scriptFarmers need 46842 metric tonnes of urea now | किसानों को अभी 46842 मीट्रिक टन यूरिया चाहिए, स्टॉक में सिर्फ 3408 मीट्रिक टन | Patrika News

किसानों को अभी 46842 मीट्रिक टन यूरिया चाहिए, स्टॉक में सिर्फ 3408 मीट्रिक टन

-जिले में बीते एक सप्ताह से बनी हुई है यूरिया खाद की कमी, किसानों में आक्रोश -सिवनीमालवा के बाद होशंगाबाद मंडी के सामने हुआ प्रदर्शन और चक्काजाम
-कृषि विभाग ने बताया-आज एक रैक लगी, कल भी एक रैक यूरिया आएगा
-तहसीलदार व पुलिस टीम ने पहुंचकर किसानों को कराया शांत, हटवाया जाम
-किसानों ने बताया लाइन लगने व टोकन के बाद भी यूरिया खाद नहीं मिल रहा
-किसान संघ बोला-चेतावनी दे दी है, समस्या हल नहीं हुई तो गांवों में जलेंगे पुतले

होशंगाबाद

Published: December 18, 2021 11:52:45 am

देवेंद्र अवधिया की खास रिपोर्ट

होशंगाबाद. जिले में बीते 15 दिनों से यूरिया खाद का संकट बना हुआ है। प्रशासन व जिम्मेदार अफसर किसानों को समय पर उनकी जरूरत के हिसाब से यूरिया मुहैया नहीं करा पा रहे। गुरुवार को सिवनीमालवा में हुए उग्र प्रदर्शन व चक्काजाम के बाद शुक्रवार को होशंगाबाद में भी किसानों का गुस्सा फूट गया। किसानों जिला मुख्यालय की कृषि मंडी के सामने प्रदर्शन कर दिया और ट्रकों को भी मंडी गेट पर रोक लिया, जिससे परिवहन भी कुछ देर के लिए प्रभावित हुआ। मौके पर पहुंच तहसीलदार शैलेंद्र बड़ौनिया व पुलिस बल ने किसानों को समझाकर जैसे-तैसे शांत कराया। जिले के किसानों को चालू सीजन में अभी 46 हजार 842 मीट्रिक टन यूरिया खाद चाहिए, लेकिन मात्र 3408 मीट्रिक टन ही उपलब्ध है। इसके वितरण में मनमानी हो रही। प्रभावशाली बड़े किसानों को तो आसानी से यूरिया खाद मिल जा रहा, लेकिन छोटे-मध्यम किसान खाद के लिए हफ्ते-हफ्ते भर लाइन में लगकर परेशान हो रहे हैं। किसानों ने बताया कि टोकन मिलने के बाद भी खाद नहीं मिल पा रहा। हालत ये है कि खेत और घरों को छोड़कर खाद विक्रय केंद्रों व सोसायटियों रातें काटनी पड़ रही है। बता दें कि खाद-बिजली सहित अन्य समस्याओं को लेकर गुरुवार को भारतीय किसान संघ ने कलेक्टे्रट के समीप धरना-प्रदर्शन कर अधिकारियों को चेतावनी दी थी कि अगर किसानों की परेशानी हल नहीं हुई तो गांव-गांव में पुतले जलाए जाएंगे। संघ के पदाधिकारी इसके लिए ग्राम इकाइयों को सक्रिय करने में जुट गया है।

103000 एमटी में से मिला 56158 एमटी यूरिया
कृषि विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक इस बार के वर्ष 2021-22 के रबी सीजन के लिए यूरिया खाद का लक्ष्य 1 लाख 3 हजार मीट्रिक टन किसानों की जरूरत के हिसाब से तय किया गया है। जिसमें से अब तक 56 हजार 158 मीट्रिक टन यूरिया ही होशंगाबाद जिले को रैक पाइंटों के जरिए मिल सका है। इसे डबल लॉक केंद्रों सहित सोसाटियों के माध्यम से किसानों को वितरित कराया जा रहा है।

जिले में 46 हजार 842 मीट्रिक टन यूरिया की कमी
जिले में यूरिया खाद की 46 हजार 842 मीट्रिक टन की कमी 17 दिसंबर तक की स्थिति में बनी हुई है। रैक देरी से लगने के कारण किसानों तक यूरिया नहीं पहुंच पा रहा, बीते एक सप्ताह से सोसायटियों व मार्कफेड के छह डबल लॉक गोदाम केंद्रों , चार एमएपी एग्रो के विकय केंद्रों सहित एक विपणन सहकारी समिति सहित निजी उर्वरक विक्रेताओं की दुकानों में यूरिया का स्टॉक ही नहीं है,जिसके कारण किसान लाइन लगकर और टोकन लेकर भटक रहे हैं।

