा रही रक्षा सामग्री की तकनीकि जानकारी दी गई। प्रदर्शनी में दिखाए जा रहे गोला बारूद, मिसाइल के वीडियो एवं उत्पादन प्रक्रिया के वर्किंग मॉडल आकर्षण का केंद्र रहे।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

इन नाम वाली लड़कियां चमका सकती हैं ससुराल वालों की किस्मत, होती हैं भाग्यशालीजब हनीमून पर ताहिरा का ब्रेस्ट मिल्क पी गए थे आयुष्मान खुराना, बताया था पौष्टिकIndian Railways : अब ट्रेन में यात्रा करना मुश्किल, रेलवे ने जारी की नयी गाइडलाइन, ज़रूर पढ़ें ये नियमधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

देश में वैक्‍सीनेशन की रफ्तार हुई और तेज, आंकड़ा पहुंचा 160 करोड़ के पारपाकिस्तान के लाहौर में जोरदार बम धमाका, तीन की नौत, कई घायलजम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू आया गिरफ्त मेंCovid-19 Update: दिल्ली में बीते 24 घंटे के भीतर आए कोरोना के 12306 नए मामले, संक्रमण दर पहुंचा 21.48%घर खरीदारों को बड़ा झटका, साल 2022 में 30% बढ़ेंगे मकान-फ्लैट के दाम, जानिए क्या है वजहचुनावी तैयारी में भाजपा: पीएम मोदी 25 को पेज समिति सदस्यों में भरेंगे जोशखाताधारकों के अधूरे पतों ने डाक विभाग को उलझायाकोरोना महामारी का कहर गुजरात में अब एक्टिव मरीज एक लाख के पार, कुल केस 1000000 से अधिक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.