लॉक डाउन में गया रोजगार तो सिर से छिन गई छत

सदर बाजार में किराए से रह रहे थे इंदौर निवासी दंपती, धर्मशाला में गुजार रहे दिन

By: rajendra parihar

Published: 25 Jun 2020, 08:00 AM IST

होशंगाबाद. लॉकडाउन की वजह से देशभर में रोजगार की समस्या खड़ी हो गई। इस दौरान कई लोग मकान का किराया सहित अन्य भुगतान नहीं कर पा रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने भी मकान मालिकों से किराया नहीं देने वाले लोगों को घर बाहर न निकालने को कहा था हालांकि शहर में एक नया मामला सामने आया है, जहां किराया नहीं देने पर मकान मालिक ने एक दंपती को घर से बाहर निकाल दिया है। इंदौर निवारी 47 वर्षीय राजेश कौशल और 45 वर्षीय आशा कौशल सदर बाजार में किराए के मकान में रहते थे। राजेश सब्जी मंडी में मजदूरी करता था लेकिन लॉकडाउन में काम बंद हो गया तो तीन महीने का किराया नहीं दे पा रहा था। मकान मालिक एक साथ किराया मांग रहा था। गरीब दंपती किराया देने में मजबूर थे तो मकान मालिक ने घर में ताला डालकर दोनों को बाहर निकाल दिया। अब दोनों पति-पत्नी जगदीश मंदिर धर्मशाला में रह रहे हैं। उक्त मकान विमल पटेल का बताया जा रहा है।

पहले नल बंद किया फिर काटी बिजली
पीडि़त दंपती ने बताया कि तीन महीने का चार हजार बिजली का बिल था और किराया मिलाकर कुल 14 हजार रुपए देने थे। मकान मालिक से कहा कि थोड़ा-थोड़ा करके रुपए चुका देंगे, लेकिन वो एक साथ पूरे पैसे मांग रहा था। परेशान करने के लिए पहले नल बंद कर दिया, कुछ दिन बाद बिजली काट दी। हमारे पास कोई दूसरा साधन नहीं था इसलिए वहीं रह रहे थे तो एक दिन कहा कि जब पैसे दोगे तभी रहने दूंगा और कमरे में ताला लगा दिया।

धर्मशाला में गोशाला का काम देख रहा पति
पीडि़त पति-पत्नी जगदीश मंदिर धर्मशाला में रह रहे हैं। पति धर्मशाला में गोशाला का कामकाज देख रहा है। वहीं पत्नी मंदिर में साफ-सफाई कर रही है। मंदिर प्रबंधन की ओर से दोनों को भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। आशा कौशल ने बताया कि उनकी एक बेटी भी है घर नहीं होने पर बेटी को कैसे रखते। इससे बेटी को बहन कर घर छोड़ दिया है।

वाहन नहीं मिलने से घर नहीं जा पाए पीडि़त
मूलत: इंदौर जिले के निवासी पति-पत्नी पांच साल से शहर में रहकर मजदूरी कर रहे हैं। अब अनलॉक में बसें बंद हैं और इंदौर में कोरोना का संक्रमण अधिक है। यही कारण है पीडि़त पति-पत्नी अपने घर भी नहीं जा पा रहे हैं। दूसरे जगह मजदूरी न मिलने से परिवार में आर्थिक परेशानी का सामना भी करना पड़ रहा है।

लॉकडाउन में काम धंधा बंद हो गया तो किराया नहीं दे पाए। मकान मालिक एक साथ किराया मांग रहा था नहीं दे पाए तो घर से निकाल दिया। अब धर्मशाला में ही रह रहे हैं। यहां दो टाइम का खाना मिल जाता है।
राजेश कौशल, पीडि़त

Corona virus
rajendra parihar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned