ऐसे बनाएं इकोफ्रेंडली गणेश सुपारी गणेश

वह भी महज ५० रुपए तक के खर्च में बनी यह प्रतिमा बेहद आकर्षक है इसे आप अपने पूजा घर में साल भर रख सकते हैं।

By: Shakeel Niyazi

Updated: 22 Aug 2017, 02:13 PM IST

पिपरिया। पर्यावरण के प्रति जागरुकता संदेश देने हर कोई प्रयासरत है। खासकर हर तरफ गणेशउत्सव को लेकर ऐसी ही इकोफ्रेंडली गणेश प्रतिमाएं बनाई जा रही हैं। इन सबसे बीच पिपरिया के एक युवा ने घर में सुपारी के गणपति की सुंदर प्रतिमा तैयार की है। वह भी महज ५० रुपए तक के खर्च में बनी यह प्रतिमा बेहद आकर्षक है इसे आराम आप अपने पूजा घर में साल भर रख सकते हैं। विसर्जन करने पर नदी भी प्रदूषित नहीं होगी।


बैनर्जी कॉलीनी निवासी युवा हर्षित शर्मा ने इस साल गणेश चतुर्थी के लिए दस सुपारियों को कलेक्टर कर उसे गणेश प्रतिमा का सुदंर रुप दिया है। हर्षित ने बताया कि केमिकल और पीओपी से तैयार प्रतिमाओं के विसर्जन से नदी का जल प्रदूषित होता है यह समाज के लिए घातक है।

 

ऐसे बनते हैं सुपारी गणेश
मां नर्मदा पूज्यनीय हैं इसलिए हम सभी को उनका ध्यान रखना चाहिए। भगवान गणेश भी इसलिए बीच का रास्ता निकाला है। सुपारी गणेश बनाने के लिए उन्होंने मिट्टी का मंच तैयार किया, इसके बाद दस सुपारियों को फेवीस्टिक से गणेश मूर्ति के आकार में एकएक कर जोड़ दिया। और देखते ही देखते सुपारी के गणपति प्रतिमा को तैयार हो गई है। प्रतिमा को देख अनेक लोगों ने हर्षित को प्रतिमा बनाने के आर्डर भी दिए है आधा दर्जन प्रतिमाएं लोग ले जा चुके है।

ईको फ्रेंडली गणेश जी बनाए
होशंगाबाद. वैश्य महासम्मेन मध्यप्रदेश की होशंगाबाद के सदस्यों ने भविष्य विशेष विद्यालय में जाकर बच्चों को मिट्टी के गणेशजी बनाने की जानकारी दी। इस मौके पर वैश्य महासम्मेलन प्रदेश महामंत्री एवं इनरव्हील क्लब अध्यक्ष नीरजा फौजदार ने कहा कि हम मां नर्मदा के प्रदूषण को रोक पाएंगे। इस मौके पर जिला अध्यक्ष उषा अग्रवाल, शारदा जैन, अनिता अरूण जैन, तृप्ति श्रीवास्तव, वंदना मौजूद रही। संस्था संचालिका अफरोज खान एवं योगेश ने सभी का आभार माना।

Show More
Shakeel Niyazi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned