मूंग खरीदी नहीं होने से गुस्साए किसानों ने हाइवे पर लगाया चक्काजाम

अन्नदाता की नाराजगी के बाद पुलिस बल ने पहुंचकर जाम खत्म कराया

By: sandeep nayak

Published: 21 Jul 2021, 12:08 AM IST

इटारसी/दादाजी वेयरहाउस में मंूंग खरीदी नहीं होने से आक्रोशित किसानों ने मंगलवार सुबह नेशनल हाइवे-6 9 रैसलपुर पर आधा घंटे चक्काजाम किया। सूचना पर पुलिस बल ने पहुंचकर जाम खत्म कराया। किसान नीलेश मालोनिया ने बताया कि पोर्टल बंद होने से खरीदी नहीं होने की सूचना कई किसानों तक नहीं पहुंची। किसान जब सुबह वेयरहाउस पहुंचे तो प्रबंधन नेे खरीदी से इंकार कर दिया। इससे नाराज किसान किसानों ने जाम कर विरोध दर्ज कराया। इससे हाईवे के दोनों ओर वाहनों की लाइन लग गई।

किसान बोले- बारिश में खराब हो सकती है मूंग
किसानों का कहना था कि बारिश शुरू हो गई है। ऐसे में मूंग खराब हो सकती है। इसलिए मूंग की खरीदी कर ली जाए, भले बिल बाद में दे दिए जाएं। किराए पर टैक्टर ट्रॉली लेकर फसल बेचने आए हैं। वहीं प्रशासन दलील दे रहा है कि तकनीकी समस्या के कारण मूंग खरीदी का पोर्टल आगामी 4-5 दिनों के लिए बंद है। इससे खरीदी में परेशानी आ रही है। दूसरी ओर समर्थन मूल्य की खरीदी की तारीख आज खत्म हो गई। किसानों को डर है उनकी फसल अब नहीं खरीदी जाएगी। किसानों की मांग प्रशासन मूंग की खरीदी की तारीख लिखकर दें। एसडीएम मदन रघुवंशी ने किसानों को भरोसा दिलाया कि पोर्टल शुरू होते ही उनकी मूंग खरीदी जाएगी।

पांच दिन से बंद मूंग की सरकारी खरीदी, केंद्रों पर किसान परेशान
होशंगाबाद. जिले में समर्थन मूल्य पर ग्रीष्मकालीन मूंग की खरीदी का काम ई-उपार्जन पोर्टल के अपडेट का काम चलने से पांच दिनों से बंद हैं। इससे किसान खरीदी केंद्रों से वापस लौट रहे हैं। शनिवार-रविवार को छुट्टी होने से खरीदी नहीं हुई थी। सोमवार-मंगलवार को भी खरीदी कार्य शुरू नहीं हो सका था। किसानों ने बताया कि बारिश के कारण टै्रक्टर-ट्रॉलियों से मूंग केंद्रों तक ले जाने में दिक्कतें आ रही हैं। एन वक्त पर खरीदी कार्य ठप्प रहने से मूंग नहीं बेच पा रहे। एसएमएस भी नहीं मिल रहे हैं। इधर, कृषि उप संचालक जितेंद्र सिंह ने बताया कि पोर्टल पर काम चल रहा है। इस वजह से शुक्रवार से खरीदी केंद्रों पर मूंग खरीदी का काम स्थगित है। जैसे ही पोर्टल अपडेट होकर चालू होगा खरीदी कार्य फिर से शुरू हो जाएगा। किसान भाई पोर्टल चालू होने और एसएमएस मिलने के बाद ही खरीदी केंद्रों पर अपनी उपज लेकर आएं।

sandeep nayak Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned