मंडी समिति की सामने झुकी सचिव, खोला तौलकांटा

मंडी समिति की सामने झुकी सचिव, खोला तौलकांटा

sandeep nayak | Publish: Mar, 14 2018 08:30:19 PM (IST) Hoshangabad, Madhya Pradesh, India

अध्यक्ष की सहमति के बिना सचिव ने सील किया था इलेक्ट्रिक तौलकांटा

होशंगाबाद। कृषि उपज मंडी में ४८ दिन से बंद इलेक्ट्रिक तौलकांटा आखिरकार १४ मार्च को खुल गया। मंडी सचिव नीलकमल वैद्य द्वारा मंडी अध्यक्ष की सहमति के बिना ही तौलकांटे को सील किया था। मंडी अध्यक्ष जानकी मीना और सदस्यों द्वारा इस बात पर नाराजगी जताई गई साथ ही २७ फरवरी को हुई मंडी समिति की बैठक में सदस्यों ने उक्त प्रस्ताव को शून्य घोषित कर दिया। हालांकि बैठक के दौरान भी सचिव वैद्य अनुबंध की शर्तों का हवाला देती रहीं। मंडी सदस्यों ने इसकी शिकायत मंडी बोर्ड के प्रबंधन संचालक फैज अहमद किदवई से कर दी। मामले में हस्तक्षेप करते हुए एमडी किदवई ने मंडी सचिव को फटकार लगाई साथ ही तौलकांटा संचालक से कुछ राशि जमा करवाकर तौलकांटा शुरू करने के लिए निर्देशित किया। इसके बाद मंडी सचिव नीलकमल वैद्य ने अध्यक्ष जानकी रामदास मीना सहित अन्य सदस्यों की उपस्थिति में बुधवार को इलेक्ट्रिक तौलकांटे की सील खोली।

 

 

प्रस्ताव में असहमति पर भी हुआ विवाद
मंडी सचिव द्वारा बुधवार को भले ही तौलकांटे की सील खोल दी हो लेकिन सचिव वैद्य ने समिति के इस प्रस्ताव पर असहमति जताई है। सचिव की उक्त प्रस्ताव पर असहमति जताने पर भी सदस्यों ने बुधवार को आपत्ति दर्ज करायी। सदस्यों का कहना है कि २७ फरवरी की बैठक के दौरान जब उक्त प्रस्ताव को शून्य घोषित किया गया तब मंडी सचिव ने असहमति नहीं जताई लेकिन बाद में लिखी गई प्रोसेडिंग मेें प्रस्ताव में असहमति लिख दिया। मंडी सदस्य व अध्यक्ष द्वारा पहले भी मंडी सचिव द्वारा मनमानी करने का आरोप लगाया गया है।

 

नहीं शुरू हो पाई थोक सब्जी मंडी

कृषि उपज मंडी में नवीन थोक सब्जी मंडी भी बनकर तैयार हो गई है। मंडी प्रबंधन द्वारा व्यापारियों को प्लाट का भी आबंटन हो गया है। सूत्रों की माने तो थोक सब्जी मंडी के मुद्दे पर भी मंडी समिति व सदस्यों में एक राय नहीं हैं। इस वजह से सब्जी मंडी शिफ्ट करने का पिछड़ता जा रहा है। हालांकि प्रबंधन का कहना है कि व्यापारियों को प्लाट आबंटित किए गए हैं। अब जो व्यापारी राशि जमा करेगा उसे अपने प्लाट में निर्माण की अनुमति प्रदान की जाएगी।
इनका कहना है

प्रबंध संचालक के निर्देश पर तौलकांटे की सील खोली गई है। इसके लिए तौलकांटा संचालक को बकाया राशि को छह महिने में जमा करने के निर्देश भी प्रबंध संचालक ने दिए हैं।
नीलकमल वैद्य, मंडी सचिव

Ad Block is Banned