चार से पांच दिन का इंतजार करना पड़ रहा
किसानों ने बताया कि यूरिया खाद नहीं मिल पा रही। चार से पांच दिनों तक विक्रय केंद्रों पर लाइन लगाकर खड़े रहना पड़ रहा है। इसके बाद भी बिना खाद लिए वापस गांव लौटना पड़ रहा है। चूंकि अभी रबी फसलों की देखभाल, सिंचाई-खाद की जरूरत है। पहले डीएपी खाद को लेकर परेशान रहे, अब यूरिया के लिए भी परेशान होना पड़ रहा है। हालत ये है कि घर से दो दिन का खाना भी साथ लाना पड़ रहा है। अधिकारी और विक्रय केंद्र के संचालक सिर्फ आश्वासन दे रहे। किसानों ने बताया कि गेहूं-चने की फसल को यूरिया की बेहद जरुरत है। यूरिया नहीं डालने से फसल की बढ़वार भी रूक रही है। जिससे पैदावार पर भी असर पड़ेगा।

टोकन नहीं मिलने से किसानों ने रोके ट्रक
होशंगाबाद जिला मुख्यालय की आईटीआई रोड किनारे स्थित कृषि उपज मंडी परिसर में एमपी एग्रो का खाद विक्रय केंद्र हैं. यहां शुरू से ही गड़बडिय़ों हो रही। टोकन के नाम पर किसानों को जबरन परेशान किया जा रहा है। तीन-तीन दिन तक किसान टोकन के लिए भटक रहे। जिन्हें टोकन दिया जा रहा उन्हें भी कई दिनों तक इंतजार करवाया जा रहा है। सुबह से शाम तक लाइन में लगने के बाद आखिरी में खाद नहीं है कहकर वापस लौटा दिया जा रहा। नाराज किसानों ने आज सुबह मंडी के गेट पर धान का परिवहन कर रहे ट्रकों को भी रोक दिया। किसानों ने जमकर नारेबाजी की और अधिकारियों से तुरंत युरिया खाद उपलब्ध कराने की मांग की।

अधिकारी व पुलिस बल पहुंचा मंडी में
किसानों के प्रदर्शन की सूचना के बाद शहर तहसीलदार शैलेंद्र बड़ौनिया सहित देहात थाना से पुलिस बल मौके पर पहुंचा। तहसीलदार ने किसानों से चर्चा की। किसानों ने यूरिया खाद के नहीं मिलने की समस्या से अवगत कराया। तहसीलदार बड़ौनिया ने फोन लगाकर कृषि अधिकारी, एमपी एग्रो सहित विपणन संघ के अधिकारियों से भी किसानों को यूरिया वितरण कराने को कहा। बड़ौनिया ने जैसे-तैसे किसानों को शांत कर प्रदर्शन को रूकवाया। मंडी गेट के सामने करीब 15-20 मिनिट तक किसानों का प्रदर्शन चलता रहा।

किसानों ने सड़क पर भी लगाया जाम
किसानों ने पहले खाद विक्रय केंद्र के सामने जमकर हंगामा किया। नारेबाजी करते हुए किसान मंडी के गेट पर पहुंच गए। यहां गेट के सामने की सड़क पर प्रदर्शन करने लगे। इस दौरान कुछ किसानों ने सड़क पर बैठकर रास्ते को भी जाम कर दिया। करीब 15 मिनिट तक यह जाम लगा रहा। जिससे दोनों तरफ वाहनों की लंबी कतार लग गई। पुलिस व प्रशासन की टीम ने किसानों को शांत कर सड़क से हटाया और आवागमन को शुरू कराया।

एक नजर में जिले में खाद की स्थिति
-वर्ष 2021-22 रबी सीजन का लक्ष्य: 103000 मीट्रिक टन
-आज दिनांक तक जिले को प्राप्त यूरिया: 56158 मीट्रिक टन
-आज जिले में उपलब्ध यूरिया की मात्रा : 4308 मीट्रिक टन
-जिले में आगामी रैक प्लान की स्थिति : एक रैक लगी, एक कल
-25 दिसंबर तक यूरिया की आवश्यकता : 10000 मीट्रिक टन
-31 दिसंबर तक यूरिया की आवश्यकता : 5000 मीट्रिक टन

