60 साल का हुआ उड़े जब-जब जुल्फें तेरी...ये गाने के अनछुए पहलु

harinath dwivedi

Publish: Nov, 15 2017 12:26:53 (IST)

Hoshangabad, Madhya Pradesh, India
60 साल का हुआ उड़े जब-जब जुल्फें तेरी...ये गाने के अनछुए पहलु

ट्रेन में सफर कर रहे डायरेक्टर बीआर चौपड़ा ने बुदनी स्टेशन को देखते ही शूटिंग के लिए बनाया था मन

लोकेश तिवारी/होशंगाबाद। उड़ें जब-जब जुल्फें तेरी...... मांग के साथ तुम्हारा..... मैने मांग लिया संसार.... नया दौर फिल्म के सदाबहार यह दोनों गाने आज भी हर किसी की जुबान पर हैं। लेकिन कभी आपने यह जानने की कोशिश की है, कि मोहम्मद रफी के गाए यह गाने किस लोकेशन पर शूट किए गए, और कैसे बनी चुनी गई लोकेशन। दरअसल नया दौर फिल्म की शूटिंग मध्यप्रदेश के बुदनी में की गई। करीब 8 माह तक चली इस शूटिंग के दौरान आज भी स्टेशन सहित तमाम जगहों में कुछ खास परिवर्तन नहीं आया है। आज हम आपको इसी गाने के कुछ अनछुए पहलुओं से रु-ब-रु कराएंगे।

 

खोज रहे थे लोकेशन
1955 के आसपास देश में औद्योगिक क्रांति के आगमन और मजदूरों के बीच टकराव की स्थिति को लेकर डायरेक्टर बीआर चौपड़ा फिल्म बना रहे थे, इसको लेकर वह अपनी नई फिल्म के लिए लोकेशन भी तलाश कर रहे थे। कहा जाता है कि डायरेक्टर बीआर चौपड़ा ट्रेन से सफर करने के दौरान जब बुदनी स्टेशन से गुजरे तो उनको यह जगह काफी पसंद आई। यह लोकेशन उनकी सभी जरूरतों को पूरा करती थी। लोकेशन को रखने के पीछे उद्देश्य प्राकृतिक वातावरण होना और मजदूर के साथ औद्योगिक क्षेत्र आसानी से उपलब्ध होना है।

 

यहां की गई शूटिंग
दिलीप कुमार , जॉनी बाकर और अभिनेत्री बैजयंती माला की इस फिल्म की शूटिंग बुदनी मेें करीब 8 महिने तक चली। इस दौरान बुदनी स्टेशन, भोपाल रोड, रेस्ट हाऊस सहित आधा दर्जन से अधिक स्थानों पर सीन शूट किए गए। पूरी शूटिंग के दौरान गानों की शूटिंग हर किसी के आकर्षण का केंद्र रही।

 

आज भी नहीं बदली बिल्डिंग
फिल्म रिलीज हुए करीब 60 साल हो चुके हंै, लेकिन शूटिंग का मैन प्लाइंट बुदनी स्टेशन की बिल्डिंग अब तक नहीं बदली है। फिल्म की शूटिंग देखने वाले 80 वर्षीय हैडमास्टर रामलाल अबधिया बताते हैं, कि यह गाने अब भी सदावहार है। हर किसी की जुबान पर हैं। उस दौर में इन गानो को अपनी आंखों से देखा था, और आज भी वह दृश्य सामने आ जाते हैं।

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned