उपयंत्री ने किस्त जारी करने के बदले रिश्वत लेते कर्मचारी को रंगे हाथ पकड़ा

एक अन्य हितग्राही ने दस हजार रुपए मांगने की मुख्य सचिव से की शिकायत

By: sandeep nayak

Updated: 10 Mar 2019, 11:35 AM IST

बनखेड़ी। प्रधानमंत्री आवास योजना किस्त वितरण में रिश्वतखोरी का खेल चल रहा है। एक हितग्राही को डेढ़ हजार रुपए रिश्वत लेते हुए खुद उपयंत्री ने रंगे हाथ पकड़ लिया। वह किस्त जारी करने के बदल हितग्राही से पैसा ले रहा था। बावजूद अब तक उस पर कार्रवाई नहीं की गई। एक अन्य हितग्राही ने भी मुख्य सचिव को शिकायत कर प्रधानमंत्री आवास योजना में दस हजार रुपए रिश्वत मांगे जाने का आरोप लगाया है।
उपयंत्री अशोक तिवारी ने गत दिनों कंप्यूटर ऑपरेटर गुलाब साहू को हितग्रही राकेश बाथरे से डेढ़ हजार रुपए रिश्वत लेते हुए पकड़ा। बाथरे ने उनसे रिश्वत मांगने की शिकायत की थी, इस पर उन्होंने ट्रेप कर लिया। उसके फोटोग्राफ भी खींचे। जबकि कंप्ूयटर ऑपरेटर गुलाब साहू का कहना है कि हितग्राही ने उसकी टेबिल पर आकर रुपए रख दिए थे। वह अपना काम कर रहा था उसी दौरान उपयंत्री ने आकर सुनियोजित ठंग से आरोप लगा दिया।

ऑपरेटर के अनुसार उसने इंजीनियर अशोक तिवारी के कहने पर पिछले वर्ष स्वीकृत प्रकरण जिसमें 1 लाख की राशि इंजीनियर के कहने पर ही हितग्राही के खाते में डाली थी। बाद में खुद तिवारी ने ही उस खाते से राशि आहरण पर रोक लगा दी। ऑपरेटर का कहना है कि इंजीनियर के कहने पर ५० हजार की दूसरी किस्त राकेश पात्रे के खाते में डाली गई मुझे षडयंत्र के तहत फंसाया जा रहा है। सीएमओ ने लिपिक सतीश राय और ऑपरेटर के खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है।

गड़बड़ी के यह भी दो मामले
द्य सुमेर सिंह बरैया ने मुख्य सचिव को शिकायत भेज एक परिषद कर्मचारी पर 10 हजार की रिश्वत लेकर २४ हजार की आवास राशि स्वीकृति का आरोप लगाया है।
द्य एक अन्य डॉक्टर जो बंगाल का रहने वाला है नगर परिषद की मिलीभगत से उसे भी 24 हजार की पीएम आवास स्वीकृत कर दी गई।
नोटिस जारी करेंगे
&कप्यूटर ऑपरेटर,लिपिक को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण लेंगे। मामले की शूक्ष्म जांच कर जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।
राजेन्द्र शर्मा, सीएमओ
जांच की जाएगी
&पीएम आवास प्रकरणों में गड़बड़ी हुई है तो जांच कर कार्रवाई प्रस्तावित करेंगे।
काशीबाई पटेल,
अध्यक्ष नगर परिषद
मेरे पास फोटो हैं
&ऑपरेटर को मैने रंगे हाथों रिश्वत लेते पकड़ा नोट के नंबर एवं फोटो मेरे पास उपलब्ध है।
अशोक तिवारी, उपयंत्री

sandeep nayak Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned