यहां पर सरपंच के घर मिले डेंगू मरीज

होशंगाबाद जिले के पिपरिया में कई ग्रामों में वायरल, मलेरिया, डेंगू का प्रकोप

By: Shakeel Niyazi

Published: 22 Aug 2017, 05:37 PM IST

पिपरिया। गांवों में पसरी गंदगी गंभीर मलेरिया डेंगू बुखार का सबब बन रही है। लापरवाही के चलते सरपंच परिवार में शुक्रवार को दोबारा डेंगू बुखार ने दस्तक दी और तीन लोग उसकी चपेट में आकर निजी अस्पताल में उपचार करा रहे हैं। नजदीकी ग्राम पचलावरा, माथनी, खैरा में मलेरिया, डेंगू ने पैर पसार लिए है। जागरुकता, अस्वच्छता और जिम्मेबारों की लापरवाही से यह संक्रमण तेजी से फैल रहा है। खैरा गांव की सरपंच कुब्जा बाई के परिवार का भतीजा शिवदयाल कुशवाहा दो हफ्ते पहले डेंगू की चपेट में आया था उसका परिजनों ने भोपाल नेशनल अस्पताल में उपचार कराया वह स्वस्थ्य हो गया। मलेरिया और स्वास्थ्य विभाग सूचना के बाद गांव, घर पहुंचा जांच की औपचारिकता पूरी कर वापस लौट आया। शुक्रवार को सरपंच परिवार में फिर से डेंगू बुखार का प्रकोप फैल गया। तीन बच्चों को तेज बुखार होने पर निजी अस्पताल में चैक कराया गया तो उन्हें डेंगू पॉजीटिव निकला है। गुरुदयाल कुशवाहा ने बताया कि उनके बड़े पुत्र रामदयाल कुशवाहा को डेंगू निकला है। इसके बाद उसकी दोनों बेटियों शीतल और वर्षा को भी बुखार आया इन्हें भी जांच के बाद डेंगू बुखार
निकला है।

 

रोकथाम के नहीं हो रहे कारगर उपाए
गुरुदयाल कुशवाहा का कहना था कि गांव में गंदगी और मच्छरों का प्रकोप है मलेरिया स्वास्थ्य टीम गांव पहुंची, लेकिन औपचारिकता पूरी कर वापस लौट गई। केरोसिन तक नहीं मिल रहा जिससे नालियों में उसे डाला जा सके।
स्वाइन फ्लू संदिग्ध हो चुका है रैफर
निजी अस्पताल के डॉक्टर केजी बीसानी के अनुसार तीन दिन पहले खापरखेड़ा गांव का एक मरीज स्वाइन फ्लू संदिग्ध उनके पास आया था उसे प्राथमिक उपचार देकर सरकारी अस्पताल रैफर किया है। डॉक्टर के अनुसार रोजाना पचलावरा, खापरखेड़ा, माथनी से वायरल, मलेरिया के काफी आ रहे हैं।
डेंगू के लक्षण
पैरों, छाती या पूरे शरीर पर लाल चकते होना। पेट में दर्द होना या दस्त लगना।
वायरल के लक्षण
हाथ-पांव में दर्द, सिर के साथ पांव में भी दर्द, तेज बुखार, भूख न लगना, आंखें लाल होना।
खैरा में डेंगू एन १ पॉजिटिव की निजी डॉक्टर से सूचना मिली है। पूर्व में इसी परिवार से एक को डेंगू पॉजिटिव निकला था। मंगलवार को मलेरिया और स्वास्थ्य टीम को भेजकर लार्वा नष्ट करवाएंगे। मलेरिया सीजन चल रहा है नागरिक साफ सफाई का विशेष ध्यान रखे, मच्छरदानी और मच्छर रोधी वस्तुओ का इस्तेमाल करे।
डॉ. एके अग्रवाल, बीएमओ
तीन मरीज डेंगू एंटिजिन पॉजीटिव भर्ती है। डेंगू में प्लेटलेट मिनिमम डेढ़ लाख और अधिकतम साढ़े चार लाख होती है। तीनों मरीजों की मिनिमम प्लेटलेट कम है उपचार के बाद इसमें सुधार है स्थिति नियंत्रण में है। नागरिक स्वच्छता के प्रति सजग रहे डेंगू बुखार होने पर घबड़ाए नहीं इसका उपचार उपलब्ध है।
डॉ. केजी बीसानी, पिपरिया

Shakeel Niyazi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned