एसडीएम दफ्तर में तालाबंदी करेगी गोंगपा

एसडीएम दफ्तर में तालाबंदी करेगी गोंगपा

sandeep nayak | Publish: Mar, 14 2018 07:05:01 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

गोंगपा ने पिपरिया से सांडिया तक निकाली जनचेतना यात्रा मां नर्मदा पूजन की आमसभा

पिपरिया . गोंडवाना गणतंत्र पाटी ने बुधवार कोनर्मदा बचाओ जनचेतना यात्रा एवं आदिवासी गरीब किसानों का शोषण रोकने पिपरिया से सांडिया तक 20 किमी तक जनचेतना पद यात्रा निकाली। सांडिया नर्मदा तट पर मंदिर में पूजन अर्चन के बाद विशाल आम सभा का आयोजन किया।
गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के सैकड़ों कार्यकर्ता बुधवार सुबह पिपरिया पचमढ़ी रोड स्थानीय विश्राम गृह में एकत्र हुए। राष्ट्रीय अध्यक्ष, प्रदेश अध्यक्ष, जिलाध्यक्ष के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने पदयात्रा शुरू की। खापरखेड़ा में यात्रा का सरपंच के नेतृत्व में स्वागत किया गया। यात्रा के दौरान जगह-जगह पदाधिकारी कार्यकर्ता एकजुटता का संदेश देते नजर आए। राष्ट्रीय अध्यक्ष हीरासिंह मरकाम ने कहा आदिवासी, गरीब किसान विपरीत मौसम में मेहनत करता है देश को समृद्ध बनाता है लेकिन उसकी माली, साामजिक हालत आज भी दयनीय है। सरकार स्मार्ट सिटी बनाने के दावे करता है गोंगपा कार्यकर्ता और किसान संगठित हों हम स्मार्ट किसान, गांव, शहर बनाएं सरकार केवल गुमराह करती है मदद नहीं। राष्ट्रीय अध्यक्ष ने नर्मदा नदी से रेत उत्खनन और दोहन के खिलाफ आक्रोश जताते हुए कहा इसके संवद्र्धन की घोषणाए होती हैं लेकिन उस पर अमल नहीं। रेत माफिया का बोलबाला है रसूखदारों के खिलाफ कोई कार्रवाई नही होती। प्रदेश अध्यक्ष हरप्रताप तिलगांम सहित अनेक पदाधिकारियों ने सभा को संबोधित किया।

एसडीएम कार्यालय में ५ अप्रैल को तालाबंदी की घोषणा
आदिवासी समाज के प्रति प्रशासन शिकायतों के बाद कोई कार्रवाई नहीं करता व संवेदनहीनता बरती जा रही है इसके खिलाफ बड़ा आंदोलन आगामी ५ अप्रैल को किया जाएगा। जिलाध्यक्ष राजेश कुमार उइके ने कहा एसडीएम कार्यालय के उदासीन रवैये के चलते एसडीएम कार्यालय में गोंगपा तालाबदी कर अपना आक्रोश जताएगी।

कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित
नर्मदा किनारे गोंगपा ने कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित किया। पदाधिकारियों ने गांव-गांव में गोंगपा की सदस्यता बढ़ाने एवं हकों की लड़ाई के लिए संगठन को मजबूत बनाने के टिप्स दिए। पदाधिकारियों ने कहा राजनैतिक दल विशेष तबके तक ही विकास और समृद्धि पर काम ? करते हैं दशकों से गरीब आदिवासी समाज देश को समृद्ध बनाने हाड़ तोड मेहनत कर रहा है लेकिन आज उसकी स्थिति दयनीय है इसे हमें मिलकर बदलना होगा।

Ad Block is Banned