ये है जिले में डीएपी खाद की स्थिति
-वर्ष 2021-22 रबी सीजन का लक्ष्य: 45700 मीट्रिक टन
-आज दिनांक तक जिले को प्राप्त डीएपी: 40773 मीट्रिक टन
-आज जिले में उपलब्ध डीएपी की मात्रा : 5283 मीट्रिक टन

ये है जिले में एनपीके खाद की स्थिति
-वर्ष 2021-22 रबी सीजन का लक्ष्य: 1500 मीट्रिक टन
-आज दिनांक तक जिले को प्राप्त डीएपी: 7594 मीट्रिक टन
-आज जिले में उपलब्ध डीएपी की मात्रा : 492 मीट्रिक टन

प्रशासन का दावा-तीन रैक यूरिया जल्द मिलेगा
प्रशासन ने दावा किया है कि आगामी दो दिन में तीन रैक यूरिया जिले को उपलब्ध हो जाएगा। जिसमें 2 रैक यूरिया इटारसी रैक पाइंट पर आईपीएल की 2600 मीट्रिक टन एवं कोरोमंडल की 2650 मीट्रिक टन एवं एक रैक यूरिया आईपीएल कंपनी की 2600 मीट्रिक टन की पिपरिया रैक पाइंट पर लग रही है। जिले से जिले में आगामी दो दिनों में 7850 मीट्रिक टन यूरिया प्राप्त हो जाएगा।

इनका कहना है...
जिले में यूरिया की आपूर्ति के लगातार शासन स्तर से प्रयास किए जा रहे हैं। शुक्रवार को एक रैक मिली है, एक ओर रैक कल आएगी। विक्रय केंद्रों पर यूरिया खाद पहुंचाकर किसानों को इसका वितरण कराने के प्रयास जारी है। जिले में 3408 मीट्रिक टन यूरिया उपलब्ध है। खाद की कमी नहीं है। वितरण व्यवस्था को सुधरवाया जा रहा है।
-जेआर हैडाऊ, कृषि उप संचालक होशंगाबाद

हमने कल के अपने आंदोलन में साफ-साफ चेतावनी दी है कि अगर किसानों की खाद-बिजली की समस्या को जल्द ही हल नहीं किया गया तो गांव-गांव में पुतले जलाए जाएंगे। इसकी जिम्मेदारी प्रशासन और खुद अधिकारियों की रहेगी। किसान खेत छोड़कर खाद के लिए परेशान हो रहा है। व्यवस्था में जल्द सुधार होना चाहिए।
-शिवमोहन सिंह, संभागीय प्रचार प्रमुख भारतीय किसान संघ होशंगाबाद

किसानों को अभी 46842 मीट्रिक टन यूरिया चाहिए, स्टॉक में सिर्फ 3408 मीट्रिक टन
किसानों को अभी 46842 मीट्रिक टन यूरिया चाहिए, स्टॉक में सिर्फ 3408 मीट्रिक टन

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकाCash Limit in Bank: बैंक में ज्यादा पैसा रखें या नहीं, जानिए क्या हो सकती है दिक्कतSchool Holidays in January 2022: साल के पहले महीने में इतने दिन बंद रहेंगे स्कूल, जानिए कितनी छुट्टियां हैं पूरे सालVideo: राजस्थान में 28 जनवरी तक शीतलहर का पहरा, तीखे होंगे सर्दी के तेवर, गिरेगा तापमानJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 24 January 2022: कुंभ राशि वालों की व्यापारिक उन्नति होगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

Punjab Election 2022: गठबंधन के तहत BJP 65 सीटों पर लड़ेगी चुनाव, जानिए कैप्टन की PLC और ढींढसा को क्या मिलाराष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के विजेताओं से पीएम मोदी ने किया संवाद, 'वोकल फॉर लोकल' के लिए मांगी बच्चों की मददब्रेंडन टेलर का खुलासा, इंडियन बिजनेसमैन ने किया ब्लैकमेल; लेनी पड़ी ड्रग्ससंसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितकर्नाटक में कोविड के 50 हजार नए मामले आने के बाद भी सरकार ने हटाया वीकेंड कर्फ्यू, जानिए क्या बोले सीएमसीएम योगी की जीत के लिए उज्जैन के श्मशान में हुई तंत्र साधना, बोले बाबा बमबमनाथ योगी का आना ज़रूरीगणतंत्र दिवस के ठीक बाद Tata ग्रुप की हो जाएगी एयर इंडियाICC Awards: शाहीन अफरीदी बने क्रिकेटर ऑफ द ईयर, पाकिस्तान के 3 खिलाड़ियों ने मारी बाजी
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.