महिला को घर से घसीटकर लाए फिर गैंग रेप के बाद मिट्टी का तेल डालकर जिंदा जला दिया था

कोर्ट ने तीन आरोपियों को दी अंतिम सांस तक जेल की सजा

By: sandeep nayak

Published: 27 Nov 2019, 01:50 PM IST

पिपरिया/ एक महिला को गैंग रेप के बाद आरोपियों ने जिंदा जला दिया गया था। घटना के छह साल बाद कोर्ट ने आरोपियों को अंतिम सांस तक जेल में रहने की सजा दी है। घटना मध्यप्रदेश के होशंगाबाद जिले के पिपरिया की है। प्रथम अपर सत्र न्यायाधीश आदेश कुमार जैन ने मंगलवार को बनखेड़ी ब्लॉक में हत्या और सामूहिक बलात्कार के मामले के तीन आरोपियों अंतिम सांस तक कारावास की और उनकी महिला साथी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। अपर लोक अभियोजक सुनील कुमार चौधरी ने बताया कि 31 अगस्त 2013 की घटना है। बनखेड़ी ब्लाक के डूमर गांव में आरोपियों ने महिला को घर से घसीटकर लाए और पहले उसके साथ बलात्कार किया फिर मिट्टी का तेल डालकर जिंदा जला दिया था। इस मामले में न्यायालय ने आरोपी हामिद, इशाक और रहीस को अंतिम सांस तक दोहरा आजीवन कारावास तथा आरोपी महिला कनीजा बी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। एक नाबालिग आरोपी भी है, इसका प्रकरण बाल न्यायालय में लंबित है। सजा सुनते ही कटघरे में खड़े आरोपी रोने लगे।

यह था मामला
पीडि़त महिला सिमरिया जिला रायसेन में रहती थी। उसका मायका डूमर है। वह रझाबंधन त्योहार के लिए 31 अगस्त 2013 से करीब 15 दिन पहले आई थी। घटना के दिन उसकी मां दोपहर 2 बजे कहीं गई थी, घर में सब बच्चे थे। करीब 3 बजे पड़ोस में रहने वाले हमीद मुसलमान एवं उसी पत्नी कनीजा एवं उनके लड़के ईशाक, रहीश तथा आसिफ आए और गाली गलौज की। इसके बाद मारपीट की और घर से खींचकर उनके घर के सामने आंगन में ले गए। जहां हमीद के लड़कों ने घर के अंदर से मिट्टी का तेल लाकर जान से मारने की नीयत से उसके ऊपर डालकर आग लगा दी। आसपास के लोगों ने पहुंचकर आग बुझाई थी। घटना के समय बनखेडी में तनाव का माहौल रहा था। घटना के बाद स्थल पर तीन थानों की पुलिस मौजूद रही थी। आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद स्थिति नियंत्रित हुई थी।

फैसले में यह कहा...
फैसले में एडीजे ने कहा कि हत्याकांड और बलात्कार की दिनदहाड़े घटना से समाज में दहशत का माहौल बना है। आरोपी किसी रियायत के हकदार नहीं है।

sandeep nayak Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned