हेल्थ डिपार्टमेंट की यह लेडी अफसर लेती थी रिश्वत, लोकायुक्त टीम ने इस तरह पकड़ा


रिश्वत लेते महिला अधिकारी के कर्मचारी को लोकायुक्त टीम ने धरदबोचा

एएनएम से दस हजार रुपये रिश्वत लेने का मामला

होशंगाबाद। बाबई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की बीएमओ डाॅ.शोभना चौकसे पर भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत कार्रवाई की गई है। डाॅ.शोभना ने एएनएम का वेतन देने के लिए दस हजार रुपये रिश्वत मांगा था। रिश्वत की रकम लेते वक्त बीएमओ का कर्मचारी मिलन लोकायुक्त पुलिस के हत्थे चढ़ गया। बीएमआे डाॅ.शोभना व कर्मचारी मिलन के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत कार्रवार्इ सुनिश्चित की गर्इ है।

दोपहर में भोपाल से आई टीम ने मारा था छापा

बाबई सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की बीएमओ डाॅ.शोभना चौकसे की क्लिनिक पर शनिवार की दोपहर में लोकायुक्त की एक टीम भोपाल से होशंगाबाद पहुंची। 12 सदस्यीय इस टीम ने बीएमओ के कर्मचारी मिलन यादव को दस हजार रुपये रिश्वत एएनएम से लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार किया। एएनएम यह रकम बीएमओ डाॅ.शोभना चौकसे के कहने पर दे रही थी। आरोप है कि डाॅ.शोभना ने एएनएम का वेतन निकालने के लिए रिश्वत के दस हजार रुपये मांगे थे।

Read this also: उपचुनाव के पहले बीजेपी में घमासानः पूर्व मंत्री बोले, भाजपा में जो भितरघात करता वह आगे बढ़ता

डीएसपी वीके परिहार ने बताया बीएमओ डॉ. शोभना चौकसे एएनएम से उसका पिछला वेतन निकालने के लिए 10 हजार रुपये की मांग कर रही थी। पीड़ित ने इसकी शिकायत लोकायुक्त कार्यालय में 3 जून को किया था। आवश्यक पड़ताल के बाद शनिवार को लोकायुक्त की टीम ने बीएमओ डॉ. चैकसे के कर्मचारी मिलन को रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा है।
टीम का नेतृत्व कर रहे परिहार ने बताया कि यह राशि मिलन को देने के लिए डॉ. शोभना चैकसे ने फरियादी से कहा था। उन्होंने बताया कि डॉ. शोभना और मिलन के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत कार्रवाई की जा रही है।

Read this also: कौन बनेगा करोड़पति का आज देना था आॅडिशन, रात में आया हर्ट अटैक

Show More
धीरेन्द्र विक्रमादित्य
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned