आग की लपटों ने लील ली जीवन की कमाई

ग्राम नगतरा में मकान में लगी आग, एक लाख रुपए का नुकसान

By: Amit Billore

Published: 13 Mar 2018, 08:11 PM IST

सोहागपुर। ग्राम नगतरा में 12 मार्च रविवार की रात करीब डेढ़ बजे अचानक एक मकान में आग लग गई, जिसे सोहागपुर की दमकल के द्वारा ग्रामीणों के भरपूर सहयोग से बुझाया गया है। आगजनी से पीडि़त चार परिवारों को लगभग एक लाख रुपए का नुकसान हुआ है। पुलिस में दर्ज प्रकरण अनुसार फरियादी मेहरबान सिंह पुत्र सरदार सिंह ने रिपोर्ट दर्ज कराई है। जिसमें उल्लेख है कि रविवार की रात करीब 11 बजे चार भाईयों के संयुक्त परिवार अपने-अपने लगे हुए घरों में भोजन उपरांत सोने चले गए। रात करीब डेढ़ बजे मेहरबान का पुत्र नीलेश जो कि छत पर सो रहा था, आग लगने की जानकारी देते हुए चिल्लाने लगा। जैसे तैसे घर में गहरी नींद में सो रहे लोग बाहर भागे तब तक ग्रामीण भी मौके पर पहुंच गए थे। आगजनी की सूचना नप को तथा पुलिस को दी गई। मौके पर सोहागपुर नप की दमकल भी पहुंची तथा आग बुझाई गई। लेकिन तब तक चार भाईयों मेहरबान ङ्क्षसह, रमेश, शेरसिंह व बलवान के परिवारों को एक लाख रुपए का नुकसान हो गया था। रिपोर्ट अनुसार रमेश के मकान में आगजनी से 80 हजार रुपए तथा मेहरबान, बलवान व शेरसिंह के मकानों में संयुक्त रूप से करीब 20 हजार रुपए का नुकसान हुआ है।

शॉपिंग सेंटर की कॉटन में धधकी आग
सारनी. मीटर में स्पार्किंग से रविवार रात शॉपिंग सेंटर के सलीम कॉटन वक्र्स में आग धधक उठी। दुकान संचालक कुछ समझ पाते तब तक आग बेकाबू हो गई और पूरी दुकान को चपेट में ले लिया। समय रहते दमकल नहीं पहुंचने पर आसपास के व्यापारियों और रहवासियों ने अपने घरों से पानी लाकर आग पर काबू पाने की कोशिश की। इसके बाद पहुंची मप्र पॉवर जनरेटिंग कंपनी की दमकल ने आग पर पूरी तरह नियंत्रण पाया।
बताया जाता है कि समय रहते आग नहीं बुझाई जाती तो आसपास के कई दुकानें आग की चपेट में आने से इनकार नहीं किया जा सकता। सलीम काटर्न वर्कस के संचालक सलीम खान बताते हैं कि आग की लपटें 20 से 25 फीट ऊंचाई तक देखी जा सकती थी। इसी से अंदाजा लगाया जा सकत है कि आग कितनी भीषण रही होगी।
उन्होंने बताया कि आग बुझाने और परिवार को बचाने में सबसे बड़ा योगदान पुलिस के जवान संतोष मालवीय, भूपेन्द्र पटेल, कैलाश हरणे और विनोद साहू का रहा। इन जवानों ने सबसे पहले दुकान के ऊपर मकान में मौजूद परिवार के सदस्यों को निकालने में मदद की। हालांकि बेकाबू आग को देख मेरी बेटी प्रथम तल से नीचे कूद पड़ी। जिससे उसके पैर में चोट पहुंची है। इस घटना में करीब 3 लाख रुपए का नुकसान हुआ है। खासबात यह है कि इस दुकान में आग लगने की 9 वीं घटना है। जबकि मुआवजा कभी नहीं मिला।

Amit Billore Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned