ट्रेनिंग के दौरान नए रेलकर्मी की मौत पर परिजन को मिलेगी नियुक्ति,

ट्रेनिंग के दौरान नए रेलकर्मी की मौत पर परिजन को मिलेगी नियुक्ति,
hoshangabad, railway board, training, railway employee

Rahul Saran | Updated: 06 Jun 2019, 11:39:03 AM (IST) Hoshangabad, Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

-रेलवे का बड़ा बदलाव..

-कर्मचारी संगठनों की मांग पर रेलवे का बड़ा निर्णय

होशंगाबाद। अब तक रेलवे में किसी भी विभाग में किसी भी पद पर काम करने वाले स्थाई रेल कर्मचारी की ऑन ड्यूटी या ऑफ ड्यूटी मौत होने पर उसके परिजनों को नौकरी देने का सिस्टम रहा है लेकिन अब रेलवे बोर्ड ने पिछले दिनों एक नया आदेश जारी कर दिया है। इस आदेश के बाद रेलवे में भर्ती होकर ट्रेनिंग ले रहे रेलकर्मी भी इसके दायरे में आ गए हैं यानी रेलवे में ट्रेनिंग ले रहे नए रेलकर्मियों की आकस्किम मौत होने पर रेलवे उनके परिजनों में से किसी एक को नौकरी पर रखेगी। इस आदेश के बाद जबलपुर जोन में ट्रेनिंग ले रहे रेलकर्मियों की एक बड़ी चिंता दूर हो गई है।

------

4 जून को आदेश जारीकर्मचारी संगठनों द्वारा रेलवे बोर्ड के सामने लगातार इस समस्या को रखा जा रहा था कि रेलवे में नए-नए भर्ती हुए पुरुष/महिलाओं की पदस्थापना के पहले ट्रेनिंग के दौरान आकस्मिक मौत पर उनके परिजन को अनुकंपा नियुक्ति का प्रावधान नही है। इससे वे परिवार बड़े संकट में आ सकते हैं। कई महीनों के विचार मंथन के बाद रेलवे बोर्ड ने दो दिन पहले 4 जून को इस संबंध में आदेश जारी कर दिए हैं। रेलवे बोर्ड से जारी आदेश क्रमांक आरबीई 90/2019 में कहा गया है कि वह रेलकर्मी जो रेगुलर नहीं किया गया है और टे्रनिंग ले रहा है उसकी मौत की स्थिति उसकी विधवा पत्नी या विधुर पति को या फिर पति या पत्नी द्वारा नामांकित किए गए बच्चे को नौकरी दी जाएगी।

-------

अभी यह है व्यवस्था

रेलवे में अभी जो सिस्टम है उसमें किसी रेगुलर रेलकर्मी की ऑन ड्यूटी या ऑफ ड्यूटी मौत होने के बाद कार्मिक विभाग उसके परिवार में जाकर संपर्क करता है। रेलकर्मी द्वारा पहले से नामांकित किए परिजन के दस्तावेज जुटाने के बाद उसका शैक्षणिक स्तर जांचा जाता है। उसके बाद उसके हिसाब से परिजन को ग्रुप सी या ग्रुप डी में नौकरी दी जाती है। अधिकतम ९० दिन में यह नौकरी पात्र परिजन को प्रदान कर दी जाती है।

-------

२ हजार से ज्यादा ट्रेनी आएंगे दायरे

रेेलवे में भले ही इस मुद्दे पर निर्णय लेने में लंबा वक्त लगा हो मगर देर से आए इस निर्णय ने हजारों परिवारों की चिंता दूर कर दी है। इस निर्णय के बाद जबलपुर जोन में ट्रेनिंग कर रहे करीब २ हजार नए रेलकर्मी उसके दायरे में आ गए हैं।

------

किसने क्या कहा

रेलवे बोर्ड से काफी दिनों से इस विषय में चर्चा चल रही थी। बोर्ड ने उस पर सहमति देकर पिछले दिनों आदेश भी जारी कर दिया है। रेलवे में नए आए हजारों बच्चों को इसका लाभ मिलेगा।

शिवगोपाल मिश्रा, जनरल सेकेट्री एआईआरएफ

बोर्ड से जोनल लेवल पर जो भी आदेश आते हैं उनका नियमानुसार पालन किया जाता है। अभी जो आदेश आया है उसके बारे में सुना जरुर है। इस निर्णय से नए रेलकर्मियों को परिवार की चिंता नहीं रहेगी।

प्रियंका दीक्षित, सीपीआरओ

---------

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned